कैसे अपनी सगी चाची को चोदा

हाय फ्रेंड्स कैसे हो आप सब लोग. आज मै अपनी एक रियल लाइफ सेक्स स्टोरी लाया हू ये स्टोरी मेरी और मेरी सग़ी चाची के सेक्स एनकाउंटर की है.

जैसा की आप जानते हैं की मेरी एज 30 है,हाइट 6 फीट है और बॉडी आवरेज है और लंड भी नॉर्मल है बाकियो की तरह 10 इंच नही है बट मुझे सेक्स मय महारत हासिल है. मै जम्मू का रहने वाला हू.
पहले मै देल्ही जॉब करता था और अब मै मुंबई शिफ्ट हुआ हू और मुंबई मे ही एक अच्छी कंपनी मे मॅनेजर की जॉब करता हू. आप लोगों का ज़ियादा टाइम वेस्ट ना करते हुए स्टोरी पे आता हू.

मेरी चाची का नाम हर्षा है उसका फिगर एक दम कमाल का है. 38-40-38 उसके स्किन कलर जैसे की आप जानते ही हैं की हर कश्मीरी का कैसा होता है एक दम गोरा , और चेहरा जैसे किसी पारी का है, हाइट लगभाग 5 फीट 10 इंच की है और उसकी गांड और चुचि देख कर हिजड़े का भी खड़ा हो जाए.

उनकी एज 47 है. पर चाची ने खुद को ऐसा मेनटेन रखा है की किसी भी 26 साला की लड़की को टकर दे दे, उसको देख कर लगता नही की उसकी एज 47 होगी. और ये स्टोरी बिल्कुल रियल है. ये घटना आज से 3 मंत्स पहले की है जब मै जम्मू गया हुआ था.
मेरे चाचा बिज़्नेस मैन हैं और वो जम्मू सिटी मे रहते हैं मेरी चाची भी उनके साथ ही रहती है. मै जब जम्मू पहुचा तो नेक्स्ट डे मुझे होमटाउन जाना था जब मेरी चाची को पता चला की मुझे कल होमटाउन जाना है जो की 300 किलोमीटर दूर है जम्मू सिटी से तो चाची ने कहा की चलो मै भी तुम्हारे साथ होमटाउन चलती हू मै काफ़ी टाइम से गयी नही हू.

उसका मायका भी हमारे होमटाउन मे ही है, मै अंदर ही अंदर खुश हो गया की होमे टाउन मे क्या पता क़िस्मत खुल जाए और चाची की चुदाई करने का कोई चान्स बन जाए. हम जब होम टाउन की तरफ जा रहे थे तो हाफवे पहुच कर पता चला की रोड का वाइडेनिंग हो रहा है और ब्लासटिंग के कारण पूरी नॅशनल हाइवे पे जाम लगा है.
हम सुबहा से ही कोई 10 घंटे तक जाम मे ही रहे और शाम होने लगी उपर से ज़ोर की बारिश भी हो रही थी. तो चाची ने सजेस्ट किया की आज रास्ते मे ही होटेल मे रुकते हैं क्यूंकी आगे का पता न्ही रोड कैसा होगा.

More Sexy Stories  मेरे ही दोस्त मेरी मेरी सगी बहन के साथ क्या सेक्स

मेरे तो जैसे नसीब खुल गये मैने कहा आप अगर बोल रहे हो तो रुक जाते हैं . जाम की वजह से हाइवे के होटेल भी सारे बुक थे बट हमे एक होटेल मिला बट उस मे एक ही रूम था तो चाची बोली ठीक है बुक करते हैं हमे रात ही निकलनी है मैने भी बोला ओके.

हम ने रूम बुक किया और डिन्नर कर के सोने आए. बाहर बारिश बोहत होरही थी और सर्दी भी बॅड गयी थी क्यूँ की जम्मू ठंडा रीजन है. रूम मे एक ही कंबल था मेने कंबल चाची को दिया की आप ओढ़ लो बट कुछ टाइम के बाद मुझे जब ठंड लगी तो चाची ने भी नोटीस किया और मुझे कंबले ऑफर किया ,पहले तो मेने बोला ई आम ओके बट लेटर ले लिया. दोस्तो नींद किसको आनी थी जब बॉम्ब शेल जैसी सेक्सी चाची साथ थी.
एक घंटे तक मै चुप रहा बट जब मुझे लगा की चाची सो गयी है तो मै भी खुदको धीरे धीरे से चाची के नज़दीक ले गया इतना नज़दीक की मेरी बॉडी उनकी गांड से टच होने लगा. दोस्तो जैसे ही मै चाची की गांड के साथ टच हुआ मेरा लॅंड एक दम रॉकेट की तरहा खड़ा हो गया ,डर भी लगने लगा की अगर चाची जागी है तो गांड मार दे गी मेरी.

कोई 1 घंटे तक कुछ भी करने की हिमत नही आई मै मछली की तरहा तड़पने लगा, मेरा मुह भी सुख रहा था डर से की अगर चाची बुरा मान गयी तो क्या होगा,बट सेक्स का जुनून भी था.
तो आख़िरकार आहिस्ता आहिस्ता हिमत जुटा कर के मैने अपने हाथ उनके साड़ी पे डाला और नींद मे होने का नाटक कर के आहिस्ता आहिस्ता बूब्स पे जा कर के बूब्स को हल्के हल्के से सहलाने लगा 30 मिनिट तक जब चाची ने कोई रीऐक्शन नही दिया तो हिमत कर के मैने अपने लॅंड को चाची की गांड के साथ अड्जस्ट कर के सहलाना शुरू किया.
थोड़ी दैर बाद मेने नोटीस किया की चाची जाग गयी और मैने झूठी नींद मे होने का नाटक किया और चाची ने करवट बदली और फेस मेरी तरफ किया,दोस्तो मै चाची की इतना नज़देक सिमट कर था की उसकी करवट बदलते ही उस के बूब्स मेरी बॉडी से टच होने लगे.

More Sexy Stories  कज़िन सिस्टर की चुड़क्कड़ सास

दोस्तो अब मुझसे कंट्रोल नही होने लगा और मै नींद मे होने का नाटक कर के चाची के बूब्स आहिस्ता से सहलाने लगा थोड़ी दैर चाची ने कुछ रीऐक्शन नही दिया.
बट कोई 10 मिनिट बाद उसने ने मेरे हाथ पे अपना हाथ रखा और मै समज गया की चाची अब गरम हो चुकी है और मैने हिमत कर के उनकी साड़ी के अंदर स्लोली स्लॉवी हाथ डाला की जैसे मैं नींद मे हू और उन के चूत को सहलाना शुरू किया और बूब्स को भी.
कोई 20 मिनिट्स तक ऐसे चलता रहा,चाची की तरफ से कोई रीऐक्शन नही मिला बट थोड़ी दैर बाद चाची ने फिर से करवट बदली मेरी तरफ. की मै थोड़ा सा अड्जस्ट कर के उनकी नेक को आहिस्ता आहिस्ता अपनी उंगलियों से सहलाना शुरू किया.

Pages: 1 2