पड़ोसन लड़की की चूत चाट कर मस्त चुदाई किया

मेरा नाम बिन्नू सिंह है। मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ। मैं बहुत इश्कबाज टाइप का 25 साल का लड़का हूँ। मुझे नई नई लड़कियों को पटाना और उनकी चूत मारने का बड़ा शौक है। मुझे खूबसूरत लड़कियाँ बहुत अच्छी लगती है और उनको देखते ही मुझे उनसे प्यार हो जाता है। मुझमे बात करने का बड़ा हुनर है। इसी के दम पर मैं खूबसूरत लड़कियों को पटा लेता हूँ फिर उसकी चूची पी पीकर उनको चोद लेता था। मेरा बदन फिट और कसरती है। अपनी बॉडी को मैंने जिम जाकर खूब फिट और चुस्त बना रखा है। इसी वजह से लडकियों मेरी ओर खिची चली आती है। मैं अमीर बाप की औलाद हूँ इसलिए मेरे पास पैसो की कोई कमी नही है। मैं अपनी गर्लफ्रेंड्स को कार में घुमाता हूँ और नये नये गिफ्ट उनको देता हूँ। इसलिए वो आसानी से मुझे अपनी रसीली चूत दे देती है। मैं अब तक 8 जवान लड़कियों को चोद चुका हूँ।

मेरे घर के पास ही एक बड़ी खूबसूरत लड़की रहती थी। उसका नाम आराधना था। धीरे धीरे मैंने उसे पटाना शुरू कर दिया। मैंने उसे कई बार महंगी ड्रेसेस खरीद कर दी पर इसके बावजूद वो खुश नही थी। एक दिन वो बहुत उदास थी। मैं आराधना को अपनी कार में लेकर पास के एक माँल में आया था। हम बैठकर आइसक्रीम खा रहे थे। मैं बार बार उसके गाल पर किस कर रहा था। पर आराधना कुछ दुखी लग रही है। मैंने उसे कंधे पर हाथ रख दिया।
“क्या हुआ जान!! आज तुम्हारा मूड सही नही???” मैंने अपनी गर्लफ्रेंड से पूछा
“बिन्नू!! मेरे पापा की नौकरी चली गयी है। इसलिए मैं बहुत दुखी हूँ। क्या तुम अपने पापा से बोलकर उनको नौकरी दिला सकते हो??” अराधना बोली
उसके बाद मैंने तुरंत अपने पापा की कम्पनी में उसके पापा को नौकरी दिला दी। 2 दिन बाद आराधना जब मुझसे मिली तो बहुत खुश थी।

More Sexy Stories  गर्लफ्रेंड की चुदाई उसके घर

“थैंक्स बिन्नू!! मैं तुम्हारा अहसान कैसे चुका पाउंगी” आराधना बोली
“चूत देकर” मैंने कहा
“धत्त!! शरम नही आती ऐसी बात करते” आराधना बोली और हंसने लगी
मैंने उसे सीने से लगा लिया और किस करने लगा।
“जान! अब हम दोनों जवान हो चुके है। सब बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड चुदाई का मजा लेते है। इसमें हर्ज ही क्या है” मैंने कहा
वो हँसने लगी। वो शरमा रही थी.
“ठीक है मैं सोचूंगी” वो बोली
उसके बाद हम पिक्चर देखने चले गये। जब सिनेमाहाल में अधेरा हो गया और फिल्म शुरू हो गयी मैं बार बार आराधना की चूत में ऊँगली कर रहा था। वो “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” की सेक्सी आवाजे सिनेमाहाल में ही निकाल रही थी। उसने लैगी और कुर्ता पहना हुआ था। मैं बार बार उसकी लैगी में हाथ डालकर उसे गरम कर देता था। 2 घंटे तक मैं अपनी खूबसूरत गर्लफ्रेंड आराधना के साथ यही करता था। हम दोनों कार्नर सीट पर बैठे थे। मै उसके दूध दबा देता था। दोस्तों जब पिक्चर खत्म हुई तो आराधना की चूत से खूब रस निकलकर उसकी लैगी पर लग गया था। मैंने उसके बूब्स भी खूब मसले थे।
“बिन्नू !! मेरे साजन, मेरे जानम चलो मुझे कही ले चलो और चोद लो मेरी कुवारी बुर को आज। आज मैं तुमसे प्यार करना चाहती हूँ….बहुत सारा प्यार” आराधना बोली
उसे मैंने अपनी कार में बिठा लिया। अब दिक्कत थी की मैं आराधना को कहाँ पर ले जाकर चोद लूँ। उसके घर जा नही सकता। अपने घर जा नही सकता। मैंने अपने दोस्त निखिल को फोन लगाया। निखिल मेरा बेस्ट फ्रेंड था। वो मेरे काम पर हमेशा मदद करता था। निखिल आजमगढ़ का रहने वाला था। लखनऊ में वो किराए पर कमरा लेकर रह रहा था। निखिल बी। टेक का कोर्स कर रहा था।
“भाई!! अपनी गर्लफ्रेंड को चोदना है। प्लीस मेरे लिए कमरे का जुगाड़ कर दे यार” मैंने कहा
“ठीक है तू मेरे कमरे पर आ जा। मैं कोलेज चला जाऊँगा और शाम को आऊंगा। तब तक तू अपनी गर्लफ्रेंड को चोद लेना” निखिल बोला
मैंने कार को उसके कमरे की तरफ दौड़ा दिया। निखिल ने मुझे चाभी दे दी और अपने कॉलेज चला गया। मैंने आराधना को लेकर उसके कमरे में चला गया।

More Sexy Stories  बाय्फ्रेंड के बड़े भाई ने चोदा

अंदर जाते ही मैंने अपनी मस्त मस्त सेक्सी गर्लफ्रेंड को गले लगा लिया और किस करने लगा। आज वो भी पूरी तरह से चुदाई के मूड में थी।
“जान!! तुम दुनिया की सबसे सुंदर लड़की हूँ। माँ कसम!!!” मैंने लाइन चिपकाई
हर लड़की से मैं यही बोलता था और पटाकर चोद लेता था।
धीरे धीरे कम खड़े खड़े ही किस करने लगे। धीरे धीरे आराधना मुझ पर सेंटी हो गयी। मैंने उसके लब चूसने लगा। दोस्तों मेरी गर्लफ्रेंड बिलकुल देसी माल थी। अच्छी खासी कद काठी की थी। कद 5’ 4” था और 22 साल की उम्र थी। बिलकुल देसी माल थी। आज मुझे अच्छे से आराधना की चूत में लंड देना था। वो भी मुझे किस करने लगी। आराधना का फिगर 34 26 30 था। वैसे तो दुबली पतली थी पर जहाँ पर उसके जिस्म में गोश होना चहिये वहां पर खूब था। आराधना के दूध बहुत गोल गोल और रसीले थे। मैंने उसे सीने से लगा रखा था। बार बार मैं उसे उसके पुट्ठो को पकड़कर सहला देता था। आराधना चोदने के बिलकुल सही लकड़ी थी। हम जल्दी जल्दी किस करने लगे। आराधना बार बार अपनी सासें छोड़ देती थी। कम से कम 20 मिनट तक हम दोनों चुम्मा चाटी करते रहे। फिर मैंने अपनी जवान गर्लफ्रेंड को निखिल के बिस्तर पर लिटा दिया। आराधना खूब भी चुदने के मूड में थी।

Pages: 1 2