वंध्या की सील जीजा और मकान मालिक ने मिलकर तोड़ी

दीदी ने अपने हस्बैंड से यह सब बात बताई और बोली तुम्हारा भाई राक्षस है, मेरी बहन के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की, बंध्या बेचारी अभी बहुत छोटी और भोली मासूम है। बहुत हंगामा हुआ और सुरेंद्र जीजा को सब ने बहुत गालियां दी और बहुत बेइज्जत घर में किया, फिर मेरी दीदी मुझसे बोली यह बात मम्मी पापा को वहां नहीं पता होना चाहिए कैसे भी बंध्या तुम घर में कोई जिक्र नहीं करना, मैं यहां उसको बहुत बेज्जती गाली और सब कर्म करवा दी। मैं बोली ठीक है दीदी इस तरह से मैं अपने घर में मम्मी पापा से भाई से सब छुपा रखी थी। अभी इस बात के चार पांच दिन ही हुए थे कि एक दिन दोपहर में मेरे घर के दरवाजे के सामने एक मोटरसाइकिल खड़ी हुई,और दरवाजा किसी ने खटखटाया इत्तेफाक से गेट खोलने मैं आई, तो देखा सुरेंद्र जीजा का मकान मालिक शिव शंकर मेरे दरवाजे पर के सामने, मैं उन्हें देख कर डर गई और बहुत ही घबरा गई मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैं उन के सामने हाथ जोड़ ली और बोली आप क्यों आए हैं? तो वह बोले तुम्हारे पापा मम्मी से बात करना है, चलो मुझे उनसे मिलना है।

मैं उनके हाथ जोड़ने लगी मैं बोली प्लीज धीरे से बोलिए आप और यहां से चले जाइए मैं मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी, मुझे घर से निकाल देंगे, आप मम्मी पापा से कुछ मत बताइए प्लीज हाथ जोड़ती हूं, मकान मालिक बोले ठीक है वापिस चला जाऊंगा, कुछ नहीं बताऊंगा लेकिन एक शर्त पर, तुम मेरे से मिलने आओगी। मुझे खुश करोगी तुम्हें इतना अच्छे से करूंगा कि तुम जन्नत में रहोगी वादा, तुम बेवजह डर रही हो,उस दिन सुरेंद्र से घुसवा ही रही थी और किसी से करवाओगी ही तो मुझमें भी कांटे नहीं लगे, सबसे बेस्ट करूंगा, फाइनल बोलो आओगी या नहीं या फिर तुम्हारे मम्मी-पापा से मैं मिलकर जाऊं, मैंने डर के मारे बिना कुछ सोचे समझे मैंने कह दिया कि ठीक है अंकल मैं मिलने आऊंगी। पर प्लीज अभी जल्दी चले जाइए मुझे डर लग रहा है, मैं पक्का 3 दिन के अंदर आपसे मिलने आऊंगी। और जाते-जाते मकान मालिक बोले अगर 3 दिन में तुम नहीं आई बंध्या तो अब मैं तीसरे दिन तुम्हारे घर में सब तुम्हारे कारनामे तेरे मम्मी पापा से बताऊंगा। और वह चले गए मैंने राहत की सांस ली और फिर मैंने रात में सुरेंद्र जीजा को फोन लगायी,

More Sexy Stories  एक रात पड़ोसी ने खूब चोदा

बोली जीजा वह आपका मकान मालिक मेरे घर आया था और मेरे घर में आकर बोला कि मेरे पापा मम्मी को सब बताना है, मैं बहुत डरी हुई हूं प्लीज जीजा मुझे बचाओ, तभी सुरेंद्र जीजा बोले तुम तो मुझे को मेरे घर में मुंह दिखाने लायक नहीं छोड़ी, मैं तुम्हारा चेहरा भी नहीं देखना चाहता और दोबारा मुझे फोन भी मत लगाना। तुमने सब झूठ बोला कि मैं तुम से जबरदस्ती कर रहा था, जबकि तुम ड्रेस के बदले मुझसे चुदवाने को तैयार हुई थी, पर तुम ऐसा क्यों की हो, मैं अब कभी जिंदगी में अपने घर में सर उठा कर नहीं रह सकता। मैं बहुत शर्मिंदा हुई और बोली सॉरी जीजा मैं डर गई थी कि वह मकान मालिक ने मुझे धमकी दिया था कि सब बता देगा, तो मैं डर के मारे बता दी। मुझे माफ कर दो सॉरी, और प्लीज कैसे भी मकान मालिक को अपने रोको। जीजा बोले वह बहुत हारामी और गंदा मकान मालिक है वह नहीं मानेगा, कैसे भी तुम्हें उससे मिलना ही पड़ेगा नहीं वह किसी सूरत में नहीं मानने वाला। तो मैं बोली कि वह क्या मेरे घर आ जाएगा? तो जीजा बोले हां पक्का आ जायेगा, वैसे तुम क्या बोली हो मकान मालिक से,

