साहिब जिगलो कॉलेज प्रोफेसर के साथ

हेलो प्यारे दोस्तो, मैं हूँ आपका दोस्त साहिब जिगलो, मैं आपके साथ दो कहानियाँ शेर कर चुका हूँ और दोस्तो आपने मेरी दोनो कहानियों को बहुत पसंद किया और इसके लिए मैं आप सबका तहहे दिल से शूकर गुज़ार हूँ, मेरी कहानियाँ बिल्कुल सच्ची होती है और अपने क्लाइंट्स के साथ रियल सेक्स को बिना मनिपुलेट किए आपके साथ शेर करता हूँ, आज मैं जो आपके साथ कहानी शेर कर रहा हूँ वो एक कॉलेज प्रोफेसर की है जो की पंजाब के मोगा डिस्ट्रिक्ट की रहने वाली है, उसका नाम रणदीप है और रणदीप पहले भी मुझसे सर्वीसज़ ले चुकी थी और उसे मेरी सर्विस बहुत पसंद आई थी, रणदीप की उमर 42 साल होगी पर फिर भी उसने अपने आप को काफ़ी मैंटेन किया हुआ है, उसका फिगर अभी भी काफ़ी अट्रॅक्टिव है और रंग सावला है पर उसकी खूबसूरती मे अभी भी इतना दम है की किसी भी मर्द को अट्रॅक्ट कर सके, उसके हज़्बेंड की डेत हो चुकी है और उसका एक बेटा है जो की विदेश मे पढ़ रहा है और बेटी अभी 12थ क्लास मे है, उसने 15थ अक्टोबर को कॉल की थी की वो 16थ या 17थ को मुझसे मिलना चाहती है और 16थ को ऑलरेडी एक और क्लाइंट के साथ मेरी मीटिंग थी तो हमने 17थ को मिलने का डिसाइड किया.

मुझे 17थ दोपेहर 12 बजे तक उसने मोगा बस स्टॅंड पहुचने को कहा और मैं सही वक्त पर पहुच गया पर किसी कारण वो लेट हो गयी, फाइनली शाम के 4 बजे वो आई और हम नियर बाय एक होटेल मे चले गये, होटेल पहुचने पर हम फ्रेश हुए और थोड़ी रेफ्रेशमेंट ली और उसने अप्प्ल जूस और मैने एक बेर ली, रणदीप ने ग्रीन कलर की सारी पहन रखी थी और हमारे पास ज़्यादा वक्त नही था, उसे 6 बजे तक घर वापिस पहुचना था क्योंकि उसके घर कुछ गेस्ट आने वाले थे और उसकी लड़की घर पर अकेली थी, टाइम वेस्ट ना करते हुए मैने अपने कपड़े उतारे और वो सारे कपड़े उतारके बिल्कुल नंगी हो कर बेड पर आ गयी और मैने भी तुरंत एक्शन लेने की सोची, मैं बेड पर उसके पास लेट गया और वो मेरे उपर आ गयी और किस करने लगी और मैं अपने एक हाथ से उसकी पीठ सहलाने लगा और दूसरे हाथ से उसकी ज़ूलफे संभालने लगा जो की किस करते वक्त हमारे बीच आ रही थी, काफ़ी देर तक किस्सस और स्मूच करने के बाद वो धीरे-धीरे नीचे मेरे लॅंड तक पहुच गयी और हल्के-हल्के हाथों से स्ट्रोक लगाने के बाद उसने मेरा लॅंड अपने मूह मे डाल लिया और बड़े प्यार से चूसने लगी.

More Sexy Stories  कज़िन सिस्टर की चुड़क्कड़ सास

इससे पहले भी जब हम मिले थे तो उसने बहुत प्यार से मेरा लॅंड चूसा था और बहुत प्यारी ब्लोवजोब दी थी और वो काफ़ी देर मेरा लॅंड और लॅंड के नीचे टटटे चुस्ती रही, फिर मैने उसे बेड पे लेटाया और उसके उपर आ गया और मैं धीरे-धीरे उसके बूब्स सहलाने लगा और फिर एक-एक कर के चूसने लगा, वो सिस्स्स्स्क्कीयाआअ लेने लगी हाहहाहह उूुुुउऊहह मिड्ल एज्ड होने के बावजूद भी उसके बूब्स काफ़ी टाइट थे, उसके बूब्स को चूसने मे जो मज़ा आता है उतना किसी और क्लाइंट के बूब्स मे नही आता, वो बूब्स भी ऐसे चुस्वाति है जैसे किसी बच्चे को दूध पीला रही हो अपने बूब्स से, खुद अपने हाथों मे पकड़ के फिर मेरे बाल सहलाते-सहलाते अपनी चुचियाँ दबवाती और चुस्वाति है, काफ़ी देर चुचियाँ चुसवाने के बाद उसने मुझे नीचे चुत पर जाने को कहा और मैं उसकी नेवल पर किस करते-करते चुत तक पहुँच गया, उसकी चुत बहुत क्लीन थी और बिल्कुल टाइम ना गवाते हुए मैने उसकी चुत चाटना शुरू कर दी, अब उसकी आवाज़ो ने ज़रा ज़ोर पकड़ लिया और तेज़ हो गयी और हम शायद एक महीना या उससे भी ज़्यादा वक्त के बाद मिले थे, वो बहुत ज़्यादा उत्तेजित थी और ये उसकी आवाज़ो से भी पता चल रहा जब मैं उसकी चुत चाट रहा था.

