वंध्या की सील जीजा और मकान मालिक ने मिलकर तोड़ी

होंठों पर होंठ रखे होने से उनकी गर्म सांसे मेरे नाक की बहुत गरम सांसो से टकराने लगी, मुझे अब कुछ कुछ होने लगा, मुझे धीरे-धीरे जाने क्या सुरूर चढ़ने लगा। जीजा मेरे सामने आकर खड़े हो गए और उनके हाथ में दारू का ग्लास था और वह अपने हाथ से अपने लन्ड को पैंट के ऊपर से ही दबा रहे थे,मकान मालिक मेरे पीछे आ गए और बोले हाथ ऊपर करो बंध्या, मैंने नहीं की तो अपने आप करवाए और मेरे टॉप को नीचे से खड़े- खड़े उतार दिया, जैसे ही मेरा टॉप उतरा तब पीछे खड़े मकान मालिक सीधे मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी पीछे गांड में अपना लन्ड रगड़ने लगे और पीछे से मेरे दोनों दूध कस के पकड़ लिए, उधर मेरे सामने खड़े सुरेंद्र जीजा पैंट की ज़िप खोलकर अपना सामान अंदर से बाहर निकाल लिया,

मैं बिल्कुल एकटक सुरेंद्र जीजा का लन्ड देखने लगी, वह बड़ी बेशर्मी से मेरे सामने अपने हाथ से अपना लन्ड रगड़ने लगे, तभी मकान मालिक बोले क्यों बे सुरेंद्र कंट्रोल नहीं होता क्या? सुरेंद्र जीजा बोले ऐसी आइटम को चुदते देखने में भी मजा है अंकल मुझे ऐसे ही मजा आ रहा है, आप फुल इन्जावाय करो बंध्या के साथ आपको इससे सेक्सी सुंदर और पर्फेक्ट फिगर वाली कोई दूसरी लड़की नहीं मिलेगी, बंध्या को अपने नंगे देख लेने पर जन्नत का मजा मिल जाता है, मैंने बंध्या को अपने गांव में एक बार लैट्रिन करने के लिए बाहर मैदान में इसने अपनी पैंटी उतार कर बैठी थी, मैं झाड़ी में छुप के देखने लगा तब पहली बार बंध्या की मस्त चूंत और गांड़ बिना कपड़ों के देखा, और फिर आकर जहां कपड़े बदलती थी वहीं छुप गया तब पहली बार इसको पूरे कपड़े उतार के नंगे देखा तो उसी समय मैं पागल सा हो गया था, तब से आज तक मैं बंध्या को सोचकर दिन में तीन से चार बार मुट्ठ मार कर अपने लन्ड को शांत करता हूं, बंध्या को बिना कपड़े नंगी देखकर ही हर कोई अपने होश खो बैठेगा और जो इसे छू ले उसकी तो जिंदगी ही बदल जाए बहुत सेक्सी बहुत हॉट माल है। अंकल आप बहुत लकी हैं जो आज इसको आप अपने हाथों से बंध्या की गांड, दूध दबा रहे हैं और होठों को चूस रहे हैं, बंध्या की नाक बहुत सेक्सी है उसको भी मुंह में भर लेना चूसना, बहुत परफेक्ट है इसका एक एक अंग,

More Sexy Stories  Hot Indian Aunty ko maa banaya

अंकल आप बंध्या को आज सटिस्फाइड कर दो, अंकल ऐसे ही आप दोनों को देखकर मुझे बहुत मजा आ रहा है, तभी अंकल बोले यार सुरेंद्र तू सच बोल रहा है यह तो कयामत है बंध्या का पूरा बदन ऐसे जल रहा है लगता है इसके अंदर बहुत आग है, मकान मालिक इतना कहते हुए बहुत जोर से मेरे दूधों को दबा दिए मैं चीख उठी, अंकल बोले बंध्या ने मुझे सिर्फ 15 मिनट दिए हैं, बोला हूं कि जब तक यह नहीं कहेगी तो बिना इसकी मर्जी के इसे नहीं चोदूंगा, उसमें से पांच मिनट हो भी चुके। अब मकान मालिक (अंकल) बोले की बंध्या तुम अपनी पैंटी उतारो देखूं जरा तुम्हारी नंगी चूत और गांड़ मैं कुछ नहीं बोली, तभी अंकल ने मेरी पैंटी की इलास्टिक पकड़ कर नीचे उतारने लगे और जैसे ही मेरी पैंटी उतार दी मैं बिल्कुल अंकल और सुरेंद्र जीजा के सामने पूरी नंगी खड़ी हो गई, अब मुझे बहुत शर्म आई तो मैंने अपनी दोनों हथेली अपनी चूत के सामने रख ली और चूत छुपाने की कोशिश करने लगी। तभी अंकल बोले अपने माल को मत छुपाओ बंध्या मैं शरमा गई और नीचे आंखें कर ली, तभी अंकल पीछे घूम कर जैसे ही देखा मेरे पिछवाड़े तरफ मेरे दोनों कूल्हों पर हाथ रखा और बोला बाप रे तुम क्या कयामत हो बंध्या तुम्हारी गांड तो बहुत ही जबरदस्त है,

