वर्जिन गर्ल शालिनी की सील तोड़ी

ये कहानी एक साल पहले की है जब में मीटिंग के लिए दिल्ली से मुंबई गया था। हम एक फाइव स्टार होटल में रुके थे ओर लगभग वहाँ 55 लोग थे जिसमें 3 लडकिया थी। उसमें से एक लड़की थी शालिनी जबकि दिल्ली से ही साथ में गयी थी। वो मेरी कोलीग थी तो जान पहचान थी ओर कभी कभी में उस पर फ़्लर्ट करता रहता था। क्योंकि में उसका सीनियर डेठ वो हमेशा हंस देती थी। उसकी उमर 22 साल थी। उसके हाइट 5’3 के आस पास ओर फिगर 32 26 30 का था।
वो बहुत स्लिम ट्रिम ओर आक्टिव थी। में हमेशा उसकी चुच्चे च्छुना चाहता था ओर मान में हमेशा सोचता था की इसकी चुत कितनी प्यारी, कितनी मुलायम होगी। कई बार मैंने अपना माल ये सोचकर ही निकाला है। मेरी हाइट 5’11 है। लंड का साइज इतना है की किसी भी चुत का भोसड़ा बना सकता है। फेयर कलर ओर इंतजार 70 है मतलब ई आम नोट ओबीस। स्टोरी पर वापस आता हूँ।
हम सभी को डबल शेरिंग पर रूम मिले थे और शी वाज़ अलोन बिकॉज़ टोटल 3 गर्ल्स थी तो एक को अकेले मिलना ही था। हम शाम के लगभग 5 बजे पहुंचे थे ओर फिर हम दिल्ली वाले सभी 12 लोगों ने घूमने का प्रोग्राम बनाया ओर हम जुहू ओर मराइन ड्राइव घूमकर लगभग 11 बजे रात में वापस आए। इस बीच मैंने शालिनी से ढेर सारी बातें की ओर बीच बीच में फ़्लर्ट भी करता रहा बीच शी वाज़ इग्नोरिंग ओर ट्राइयिंग तो इग्नोर। होटल वापस आकर हमने डिनर किया ओर अपने अपने रूम में चले गये।
सुबह 9 बजे मीटिंग शुरू होनी थी। रूम में पहूचकर मैंने चेंज किया। मेरा रूम पार्ट्नर गुजरात से था। थोड़ी देर उसे बातें की ओर फिर वो सो गया। मुझे नींद नहीं आ रही थी ओर बार बार शालिनी की चुत दिमाग पर हावी हो रही थी। मैंने अपना मोबाइल उठाया ओर उसे एक मेसेज किया। में- स्लेप्ट?? शालिनी- नो। नींद नहीं आ रही। में- वॉट हॅपंड? शालिनी- ई हॅव नेवेर स्लेप्ट अलोन। आइदर ई स्लीप विद मम्मा ओर सिस्टर।
में- ई कॅन सॅक्रिफाइस और बिकम युवर मम्मा ओर सिस फॉर वन नाइट इफ़ यू पर्मिट। उसका कोई रिप्लाइ नहीं आया और ई थॉट शी हंस गॉट आंग्री। मेरा खड़ा लंड तुरंत गिर गया। लगभग में सोने वाला था तभी एक मेसेज आया। जैसे ही मैंने देखा ये शालिनी का था ओर लिखा था 808। में तुरंत उठा लेकिन उसे भी पहले मेरा लौंडा उठ चुका था। शायद ये समझ गया था की आज ये जन्नत के दर्शन करके उसमें एंट्री करने वाला है।
इन नेक्स्ट 3 मिनिट्स ई रीच्ड अट 8त फ़्लोर ओर मैंने डोरबेल बजाई। शालिनी ने दूर ओपन किया। शी वाज़ लुकिंग आसम इन पिंक नाइटी। मान तो किया बस कहा जाओ अभी इसे। पर मैंने कंट्रोल किया ओर बोला क्या इरादा है मामा चाहिए या सिस्टर। शी स्माइल्ड नौघिटली और साइड आप बताओ क्या बनना है मम्मा को में छपत्ति हूँ ओर सिस्टर मुझसे चिपट के सोती है। मैंने बोला तो फिर सिस्टर ही बनना अच्छा है ओर कहकर बिना एक सेकेंड की देरी किए उसे बाँहों में जकड़ लिया। में उसे बहुत ज़ोर से पकड़े हुए था।
मैंने उसे गाल पर किस किया। वो पूरी लाल हो रही थी। मैंने बारे प्ययर से अपने होंठ उसके होंठ पर रख दिए। ऊप्स लगा जैसे में गुलाब की पंखुड़ी पर लिप्स लगा रहा हूँ। उसकी आंखें बंद हो गैट ही। में धीरे धीरे उसके नाज़ुक होंठ एक के करके पी रात हां।
वो भी अब रेस्पॉंड कर रही थी। उसने अपना मुंह खोला ओर मेरी पूरी टंग उसके मुंह में समा गई। हमें पता ही नहीं चला कब मैंने उसे बेड पर लिटा दिया था।मेरा एक हाथ उसके सर के नीचे था ओर दूसरा हाथ उसके बूब्स पर गया ओर में नाइटी के ऊपर से ही बारे प्यार से सहलाने लगा। वो तड़प सी रही थी। धीरे धीरे मेरा हाथ उसकी नवल के पास गया ओर उसकी नाइटी की बेल्ट खोल दी। में हल्का सा उठा ओर पर्दे की तरह दोनों हाथों से उसकी नाइटी दोनों साइड से हतायी। आस। मैंने एक भोर गहरी साँस ली ओर बस उसे कुछ देर देखता हे रहा। उसने पिंक ब्रा ओर जालीदार पिंक पैंटी पहनी थी।