उसकी चुत चाटने मे मुझे भी कुछ ज़्यादा ही मज़ा आ रहा था, मैने अपनी 2 उंगलियाँ उसकी चुत मे डाल दी तो वो बहुत ज़्यादा आवाज़े करने लगी हहाययईईए हूऊऊऊऊ आआययययीीईईई, फिर चुत चाटते-चाटते मैने उसके बूब्स हाथों मे ले लिए और दबाने लगा, हाए मेरे साहिब रोज़ क्यू नही मिलते तुम रोज़ क्यो नही आते मेरी चुत चाटने ये तरस गयी थी तुम्हारे लिए, काफ़ी देर चुत चाटने के बाद वो झड़ गयी और उसकी सारी चुत गीली हो गयी और उसकी चुत सॉफ थी झड़ने से पहले तो जब वो झड़ी तो मैने उसका सारा पानी उसकी चुत से अपने मूह से ही सॉफ कर दिया, उसने गहरी-गहरी साँसे ली हहुउऊुउऊहह ऊऊहह हमम्म्मममममम, उसके दिमाग़ से जैसे सारी टेन्षन्स दूर हो चुकी थी और मुझे भी ये देखके अछा लगा क्योकि मेरा यही काम होता है की अपने क्लाइंट्स को टेन्षन फ्री और स्ट्रेस फ्री करना, थोड़ा पॉज़ लेने के बाद उसने मेरा लॅंड अपने हाथो मे पकड़ा और सहलाने लगी और फिर थोड़ा सा चूसने के बाद जब लॅंड पूरी तरहा खड़ा हो गया तो उसने कॉंडम चढ़ा दिया, फ्रेंड्स कॉंडम लगा के उसने फिर से लॅंड को चूसना शुरू कर दिया और चूस के जब उसका मन संतुष्ट हो गया तो वो मेरे उपर बैठ गयी और लॅंड अपनी चुत के अंदर डाल लिया.

More Sexy Stories  पड़ोसन दुकानवाली आंटी की चुदाई

जैसे ही लॅंड अंदर गया तो उसने आँखे बंद कर के बड़ी सी साँस ली और धीरे-धीरे उपर नीचे होने लगी और उसे ये पोज़ बहुत ज़्यादा पसंद है क्योकि इस पोज़ मे लॅंड सारा का सारा अंदर तक जाता है, थोड़ी देर मे उसे और ज़्यादा जोश सा आने लगा और वो जल्दी-जल्दी उपर नीचे होने लगी और फिर वो थोड़ा सा बेंड होके मुझे किस करने लगी, मुझे किस करते-करते अब वो आगे पीछे हो रही थी और उसे चुदाई का जितना मज़ा आ रहा था वो उतने ही ज़ोर से मुझे किस करने लगी, फिर उसी पोज़ मे चुदते-चुदते उसने अपने बूब्स भी मेरे मूह मे डाल दिए और बारी-बारी अपने हाथों से बूब्स पकड़ के चुसवाने लगी, फिर वो मेरे उपर से उठी और डॉगी पोज़िशन मे आ गयी और मैने पीछे से उसकी चुत मे अपना लॅंड डाल दिया और स्ट्रोक्स लगाने लगा, काफ़ी देर स्ट्रोक्स लगाने के बाद वो भी तेज़ी से आगे पीछे होने लगी और मैं समझ गया की ये अब झड़ने वाली है और मैने अपनी स्पीड और बढ़ा दी और 15 मिनट बाद वो एयायाया आआहह आआवववववव हमम्म्मममममाआ करते-करते झड़ गयी, मैं अभी तक नही झडा था और मैने कॉंडम निकाल के लॅंड उसके मूह मे डाल दिया और वो ज़ोर-ज़ोर से लॅंड को चूसने लगी और 10 मिनट बाद मैने उसके मूह पर अपना पानी निकाल दिया.

Pages: 1 2