मस्त सेक्सी मौसी की चुदाई की कहानी

हेल्लो दोस्तो मैं शिवम आज पहली अपनी कहानी आप के लिए ले कर आया हूँ. मुझे उमीद है आप को मेरी आज की ये पहली कहानी पसंद आएगी. तो चलिए बिन टाइम वेस्ट किए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ.

कहानी शुरू करने से पहले मैं आप को अपनी कहानी के बारे मे बता दूं. दोस्तो आप ने आज तक मा बेटे, बहेन भाई और बाप बेटो की. पर आप ने कभी मौसी की चुदाई सुनी है. तो दोस्तो मैं आज अपनी मस्त सेक्सी मौसी की चुदाई की कहानी ले कर आया हूँ.
मेरी उम्र उस टाइम 18 साल थी. और उस टाइम मैं 12 वी क्लास मे था और मैं अपनी मौसी से मैथ्स मे हेल्प ले लेता था. मेरी मौसी उस टाइम अपनी स्टडी ख़त्म करके घर मे आराम से बैठी थी. उनके घर मे मेरे नाना नानी रहते थे. वो दोनो अभी गवर्नमेंट जॉब कर रहे थे.
मौसी कभी कभी कॉलेज चली जाती थी पर 12 बजे तक वापिस भी आ जाती थी. उस टाइम मौसी का फिगर 34-30-36 था. वो दिखने मे काफ़ी सेक्सी और भरी भरी लगती थी. उनका रंग गोरा और बूब्स और गांड दोनो बाहर निकले हुए थे. जिसे देख कर मैं काफ़ी बार उन्हे चोदने का दिल करता था.

पर मैं आज तक सच मे कभी सेक्स नही किया था. मैने आज तक सिर्फ़ सेक्सी मूवीस ही देखी थी. जिसे देख कर मुझे थोड़ी बहोत सेक्स का नालेज हो गया था. मैं काफ़ी बार अपने घर आ कर मौसी के नाम की मूठ मरता था. मेरा लंड उस टाइम 6 इंच का था जो की किसी की भी चूत की प्यास को बुझाने के लिए काफ़ी था.
एक दिन की बात है मेरा स्कूल मे एक टेस्ट था. इसलिए मैं शाम को मौसी के पास स्टडी के लिए आ गया. स्टडी करते करते रात हो गई इसलिए मैं मौसी के पास ही सो गया. हम दोनो एक ही बेड पर सो रहे थे. मौसी मुझसे एक दम चिपक कर सो रही थी. उनके जिस्म की गर्मी ने मेरे लंड को खड़ा कर दिया था. इस लिए मैने अपना लंड थोडा सा दूर कर के उनसे सो रा था.

More Sexy Stories  वर्जिन ट्यूशन टीचर की चुदाई घर में

रात को करीब 2 बजे मैं जाग गया क्योकि मुझे लग रा था की कोई मेरा लंड पकड़ रा है. पर जब मैं उठा तो मैने देखा की मौसी ने मेरा लंड पकड़ा हुआ है. मैं एक दम डर सा गया पर मुझे मज़ा बहोत आ रा था. मैने उनका हाथ पकड़ कर हटा दिया. और फिर से सो गया. पर कुछ ही देर बाद मौसी ने मेरा लंड फिर से पकड़ लिया.
मैने उन्हे देखा तो वो सो रही थी. इसलिए मुझे लगा की वो शायद कोई सपना देख रही है. इस बार मैने उनका हाथ नही हटाया और ऐसे सो गया. जब मैं सुबह उठा तो मैने देखा की मेरा पाजामा गिल्ला हो रखा है. मैं समज गया की रात को मेरे लंड ने अपना पानी निकल दिया होगा.

