सर्दी की रात नीलम के साथ

मेरा नाम समीर है, और मैं पंजाब का रहने वाला हूँ. ये मेरी पहली कहानी है. मुझे उमीद है, आपको मेरी पहली कहानी पसंद आएगी. मुझे ज़्यादा बकवास करने की आदत न्ही है. इसलिए मैं सीधा ही अपनी कहानी पर आता हूँ.

ये कहानी एक सच्ची कहानी है. आगे जिसे जो समझना है वो समझे. मेरी उम्र उस टाइम 22 साल थी. मैं बी.टेक फाइनल इयर मे था. मैं दिखने मे हॅंडसम हूँ. इसलिए मैं लड़कियो को पट्टा कर चोदने मे लगा रहता हूँ.

मेरे घर के साथ ही मेरे चाचा का घर था. वैसे वो मेरे सगे चाचा न्ही थे. पर प्यार से मैं उन्हे शुरू से ही चाचा कहता हूँ. उनकी एक लड़की थी, उसका नाम नीलम था. वो मुझसे सिर्फ़ 2 साल छोटी थी.

जब उसकी .10+2 ख़त्म हुई, तो उसने मेरे कॉलेज मे ही डिप्लोमा कंप्यूटर्स मे अड्मिशन ले लिया. नीलम दिखने मे काफ़ी खूबसूरत और सेक्सी थी. उसकी हाईट 5’3 इंच होगी, और उसका फिगर 30-28-32 होगा.

अभी उस पर जवानी आई थी, पर उसकी जवान जवानी को लूटने का मौका ना जाने किसे मिलने वाला था. नीलम के लिए मेरे मन मे कोई भी ग़लत विचार न्ही थे. ना ही मैने कभी उसके लिए कुछ ऐसा वेसा सोचा था.

मैं नीलम से बहुत कम बात करता था. जब भी हम कॉलेज मे मिलते थे, तो मैने कभी किसी को ये शो न्ही होने दिया. की मैं नीलम को जानता हूँ. इसलिए मैं कॉलेज मे भी नीलम से बहुत कम बात करता था.

मुझे अपने दोस्तो से पता चला था, की नीलम का चक्कर किसी लड़के से चल रहा है. मैं नीलम को कुछ न्ही बोला. फिर ऐसे ही दिन निकलते र्हे, सर्दियो के दिन थे. तभी नीलम के मम्मी पापा को करीब 15 दीनो के लिए गुजरात जाना पड़ गया.

वाहा उनके किसी रिश्तेदार की तबीयत बहुत खराब हो गई थी. नीलम की स्टडी खराब ना हो. इसलिए उसके मम्मी पापा ने उसे मेरे घर पर रहने के लिए छोड़ दिया.

More Sexy Stories  भाभी का गुस्सा फिर प्यार

जब वो घर आई तो, मैं उसे देखता ही रह गया. उसकी जवानी का जादू मेरे उपर चलने लग गया था. वो मेरे घर ब्लू कलर की फुल स्लिव की कुरती और नीचे ब्लॅक कलर की जीन्स डॉल कर आई थी. उसके कसे हुए कपड़ो मे उसका जिस्म बहुत ही मस्त लग रहा था. मैं उसे ही देख रहा था.

नीलम – हा जनाब काहा खो गये, अब क्या मैं वापिस चली जाउ.

मैं – न्ही नीलम आओ अंदर आओ, ये घर भी तुम्हारा ही है.

नीलम – तुम तो मुझे ऐसे देख रहे हो, जेसे कभी न्ही देखा मुझे ?

मैं – आज तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो, इसलिए.

ये सुनते ही वो मुस्कुराने लग गई. फिर मैं अपने रूम मे चला गया. नीलम मेरी मम्मी के पास चली गई. फिर हम दोनो एक साथ मेरी बाइक पर कॉलेज गये. वाहा हम दोनो ने पहली बार इतनी बात करी, हम दोनो ने एक साथ लंच किया. फिर शाम को हम दोनो बाहर घूमते हुए घर गये.

घर पर हम दोनो छत पर घूम रहे थे, और इधर उधर की बात कर रहे थे. तभी नीलम ने मुझसे ऐसा सवाल किया, जिसकी मुझे इतनी जल्दी उम्मीद न्ही थी.

नीलम – समीर तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है ?

मैं – न्ही मेरी कोई न्ही है.

नीलम – क्या तुम्हे बी.टेक मे 3 साल होने वाले है. और तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड न्ही है.

मैं – क्या करूँ, तुम जैसी अभी तक मिली ही न्ही.

नीलम – अच्छा जी ये बात है.

तभी नीचे से मम्मी ने आवाज़ लगा कर मुझे बुला लिया. फिर मैं मार्केट मे चला गया. रात को मैं घर आया और मैं सीधा अपने रूम मे आ गया. मैने देखा नीलम मेरे रूम मे रज़ाई मे बैठी हुई थी.

More Sexy Stories  किरायेदार आंटी की चुदाई

मैं भी उसके पास जा कर रज़ाई मे बैठ गया. मैने फिर उसके पॅट्टो पर हाथ रख दिया. वो कुछ न्ही बोली, और मुझे देख कर मुस्कुराने लग गई. मैं समझ गया, की रास्ता सॉफ है. मैं अब धीरे धीरे उसकी चूत पर जाने लग गया.

उसने मुझे रोक दिया, फिर मैने देर ना करते हुए. अपना लंड बाहर निकाल कर उसके हाथ मे दिया. नीलम ने मेरा लंड अपने हाथ मे ले कर अच्छे से पूरा नाप लिया और फिर बोली.

नीलम – ये बहुत बड़ा है.

मैं – बड़े मे तो मज़ा आता है.

नीलम – मुझे अभी कुछ न्ही करना सॉरी.

मैं – देख लो, ऐसा मौका कभी कभी मिलता है. अगर मज़ा लेना हो, तो रात को मेरे रूम मे आ जाना.

फिर हम डिन्नर करके सो गये. रात को करीब 12 बजे मेरे रूम का डोर ओपन हुआ. मैं समझ गया की नीलम मेरे रूम मे आई है. मैं आराम से ऐसे ही लेटा रहा. फिर वो धीरे से मेरी रज़ाई मे आई और लेट कर मुझे अपनी बाहों मे लेने लग गई.

मैं – अब क्यो आई हो यहाँ ?

नीलम – क्या करूँ, वो तुम्हरा बड़ा लंड मुझे सोने न्ही दे रहा हूँ.

मैं – तो मैं क्या करूँ ?

नीलम – तुम बस मुझे अपना लंड दे दो, मुझे और कुछ न्ही चाहिए.

ये कहते ही नीलम ने मुझे किस करना शुरू कर दिया. मैं भी उसे किस करने लग गया था. नीलम अपनी चिकनी जीब मेरे मूह मे डॉल रही थी. मैं भी मस्त होकर, उसकी जीब को चूस राहा था.

फिर मेरे हाथ उसके बूब्स पर आ गये थे. पर उसने मुझे रोका और अपने सारे कपड़े निकाल कर फेंक कर बोली.

Pages: 1 2