वंध्या की सील जीजा और मकान मालिक ने मिलकर तोड़ी

आज आप भी मत करो मैं डर रही हूं जीजा, मान जाओ मत घुसाओ कहीं कुछ हो गया तो बहुत डर लग रहा है। पर जीजा एक ना माने और अपना लन्ड पकड़ कर मेरी टांगों को फैलाया और अपने कंधे में मेरी टांगें चढ़ा ली और बोले बंध्या क्या मस्त चिकनी चूत है तेरी फिर सीधे अपने लन्ड को मेरी चूंत में रख दिया, आज मेरी लाइफ में पहली बार लन्ड ने चूत को छुआ और किसी मर्द का लौड़ा चूंत में जाने को घुसने को तैयार है। जीजा मुझे अपनी तरफ खींचे तो उनका लन्ड मेरी चूंत में फिट हो गया और थोड़ा सा ही घुसा तो मुझे दर्द होने लगा मैं चिल्ला उठी तो जीजा बोले आराम से चिल्लाना नहीं रोना नहीं, जीजा का लौड़ा बहुत मोटा था इसलिए मेरी चूंत में अब भी पूरा का पूरा फिट नहीं हो रहा था, मेरी चूत बहुत छोटी और टाइट थी जीजा का लन्ड बहुत मोटा था परंतु मेरी चूंत बह रही थी तो उसमें बहुत चिकनाहट थी, जीजा बोले बहुत चिकनी चूंत है तेरी बंध्या रस बहुत बह रहा है इसलिए दिक्कत नहीं आएगी, शुरु में थोड़ा दर्द होगा सह लेना मैं कुछ ना बोली, सच बोलूं तो अंदर से मन कर रहा था कि कमीना जीजा जोर से अपना लन्ड मेरी चूंत में डाल दे चाहे जो भी हो बस जो मुझे हो रहा है वह मेरा शांत करें।

जीजा ने अपना लन्ड थोड़ा सा मेरी चूंत में दबाया मुझे बहुत दर्द का एहसास हुआ और गले में मेरे प्राण आके अटक गये, मैं जीजा को हाथ से धक्का देने लगी जीजा दोनों हाथ पकड़ लिए और एक जैसे ही धक्का लगाया उनका लन्ड मेरी चूंत का दरवाजा फाड़ता हुआ अन्दर चूंत में घुसा लगा मर गई फट गयी मेरी चूंत जैसे कोई चाकू मार दिया हो। मेरी चूंत में असहनीय दर्द हुआ मैं जोर से चिल्ला उठी, जीजा ने फिर से मेरी चूंत में लन्ड का धक्का लगाया और चूंत में मेरी और अंदर डालना चाहा, मुझे बहुत दर्द हो रहा था और जीजा लन्ड मेरी चूंत में घुसाने में लगे थे, दर्द के कारण मुझे गुस्सा आया मैं बहुत जोर से गाली देने लगी, जीजा कुत्ते मार डाला बहुत जोर से चिल्लाई इतना दर्द हुआ कि मुझे कुछ होश नहीं रहा, मैं पूरी ताकत से चिल्लाने लगी रोने लगी तभी जीजा बोले साली कुतिया रंडी चिल्ला मत मोहल्ले को इकट्ठा करेगी क्या? पूरा मोहल्ला आ जाएगा फिर मुझे कोई कुछ नहीं बोलेगा समझी, सब तेरी चूंत को ही चोदेंगे ये समझ ले तू, बंध्या चुप रह 2 मिनट बस घुसने ही वाला है थोड़ा दर्द होता है, उसके बाद तो जन्नत का मज़ा है, मैं बोली छोड़ कुत्ते कमीने मत कर साले घटिया जीजा मादरचोद छोड़ जो गालियां आती थी सब दे डाली, और रो भी बहुत रही थी ।

