सेक्सी चुदाई चाची की

sexy chudai chachi ki सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

हेई फ्रेंड्स, आई’एम रोहित राज फ्रॉम बिहार (पटना) , आक्च्युयली मैं आप सभी को बताना चाहता हूँ की ये मेरा पहला सेक्स एक्सपीरियेन्स है मेरी चाची के साथ तो मैं आप सभी को बिना बोर किए न्यूड देसी भाभी परिवार मे चुदाई स्टोरी पर आता हूँ.

पहले मैं खुद के बारे मे बता दू मैं बी,टेक 3र्ड ईयर का स्टूडेंट हू, एज अप्रॉक्स 21 यियर्ज़ एंड आई हॅव मस्क्युलर बॉडी जो ऑलमोस्ट किसी भी गर्ल्स को अट्रॅक्ट करले, वैसे तो फ्रेंड्स मैं अपनी चाची को पिछले 5 साल से चोदने का सपना देख रहा हूँ और अनकाउंटबल टाइम्स तो मास्टरबेट भी करता हू उनके बारे मे सोच कर.

हमारी जॉइंट फॅमिली है तो सभी साथ मे रहते है, तो मैने हमेशा आधी रात को उठ कर चाची के रूम मे जाकर उनकी नींद खराब की है, मैं ये आप लोगों को बता दूं तो मैं हमेशा उनके बड़े बड़े दूध पे हाथ रख कर संतुष्ट हो जाया करता था और कई बार मैने नहाने के बाद टॉवेल देने के टाइम पे भी उनकी आधी नंगी बॉडी देखा हुआ था, .

मेरी चाची का फिग 36-32-36 है और बिल्कुल गोरी है बात ये तब की है जब मैं अपने बी.टेक की पढ़ाई का 4 स्मस्टेर पास कर चुका था मतलब् 2 सला निकाल चुका था मैं छुट्टियों मे अपने घर आया हुआ था तो मैं हमेशा की तरह नॉर्मल रह रहा था पहले ह्मारा घर बस ग्राउंड फ्लोर का था बट अब 2 फ्लोर के होने की वजह से चाचा की फॅमिली उपर शिफ्ट कर चुकी थी अब तक.

More Sexy Stories  Savita Bhabhi ki Chudai Sex Kahani

तो मैने उन्हे चोदने का सपना अपने दिमाग़ से निकाल ही दिया था उनके उप्पर शिफ्ट होने की वजह से अब तो उनके बड़े बड़े दूध के दर्शन भी नही होते थे बट मैं जब भी उप्पर जाया करता था तो चाची के पास बैठ के उनसे बातें करते वक़्त उनके हाथ को पकड़ कर बात करता था मैं आप सभी को बता दूं मैं और चाची एक दूसरे से बोहोत मज़ाक करते है एकदम देवर और भाभी के जैसे, .

तो मैं उनसे मज़ाक मज़ाक मे उन्हे पेट पे गुदगुदी लगा दूं या चिटी काट दूं इसी बहाने उनके दूध छूने को मिल जाते थे और मैं ये भी जानता था की चाची भी मेरे लिए कुछ अलग सोचती है बट कभी हिम्मत नही होती थी बरियहॉ मे नहाते टाइम ज़बरदस्ती मुझे भी खिचना बस एक नाइटी पहन कर ये सब चीज़े इशारा करती थी मुझे वो भी मुझसे चुदना चाहती थी मेरा लंड चूसना चाहती थी, .

वैसे तो मेरे चाची और चाचा की लव मॅरेज हुई थी बट चाचा ज़्यादा गोरे नही थे और उनकी बिज़्नेस थी घर के पास मे ही तो कभी मौका मिल ही नही पता था की चाची को रात मे जाकड़ पाता सुकून से सेक्स करने के लिए क्यूँ की फ्रेंड्स आप सभी जानते है की रात मे सेक्स करने का मन ज़्यादा होता है, .

तो चाचा को बिज़्नेस मे लॉस होने की वजह से दोनो शॉप बंद हो चुकी थी बस एक ट्रक था जो की ड्राइवर चलाता था बट मैने इस बार नोटीस किया की चाचा उस ट्रक ड्राइवर के साथ ट्रक पे ही रहते है ज़्यादा टाइम मोस्ट्ली रात को तो इस वजह से चाची भी नाराज़ थी और उदास थी, , लगता है काफ़ी दीनो से उनकी चुदाई नही हुई थी तो मैने सोचा चल बेटा तेरे लिए इससे अछा मौका और कोई नही हो सकता.

More Sexy Stories  Maine Apni Maa Aur Mousi Ko Choda

फिर मैं एक रात को चाची के कमरे मे गया दरवाज़ा बंद नही था बस ऐसे ही खुला था तो मैं धीमे पाओ अंदर गया बट फिर मेरी हिम्मत नही हुई और मैं वापस आ गया , , ये मेरी एक और नाकाम कोशिश थी इसी तरह मैने दो से 3 ट्राइ करा बट हिम्मत नही हुई डर बस ये था की चाची की छोटी बेटी भी उनके साथ मे ही सोती थी एज 12 मुझे डर था की चाची चीख ना दे.

फिर मैने एक दिन बोहोत हिम्मत कर के सुबह के करीब 6 बजे उप्पर गया और इस बार मैने ना सोचा हुआ था की इनसे डाइरेक्ट बात करूँगा ..तो मैं सुबह 6 के करीब उपर गया देखा की चाची की वॉशिंग मशीन खराब है तो वो चाचत के साइड मे कपड़े धो रही थी मैने पूछा इतनी सुबह क्यूँ तो उन्होने कहा धूप निकल जाएगी बाद मे तो बोहोत परेशानी होगी तो मैने ओके बोला , फिर उन्होने मुझसे पूछा की तुम इतनी जल्दी क्यू जाग गये इरादे तो ठीक है ना अभी तो सब नीचे भी सो रहे होगे..

तो मैने बोला हान बस नींद नही आई सारी रात तो चाची और पूछा की क्यूँ सब ठीक तो है ना तो मैने बोला हान सब ठीक तो है पर एक अलग सी बेचैनी है. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

फिर मैने उनसे एकदम झटके मे बोल दिया मुझे आप से कुछ बोलना है तो उन्हो ने मुझसे पूछा क्या बोलना है तो मैने बोला बस आप गुस्सा मत करना और किसी को बोलना मत तो वो रेडी हो गई एक अलग सी मुस्कान के साथ शायद वो समझ गई थी की मेरे मन मे क्या चल रहा है.

Pages: 1 2 3