इतनी निकली हुई गांड उठी मैंने आज तक नहीं देखी, बहुत गजब की गांड है तेरी बंध्या और मेरे दोनों कूल्हों को चूमने लगे और फिर कूल्हों को फैलाकर जहां मेरी गांड का सुराग था वहां जीभ चलाने लगे, मुझे अब जाने क्या होने लगा वहां बहुत गुदगुदी होने लगी मैं उछलने सी लगी, तभी पीछे हाथ की तो अंकल के बालों में पड़ा, तभी अंकल अपने कपड़े मेरे सामने उतारने लगे, और मैं उनको देखने लगी अंकल अपना टी-शर्ट उतार दिए और अंडरवियर के अन्दर ही उनका लन्ड लग रहा था फाड़ देगा अंडरवियर उनकी, और जैसे ही अंडरवियर उतारे उनका बहुत ही बड़ा लन्ड मेरे सामने, मैं सोच भी नहीं सकती थी कि 50 साल के मर्द का इतना बड़ा सामान हो सकता है, फिर मैं बिल्कुल आंखें झुका ली तभी अंकल आए और मेरे पीछे गांड पर अपना लन्ड रगड़ने लगे और जैसे ही मेरे पीछे उनका लन्ड छुआ बिल्कुल जाने कैसे मैं मदहोश सी होने लगी, और उधर सामने सुरेंद्र जीजा भी अब अपने पैंट को नीचे उतारने लगे और अपना शर्ट भी खोल दिया, वह बनियान नहीं पहने थे पैंट और अंडरवियर एक साथ उतार दी।

More Sexy Stories  Meri garam bhabhi ki sex ki pyas bujhaye

और अपना लन्ड हाथों से रगड़ने लगे, मेरे देखते देखते सुरेंद्र जीजा का लन्ड बहुत बड़ा हो गया और वह हांफने लगे, तभी मकान मालिक बोले की सुरेंद्र वहां दूर खड़े होकर अपने हाथ से क्यों अपना सामान रगड़ रहा है, जब इतनी मस्त आइटम बंध्या तेरे सामने है। तो सुरेंद्र जीजा बोले आज बंध्या आपका माल है आप कर लो अच्छे से, तभी अंकल बोले चल आज तुझे परमिशन दिया आजा तू अपना भाई है। आ दोनों मिलकर बंध्या की प्यास बुझाते हैं तू भी शुरू हो जा जहां तुझे जगह मिले, मुझे कोई दिक्कत नहीं। और इतना कहकर अंकल पीछे मेरी गांड को फैलाकर उसमें थूक लगाने लगे तो मुझे बहुत गुदगुदी होने लगी। और फिर अपने लन्ड को मेरी गांड में फिट करके थोड़ा थोड़ा घुसाने की तरह रगड़ने लगे, मैं बिल्कुल पता नहीं कैसे मदहोश होने लगी। तभी सुरेंद्र जीजा भी आने लगे जब वह चले तो उनका लन्ड बहुत हिल रहा था, जीजा मेरे सामने आकर बैठ गए सीधे मेरी हाथों को पकड़ कर जिससे अपनी चूत छुपा के रखी थी उसे हटाया और सीधे मेरी चूत में अपने होठों को रख दिया। मुझे अब बहुत अजीब सा कुछ होने लगा और किस करने के बाद जीजा तुरंत मेरी चूत को फैलाकर उसमें अपनी जीभ डाल दी,

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14