पंजाबी भाभी की मस्त चुदाई

Bhabhi Ki Chudai सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम विजय सिंग है. आज मैं आप सब के लिए अपनी जिंदगी की एक सच्ची घटना ले कर आया हूँ. मुझे उमीद है आप को मेरी ये कहानी पसंद आएगी. तो चलिए फिर जल्दी से कहानी शुरू करते है.

दोस्तो मेरा नाम विजय है और मैं पुंजब मे रहता हूँ. मेरी पूरी फॅमिली एक साथ ही रहती है. मेरे बड़े से घर मे मेरे चाचा, चाची ताया ताई सब रहते है. मेरी उमर 24 साल है और मैं अपनी स्टडी पूरी करके एक अपनी मोबाइल शॉप ओपन कर रखी है. मेरा काम बहुत अछा चल रा है.

इसलिए मेरे लिए काफ़ी काफ़ी आचे अच्छे रिश्ते आने शुरू हो गये थे. पर आज की मेरी ये कहानी मेरे और मेरी भाभी के बीच की है. मैं अपने घर वालो का एक ही लड़का हूँ. मेरे घर मे मेरे ताया जी का बड़ा लड़का लंडन गया हुआ है. उसकी शादी आज से 4 साल पहले हो गयी थी. शादी के बाद ही एक साल मे उसको एक लड़की हो गयी थी.

उसके बाद वो वापिस से लंडन चला गया था. जिससे उसकी शादी हुई थी उसका नाम सुखविंदर कौर है. यानी वो मेरी भाभी है पर उसे हम सब प्यार से सुखी कहते है. भाभी सच मे बहुत ही कमाल की औरता है. वो पटियाला से है और पटियाला का सूट और लड़किया आप को पता ही है कितनी मशहूर है.

मेरी भाभी सुखी 26 साल की है और एक दम मस्त है. उसका फिगर 34-32-34 है. रंग गोरा नैन नक्शा कमाल के थे. गुलाबी होंठ जब भी खुलते थे तो अंदर से उसका लाल मूह दिखता था. जिसे देखते ही अंदर लंड घुसाने का दिल करता था. पर दोस्तो मैं सच बतता हूँ की मैने आज तक कभी अपनी भाभी को ग़लत नज़र से न्ही देखा था. पर एक दिन कुछ ऐसा हुआ की मेरा मन भाभी की तरफ से एक दम ही बदल चुका था.

More Sexy Stories  निशा भाभी की मस्त चुदाई

हुआ कुछ ऐसे ही एक दिन मैं भाभी मेरे घर पर आई हुई थी. और सोफे पर बैठी अपनी लड़की को दूध पीला रही थी. जब मैं अपनी शॉप के लिए जा रा था तो मैने जाते हुए गुड़िया के सिर पर बड़े प्यार से हाथ फेर दिया. पर हाथ उसके सिर पर लगते हुए मेरा हाथ थोड़ा सा उसके बूब्स पर भी टच हो गया.

ये मेरे साथ पहली बार हुआ था इसलिए मेरा ध्यान उस पर बिल्कुल भी न्ही गया था. अगले दिन फिर से ये ही हुआ और मेरा हाथ आज भी उसके बूब्स पर थोड़ा सा टच हुआ. पर आज मैने महसूस किया की मेरा हाथ आज एक सॉफ्ट चीज़ से लगा है. उस टाइम मेरी गान्ड फट गयी की कही भाभी कुछ बोल ना दे. पर भाभी मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी.

भाभी को मुस्कुराते देख मेरी जान मे जान आई. फिर मैं अपनी शॉप पर चला गया. और मैं पूरा दिन भाभी के उस सॉफ्ट बूब्स के बारे मे सोचता रा. अगले दिन मैं जब घर से निकालने वाला था तभी फिर भाभी अपनी लड़की को मेरे सामने दूध पीला रही थी. मैने आज भी हिम्मत के उसको प्यार करने के बहाने भाभी के बूब्स को टच कर लिया.

आज मैने बूब्स को छुआ ही न्ही बल्कि थोड़ा सा मसल सा भी दिया. आज फिर भाभी मेरी आँखो मे आँखें डाल कर मुस्कुराने लग गयी. मेरी अब हिम्मत बढ़ चुकी थी. मैं फिर से अपनी शॉप पर आ गया था. और मैं सोच लिया अब इस पटियाला के माल को चोद कर ही मनुगा. और इसे अपने लंड की सैर ज़रूर करूँगा. भाभी की मुस्कुराहट को देख कर तो ऐसा लगता था की वो भी ये चाहती है.

More Sexy Stories  बस मे मिली भाभी की चुदाई

अगले दिन जेसे ही मैं हर रोज की तरह भाभी के बूब्स को मसलने लगा तो भाभी तभी बोली क्या देवर जी आप भी हर रोज मेरे अंदर आग लगा कर चले जाते हो ये अच्छी बात न्ही है.

ये सुनते ही मैं खुश हो गया और मैं बोला अरे भाभी आप को ये अछा लगता है. मेरी तो गान्ड फॅटी थी की कही आप किसी को बता तो नही दोगे.

और भाभी बोली अरे मैं भी ये सोचती थी की कही तू किसी को ना बता दे. हम फिर ज़ोर ज़ोर से हस्ने लग गये और जाते जाते आज मैने भाभी का पूरा बूब्स अपने हाथ मे ले कर मसल दिया. और फिर अपनी शॉप पर आ गया. भाभी के मूह से आअहह आहह की आवाज़ अभी तक मेरे कानो मे गूँज रही थी. मेरा मन आज काम मे ज़रा सा भी न्ही लग रा था. मैं बैठा भाभी को चोदने का प्रोग्राम बना रा था.

घर पर तो मैं भाभी को किसी भी हालत मे न्ही चोद सकता था. क्योकि घर मे हर टाइम कोई ना कोई होता ही है और उपर से हमारी फॅमिली भी काफ़ी अच्छी है. मैं भाभी को फोन किया और इस बारे बात करी भाभी ने मुझे कहा की घर मे तो रिस्क लेना ही न्ही है चाहे जो हो जाए. मैने कहा भाभी फिर आप ही कुछ सोचो और कोई प्लान बनाओ. मुझसे अब बर्दाश न्ही हो रा है. भाभी ने सोचती हूँ कुछ कह कर फोन कट कर दिया.

Pages: 1 2 3