ट्रेन के सफ़र मे मिली सेक्सी भाभी

नमस्कार दोस्तो मैं राज कैसे है आप सब आशा करता हू सब मस्त होंगे चुत को लंड और लंड को चुत आसानी से मिल रहा होगा और अगर किसी को नही मिल रहा हो तो मैं गॉड से प्रे करूँगा की जल्द से जल्द उनकी तमन्ना पूरी हो. अब मैं स्टोरी पे आता हू कुछ दिन पहले मैं किसी काम से बाहर गया था ट्रेन का सफ़र था वो भी रात का मेरा लोवर बर्त ए सीट था और साइड लोवर एंड अपर मे एक कपल का था और उनके साथ उनका एक बेटा भी था करीब 4 साल का क्या मस्त भाभी थी और उसका पति ढीला सा करीब 40ईयर का होगा वो और भाभी करीब 28 साल की मस्त बड़े बड़े चुचिया भारी सा गॅंड बड़ी बड़ी आइज़ गोरी गोरी पीठ दिखाई दे रही थी काफ़ी लो कट पहनी थी ट्रेन चलते ही वो लोग खाना खाने लगे और खाना खाने के बाद उसका पति उपर वाले बर्त मे जा कर सो गया.

और खर्राटे मारने लगा लोवर बर्त मे भाभी जी और उसका बेटा रह गया मैं बीच बीच मे दोनो को देख रहा था और मज़े ले रहा था इसी बीच उनका बेटा टॉफी की जिद्द करने लगा अपनी मा से उसकी मॉम बोली अभी तो टॉफी नही है कल सुबह मँगवा दूँगी लेकिन बच्चा नही मान रहा था रो रहा था तभी मेरे पास कुछ टॉफी थी मैने बच्चे को टॉफी दी तब जाकर वो चुप हुआ तो भाभी जी ने मुझे थॅंक्स बोला मैने भी इट्स ओके बोला फिर भाभी ने पूछा की आप कहा रहते हो क्या करते हो एट्सेटरा मैने भी सेम यही पूछा तो उसने बताया की मैं गर्मी की छुट्टी मे माएका आई थी अब वापस जा रही हूँ और मैं एक हाउस वाइफ हूँ मेरे पति का अभी दो साल पहले ही वाहा ट्रान्स्फर हुवा है मेरे पति पीडब्ल्यूडी मे है एट्सेटरा फिर मैने सोचा की इससे थोड़ा मज़ाक किया जाए तो पता चल जाएगा की कैसी लेडी है नही तो खाना वाना खाकर सो जाएँगे.

More Sexy Stories  भरपूर प्यार से देल्ही भाभी की चुदाई की

तो मैने पूछा तो कितने दीनो के लिए माएका आई थी आप तो बोली पूरे एक महीने के लिए अब वापस जा रही हूँ इनका ज़्यादा छुट्टी नही होता ना इसले मेरे पति आज सुबह ही आए थे और आज ही वापस जा रही हूँ काफ़ी थके है ना इसलिए सो गये है तो मैने तुरंत बोला की हाँ आज आराम करेंगे तभी तो कल फिर आपकी सेवा करेंगे एक महीने हो गये है अब तो बस घर जाते ही काम मे लग जाएँगे तो वो थोड़ा हँसी बट तुरंत चुप हो गयी मैने पूछा की क्या हुवा आप चुप क्यू हो गये तो बोली नही आप जैसा सोच रहे है वैसा नही है अब तो बस कभी कभी ही चाँद निकल ता है नही तो रात तो अंधेरा ही रहता है तो मैने सॉरी बोला तो वो बोली इट्स ओके अब तो यही लाइफ है फिर वो बोली आपने खाना नही खाया या खाकर आए थे तो मैने बोला जी नही आभी खा लेता हूँ फिर मैने भी खाना निकाला और खाना खाने लगा फिर मुझे याद आई की भाभी जी ने जब आपना आचार का डब्बा खोला था.

तब बहुत बाड़िया खुशबू आई थी आचार की मेरे मूह मे पानी आ गया था तो मैने भाभी से बोला भाभी जी प्लीज़ डोंट माइंड मुझे थोड़ा आचार मिलेगा तो वो बोली हाँ हाँ आभी देती हूँ और आचार का डब्बा लेकर मेरे पास आई और मुझे निकाल कर थोड़ा आचार दिया अब वो मेरे बिल्कुल पास थी तो मैने झट से बोल दिया की खुशबू तो आपकी और आचार की दोनो की अछी है बट तारीफ किसकी करू ये समझ मे नही आ रहा तो वो मुकुराते हुए बोली की दोनो की कर दीजिए तो मैने थोड़ा आचार मूह मे लिया और तारीफ की बहुत बाड़िया आचार है मज़ा आ गया तो वो बोली थॅंक्स फिर मैं खाना खाकर हाथ धोने के लिए बाथरूम चला गया जब मैं वापस आया तो देखा की वो आपने बच्चे को सुला रही थी वो बाहर की तरफ लेटी थी मैं भी अपने बर्त मे आ गया और हेडफोन लगा कर गाने सुनने लगा और सोने की कोशिश करने लगा बट मुझे नींद नही आ रही थी मेरे सामने भाभी जी की मस्त गॅंड और पीठ दिखाई दे रही थी.

More Sexy Stories  पंजाबी मौसी को पटा कर चुदाई

तो नींद कैसे आती थोड़ी देर के बाद भाभी जी उठी और बाथरूम की तरफ गयी बेटा उनका सो गया था जब वो रिटर्न आई तो बेटा बर्त के बीचो बीच लेटा था पूरा लेग्स को फैला कर तो भाभी जी ने मेरी तरफ देखा क्यूंकी लाइट्स भी ऑफ हो चुकी थी तो वो मुझे देख नही पा रही थी की मैं सो गया हू या जगा हुवा हूँ तो पास आकर बोली सो गये क्या मैने बोला नही क्या हुवा क्या बात है तो बोली की मेरा बेटा सो गया है और मेरे सोने की जगह नही है अगर उसको टच भी किया तो बहुत रोएगा तो क्या मैं थोड़ी देर आपके बर्त मे बैठ जाउ तो मैने तुरंत बोला प्लीज़ बैठिए ना पूरी रात मुझे कोई प्राब्लम नही है फिर वो बैठ गयी और मैं तो पहले से लेटा हुवा था वो मेरे कमर के नीचे की बैठ गयी मेरे जाँघो से उसका गॅंड टच हो रहा था आहह क्या फीलिंग थी यारो बस पूछो मत फिर मैं हिम्मत करके उसके पीठ पे हाथ रखा तो उसने कुछ नही बोला लाइट्स ऑफ होने की वजह से मेरा भी हिम्मत बाढ़ गया था.

Pages: 1 2