वो शायद मेरी जिंदगी का सबसे सुन्दर दृशय था। उसकी आइज़ बंद थी। मैंने अपने कपड़े जल्दी से उतरे ओर ओर उसके हाथ में जलता हुआ रोड पकड़ा दिया ये बताने के लिए की आज यही 8 इंच का गरम रोड जैसा फौलादी लौंडा तेरी चुत को फाड़ने वाला है। वो सकपका गयी ओर जल्दी से हाथ हटाया। मैंने फिर उसका हाथ रख दिया। वो बोली ये तो बहुत ही गरम है ओर इतना बड़ा है।
मैंने कहा जान चिंता ना करो ये तेरी चुत में जाकर छोटा हो जाएगा। वो फिर शर्मा गयी शायद पहली बार अर्से किसी ने बोला था उसे। मैंने उसकी ब्रा निकली ओर फिर एक के करके उसके निपल्स चूसने लगा ओर बीच बीच में छूते भी काट रहा था। वो अब बहुत तड़प रही थी। बिन पानी के मछली की तरह। में धीरे धीरे निपल्स से नवल ओर फिर उसकी चुत के ऊपर के हिस्से में किस करता हुआ फुचा। उसने दोनों पर टाइट्ली बंद किए थे।
मैंने बारे प्यार से उसके पर खोले ओर उसके दोनों पैरों की बीच में आ गया। अब मैंने पहली बार उस जन्नत के दर्शन किए। दोस्तों क्या चुत थी वो। छोटे छोटे रेशमी मुलायम बाल के बीच में वो पिंक चुत शाइन कर रही थी। शाइनिंग शायद उस अमृत की छोटी छोटी बूँदो के कारण थी जो शायद अभी बाहर आय था। मैंने धीरे धीरे चुत को चाटना शुरू किया। वो अमृत की एक एक बंद पीकेर में अमर होना चाहता था। में अंकल गया अंकल गया ओर वो पागल हुए जा रही थी।
अब उसने मेरा सर पकड़ कर अपनी चुत में दिया हुआ था। उसने बहुत ज़ोर से मुझे पकड़ा ओर वो अकड़ रही थी शायद नदी के बहने का टाइम था। ओर उसने काफी सारा अमृत मुझे ओर दे दिया ओर में पूरा पी गया। मैंने उसको मेरा गरम रोड मुंह में लेन एक लिए बोला पर वो नहीं मानी ओर बोली जहाँ देने की जघ है वहाँ दे दो बस। अब इंतजार नहीं हो रहा। में उसके ऊपर आया अपने हाथ से अपने 2 इंच मोटे लंड का टॉप उस जन्नत के मुंह पर रखा ओर हल्का सा पुश किया। वो उछल पड़ी ओर बोली इतना लंबा तो अलग पर इतना मोटा ये नहीं जा पाएगा। प्लीज़ रहने दो ये मेरी बुरी हालत कर देगा। वैसे भी में पहली बॅया ऐसा कर रही हूँ।
मैंने सोचा की अगर इसका पहली बार है तो ब्लड आने का खतरा है ओर ऊए बेड श्हेट खराब कर देगा। इससे सुबह दिक्कत हो सकती है। मैंने उसे प्यार से गोद में उठाया ओर ज़मीन पर बिच्चे रेड कार्पेट पर प्यार से लिटा दिया। उसने पूछा क्या हुआ तो में बोला कुछ नहीं यहाँ आराम से होगा क्योंकि सर्फेस हार्ड है।
फिर दोबारा मैंने अपने लंड का सिरा उसकी कोमल चुत के मुंह पर रखा ओर एक मीडियम सा झटका दिया। वो तड़प गयी ओर बोली बाहर निकालो इसे अभी। प्लीज़ छोड दो मुझे। मैंने अपने होंठ उसके होंठ पर रख दिए ओर डीप स्मूच शुरू कर दी। जैसे ही वो थोड़ी सेट्ल हुई मैंने पूरे जोरों के साथ एक स्ट्रोक दिया ओर उसे जकड़ कर पकड़ लिया। उसकी चीख निकल पड़ी। उसकी आंखें नाम थी। शायद बहुत पेन हो रहा था।
पर मैंने बिना हिले बस उसे जकड़ कर पकड़े रहा। धीरे धीरे वो नॉर्मल हुई। मैंने गेंट्ली आगे पीछे करना शुरू किया। ग्रॅजुयली मेरी बढ़ता तरफ रही थी ओर अब वो भी अपनी चुत बार बार ऊपर कर रही थी। में फुल बढ़ता में फूच गया वो भी फुल बढ़ता में आ चुकी थी।
मैंने चोदते हुए देखा की मेरा लंड ब्लड में लाल था ओर अंदर बाहर झड़ हां था। शायद वो सच बोल रही ये उसका पहली बार था।
लगभग 25 मिनिट्स की जबरदस्त चुदाई के बाद मैंने लंड बाहर निकाला ओर साला माल उसके चूंचो ओर पेट पर गिरा दिया। हम अर्से ही पड़े रहे।
थोड़ी देर बाद आँख खुली तो मैंने देखा की 4 बज चुके थे। मैंने उसे उठाया ओर बेड पर लिटाया। वो चल नहीं पा रही थी सही से। फिर में जल्दी से अपने रूम की तरफ गया ओर 3 घंटे ओर सोया। मीटिंग में जब में फुचा तो देखा वो फ्रेश लग रही थी पर उसके चलने में दिक्कत नज़र आ रही थी।

More Sexy Stories  राधिका की चुदाई की मजेदार कहानी