पति के बॉस से अपनी चुदाई कराई

मेरा नाम रंजू है. मै पंजाब की एक कड़क पंजाबन हुं. मेरे पीछे पूरे लोंडे पागल है मुझ्रे रोज़ नये नये लंड चाहिए होते. मुझे चुदंना बहुत पसंद है.
जब मेरी शादी की बात चली, तो मुझे लगा अब तो मैं बिना किसी डर से हर रोज चुदा करूँगी. मैं अपनी चुत की दिन रात अच्छे से मालिश करने लग गयी, उसे अच्छे से पूरा चिकना करने लगी. ताकि मेरा होने वाला पति, इसे देखते ही चाटने लगजाए और फिर जोश मे आकर इतना जम कर ठोके, की मुझे मेरी नानी याद आ जाए.

पर दोस्तो, मेरी किस्मत तो देखिए. मेरी शादी एक लोकल मनीष नाम के लड़के से हो गयी. दिखने मे तो ठीक-ठाक लग रहा था. पर शादी वाले दिन ही मुझे पता चल गया, की इस साले बेहन्चोद मे दम नही है. शादी के बाद हम पाँच दीनो के लिए हनिमून पर चले गये.

मुझे उमीद थी , चलो वाहा जा कर ये अपना दम दिखा देगा. क्योकि काफ़ी बार मर्द टेन्षन मे सेक्स नही कर पाते. मैने सोचा वाहा जा कर ये साला टेन्षन फ्री हो जाएगा. और फिर वाहा मुझे जम कर चोदेगा, पर साला सच मे वो ना मर्द ही निकाला.
उसने मुझे ज़रा भी खुश नही किया, मेरा मूड बहुत खराब हो गया. जब किसी लड़की को ये पता चल जाए, की जिस पति से वो सारी उमर चुदाने के सपने ले कर उससे शादी कर चुकी थी , वो उसे चोद ही नही पाता, तो सोचो उस लड़की पर क्या बीतेगी.
खैर अब मेरे बस मे कुछ नही था. शादी से पहले ही मैने अपने दोस्तो से ब्रेकप कर लिया था. मैं अपनी पुरानी लाइफ जीने लग गयी. मैं अपने ऑफीस मे फिर जाने लग गयी. एक दिन बॉस ने मुझे संडे को ऑफीस मे आने को कहा, क्योकि उन्‍हे एक प्रोजेक्‍ट तयार करना था.

More Sexy Stories  बाय्फ्रेंड से खूब चुदाई की

इसलिए संडे को मैं,बॉस और एक और लड़का राहुल ऑफीस मे आने वाले थे. मेरे पति की संडे वाले दिन भी छुट्टी नही होती, इसलिए मैं वैसे भी घर बैठ कर बोर हो जाती थी. इसलिए मैने बॉस को ऑफीस मे आने के लिए हा कह दिया.

संडे के दिन मैं सुबह जल्दी उठी और नहा धो कर ऑफीस चली गयी. नहाते हुए मुझे ना जाने क्या हुवा, मैने अपनी चूत को शेव कर लिया. मुझे मेरे दिल से आवाज़ आ रही थी, की आज मैं चुदने वाली हूँ. मैने आज वाइट कलर का टाइट टॉप डाला और ब्लॅक कलर की टाइट जीन्स डॉल ली.

मेरा 34-30-36 का फिगर उसमे कसम से बहुत कमाल का लग रहा था. मैं ऑफीस जब गयी, तो देखा बॉस पहले से पहुच चुके थे और बैठ कर काम कर रहे थे. मैं भी अपने कंप्यूटर पर बैठ कर अपने काम मे लग गयी. बॉस ने पहले से ही मुझे सारा काम मेल कर दिया था.

मैंने और बॉस ने 12 बजे तक सारा काम ख़त्म कर दिया. फिर बॉस मेरे पास आए. मेरे पीछे खड़े होगये और झुक कर मुझे काम समझाने लग गये. उनका मूह मेरे गाल के एक दम करीब था. अचानक ना जाने उन्हे क्या हुआ, उन्होने मेरे गाल पर किस कर लिया.

मैं भी उन्हे देख कर मुस्कुरा दी, फिर उन्होने एक और किस कर दिया. बॉस मेरे दोनो बाहों पर अपने हाथ फेरते हुए बोले.

रंजू आज बहुत सेक्सी बन कर आई हो तुम ?

इतने मे पीछे से राहुल आ गया और वो बॉस से कुछ पूछने लग गया. मैने बॉस को धीरे से कहा.

की बॉस राहुल को घर भेज दीजिए प्लीज़.

बॉस मेरी बात सुन कर खुश हो गये, उन्होने राहुल को घर के लिए काम देकर वाहा से भेज दिया. राहुल घर चला गया अब ऑफीस मे,मैं और बॉस ही थे. बॉस ने अंदर से ऑफीस का शॅटर गिरा दिया, ताकि कोई भी अंदर आ कर हम दोनो तंग ना करे.

More Sexy Stories  घर के अँधेरे कमरे में दोनों चाचियों को एक साथ नंगी चोदा

फिर बॉस आए और आते ही उन्होने मुझे खड़ा किया और दीवार से मुझे लगा कर मुझे चूमने लग गये. मेरी चूत अब पानी छोड़ने लग गयी, कसम से मुझे आज ऐसा लग रहा था. मानो आज मैं सच मे एक मर्द की बाहों मे हूँ.

उन्होने मेरा टॉप उतार कर साइड मे फेंक दिया. वो मेरे बूब्स देख कर पागल हो गये, उन्होने मेरी ब्रा भी खोल दी. ब्रा के खुलते ही मेरे बूब्स उछल्ल कर बॉस के हाथो मे आ गये. वो मेरे दोनो बूब्स को बारी-बारी से चूसने लग गये. मैं बहुत ही ज़्यादा गरम हो गयी, क्योकि आज बहुत दीनो बाद मेरे बूब्स एक मर्द के हाथो मे आए थे.

काफ़ी देर तक मेरे बूब्स चूसने के बाद, उन्होने मेरी जीन्स खोल दी. मैने खुद ही अपनी जीन्स नीचे कर दी. जब बॉस ने मेरी गोरी चिकनी जांघे देखी तो वो अपने आप पर काबू नही कर पाए.

उन्होने जल्दी से एक टेबल को पूरा खाली कर दिया. और मुझे अपनी गोद मे उठा कर मुझे टेबल पर लेटा दिया. मेरी पेंटी उन्होने फाड़ दी, और मेरी दोनो टाँगे खोल कर मेरी चिकनी चूत पर अपना मूह रख दिया.

बॉस मेरी चूत को ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगे. मैं तो पागल होने लगी, वो मेरी चूत मे अपनी जीब डॉल-डॉल कर मेरी चूत को चोदने लग गये. इतने मे मेरा फोन रिंग करने लगा, मुझे पता था की मेरे पति का फोन आ रहा है.

मैं फोन कैसे उठा सकती थी, जब मैने फोन नही उठाया. तो मेरे बॉस का फोन रिंग करने लगा. बॉस ने फोन मुझे दे दिया, मेरे मूह से आहह-आहह की आवाज़े आने लगी.

Pages: 1 2