मैं बोली कि मैने बोला कि मैं 3 दिन के अंदर मिलने आऊंगी पक्का वादा अभी चले जाओ। तो जीजा बोले तुम चली ही जाना नहीं वह तीसरे दिन आ जाएगा, तो मैं बहुत डर गई और मैं सुरेंद्र जीजा को बोली प्लीज मेरे साथ चलना प्लीज, जीजा आप मेरे साथ रहना वरना मैं अपने आपको नहीं छोडूंगी और भाग जाऊंगी। तो जीजा बोले मेरा मन तो नहीं करता पर तुम कहती हो तो चलो तुम्हारे साथ चलूंगा। और जीजा कैसे भी तो तैयार हुए, तीसरे दिन मैं बोली कि आपको सतना बस स्टैंड में मिलूंगी आप आ जाना। और अपने मकान मालिक के पास ले चलना। तीसरे दिन मेरे मन में फिर से वही सब ख्याल आने लगा कि आज मुझे चोदेंगे मकान मालिक, सिर्फ उन्हीं का सोच कर मेरे अंदर कुछ खलबली सी और गुदगुदी सी भी हो रही थी, वो जो बोलकर गये थे वही सब सोच-सोचकर मैं बिल्कुल अंदर से ना जाने क्यूं इक्साइटेड हो रही थी, मेरी पैंटी गीली हो गई, मैं बहुत अच्छे से मेकअप करी,

More Sexy Stories  भाभी की चुदाई के लिए वक्त नहीं था भाई के पास

आज मैंने रेड कलर की स्कर्ट और ऊपर व्हाइट टॉप पहना नीचे मैंने ब्रा नहीं पहनी, सिर्फ पैंटी पहनी और जल्दी सुबेरे 9:00 बजे मम्मी से झूठ बोलकर बहाना बनाकर मैं सतना गई। तभी वहां मुझे बस स्टैंड के पास काफी हाउस के सामने थोड़ी देर में सुरेंद्र जीजा अपनी बाइक लिए खड़े मिले, मैं उनके साथ बैठ गई और जीजा बोले आज बंध्या तुम बहुत हॉट लग रही हो एक नंबर की, तुम पूरा मन बना कर आज मेरे मकान मालिक से चुदवाने आई हो, क्या मस्त सेक्सी ड्रेस पहना है मुझे नहीं दोगी क्या? मैं कुछ नहीं बोली, फिर मैं बोली जीजा आप वहां कमरे में मेरे साथ रहना, तो वह बोले वह बहुत हरामी पागल है, तुम्हारा दिमाग तो ठीक है, मकान मालिक मेरा तुम्हें चोदेगा तुम्हारे साथ सोएगा और मैं वहां खड़ा देखूंगा क्या पागल नजर आता हूं तुम्हें, मैं नहीं रहूंगा। तो मैं बोली प्लीज जीजा नहीं रहोगे तो मैं फिर लौट के घर नहीं जाऊंगी, तो जीजा बोले चलो देखता हूं, अब मकान मालिक के घर पहुंच गए ऊपर जैसे जाकर नाक किया मकान मालिक निकला, मुझे देख कर ऊपर से नीचे तक घूरने लगा और बोला वाह बंध्या क्या मस्त हो, सच में बहुत मस्त माल हो और गेट खोला। मैं बोली अंदर तब आऊंगी जब यह सुरेंद्र जीजा भी अंदर रहेंगे वरना मैं यहीं से वापिस चली जाऊंगी मैं अंदर नहीं आऊंगी। तो बोले कोई बात नहीं जब तुम्हें प्रॉब्लम नहीं तो सुरेंद्र आजा तू भी अंदर रहना कोई दिक्कत नहीं।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14