More Sexy Stories  रॉंग नंबर से आंटी की चुदाई की

पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए बस एक इंच ही अंदर मेरी चूंत में और घुसा लन्ड कि इतने में खिड़की से खट खट की आवाज आई एक खिड़की किसी ने खींच कर खोल भी दिया और हम दोनों को उसी चुदाई की हालत में देख कर बहुत जोर से जीजा को गाली देकर वो चिल्लाया बोला दरवाजा खोल गांडू शुक्ला, जीजा फटाक से डर के उठे बोले मकान मालिक है, साली चिल्लाकर गड़बड़ कर दी और उठ खड़े हुए जल्दी से सिर्फ अंडरवियर पहना तभी मकान मालिक बोला खोल कमीने दरवाजा 1 मिनट में नहीं साले बंद करा दूंगा। जीजा ने 1 मिनट में जल्दी से दरवाजा खोला मकान मालिक अंदर आ गए, मैं जल्दी से बिस्तर वाला चद्दर ही बस अपने नंगे बदन में लपेट पाई थी, तभी मकान मालिक जीजा को गाली देते हुए तीन चार थप्पड़ मारे, बोले यह रंडी छिनाल कहां से लाया है मेरे घर में, किराया से रहने के बहाने रंडीबाजी करता है छिनालो को लाता है। यहां साले रंडी चोदता है बहुत गाली बकी जीजा को और मुझे बोले जब रंडीबाजी करनी है छिनाल तो चुदवा जैसे चुदवाना है चिल्ला कर पूरे शहर को क्यों बुला रही है। जीजा के मकान मालिक मेरी तरफ घूरते कर देखे और जीजा को कॉलर पकड़ के पीछे एक लात मारे और बोले हट जा साले मेरे घर में गलती से भी दिख मत जाना नहीं जेल में बंद करा दूंगा यह कह कर भगा दिए, जीजा डर के मारे भाग गए।

More Sexy Stories  स्टूडेंट की मा को चोदा

अब रूम में मैं बची और मकान मालिक वो मुझे बोले रूक रंडी तेरी भी अब खैर नहीं, और दरवाजा अंदर से बंद कर दिया। मुझे डर के मारे ऐसा लग रहा था कि मेरे प्राण निकल जाएंगे बिल्कुल अब कांपने लगी थी और मुझे रोना आने लगा। तभी मकान मालिक बिस्तर पर बैठ गए मैं भी चादर ओढ़े बैठी थी, मुझसे पूछे अपना नाम बता मैं डर के मारे चुप रही वो फिर जोर से चिल्लाया साली रंडी नाम बता। मैं बोली बंध्या नाम है मेरा, फिर पूंछे कितने पैसे में आई है और तू कहां की है। मैं बोली आप मुझे गलत समझ रहे हैं मैं वैसी लड़की नहीं हूं, वह थोड़ा हंसे और बोले साली सब रंडियां ऐसे ही बोलती हैं, देख तू तो चेहरे से, आंखों से, बातों से सबसे पूरी छिनाल वैश्या लग रही है। मुझे पहचान है मेरे बाल सफेद हो गए तुझे नहीं दिखता तू एक नंबर की रंडी है। अपना नहीं चल अपने मां बाप के बारे में बता कहां से है और पूरा पता बता अपने बाप का मोबाइल नंबर बता, और मां बाप से बात करा तभी मैं तुम्हें यहां से जाने दूंगा, मैं अपना एड्रेस बता दी, अपने गांव का नाम मेरे पापा , मम्मी का नाम है अपनी एडयुकेशन सब बता दिया । और यह बताया कि जो आपके किरायेदार हैं और अभी मेरे साथ रहे हैं वो मेरे जीजा के सगे भाई हैं, मकान मालिक बोले सुन मुझे राजेश वर्मा कहते हैं बहुत फेमस हूं, उड़ती चिड़िया के पंख पहचान लेता हूं पचास साल का ऐसे ही नहीं हो गया, फिर भी तुने पैसे तो चुदवाने के लिए ही होंगे,

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14