ऐसे ही कुछ दिन निकल गये और मैं मौसी के ज़्यादा पास आने लग गया. अब मौसी मेरे साथ डॅन्स भी करने लग गई थी. और मुझे कभी कभी प्यार से मेरे गालो पर किस भी कर लेती थी. अचानक हुए इस बदलाव का मैं मतलब नही जान पा रा था. पर जो भी हो रा था मुझे इसमे बहोत मज़ा आ रा था.
उसके बाद मौसी खेलते खेलते कभी कभी मेरे लंड को पकड़ लेती थी. और कभी कभी मेरे उपर गिर कर अपने बूब्स मेरे सीने मे दबा लेती थी. वो पल मुझे बहोत ही खूबसूरत लगते थे. क्योकि उनके मुलायम बूब्स मेरे जिस्म को छु जाते थे. इससे ज़्यादा सेक्सी पल मेरे लिए और क्या हो सकता था.

मौसी ने अब मुझे अपना दीवाना बना लिया था. इसलिए मैं अब दिन मे 2 बार और रात को 3 बार उनके नाम की मूठ मरने लग गया. मैं अब किसी भी हालत मे उनको चोदना चाहता था. मैं अब उनको चोदने का मौका ढूँडने लग गया.
आख़िरकार उपर वाले ने एक दिन मेरी सुन ली. उस दिन मेरे स्कूल मे 10 ब्जे ही छुट्टी हो गई थी. क्योकि हुमारे स्कूल की एक टीचर की अचानक ही मृत्यु हो गई थी.
मैं अपने घर नही गया बल्कि सीधा अपनी मौसी के पास चला गया. मैने पहले ही घर पर फोन कर दिया था की मैं घर नही आ रा हूँ. मैं सीधा मौसी के पास जा रा हूँ क्योकि मुझे मैथ्स मे काफ़ी स्टडी करनी है.
जेसे ही मुझे मौसी ने इस टाइम अपने घर देखा तो वो मुझे देख कर बहोत खुश हो गई. उन्होने मुझे बड़े प्यार से घर के अंदर लिया और सोफे पर बिठाया. घर पर उनके सिवा कोई नही था. उन्होने मुझे पानी दिया और मेरे पास एक दम चुप चाप बैठ गई. मैने उनसे पूछा की कोई बात है तो आप मुझे बता सकती हो.
पर उन्होने मुझे कहा की उनका सारा जिस्म बहोत दर्द कर रहा है. इसलिए वो सोने के लिए जा रही है तो मैं बैठ कर टी.वी देख सकता हूँ. कुछ देर बाद मैं उनके रूम गया तो उन्होने एक पाजामा और एक खुली सी टी शर्ट डाली हुई थी. इस ड्रेस मे वो बहोत ही सेक्सी लग रही थी, उनको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

More Sexy Stories  मेरे सच्चे प्यार की चूत की चुदाई हिन्दी मे

मैने एक बार उन्हे फिर से पूछा की कोई बात है तो बता दो मुझे. पर उन्होने मुझे कुछ नही बताया.उन्होने मुझे कुछ न्ही बताया इसलिए मैं चुप चाप वापिस जाने लगा. तो उन्होने मुझे कहा की मैं उनकी टाँगे दबा दूं बहोत दर्द कर रही है. मैने कहा हाँ मौसी क्यो नही मैं अभी दबा देता हूँ.
फिर मैं बेड के किनारे पर बैठ गया और उनकी टाँगो को धीरे धीरे दबाने लग गया. कुछ ही देर मे मौसी ने कहा की थोड़ा और उपर तक दबाओ. मैं उनके घुटनो तक दबाने लग गया. कुछ ही देर मे उन्होने कहा की और थोडा उपर दबाओ. ये सुन कर मेरे होश ही उड़ गये मैं सोच रा था की आज मौसी मुझे से क्या करवाना चाहती है.
मैं अब उनकी चूत तक दबा रा था. उन्होने कहा की मुझे इस पाजामे दिकत हो रही है एक मिनिट रूको मैं इसे उतार देती हूँ. उन्होने फिर मेरे आगे ही अपना पाजामा उतार दिया. अब मेरे सामने मौसी की गोरी टाँगो के बीच ब्लॅक रंग की पैंटी थी बस. मेरा ये सब देख कर दिमाग़ सा खराब होने लग गया.

Pages: 1 2