पड़ोसन दीदी नेहा की चुदाई

Free Hindi Sex Story Behan Padosan Didi Neha Ki Chudai हेलो दोस्तो मेरा नाम राजीव है और आज मैं आपके लिए अपनी जीवन की एक सच्ची घटना लेकर आया हूँ. मुझे उम्मीद है की आप को पसंद आएगी. ये फ्री हिन्दी सेक्स स्टोरी बेहन की चुदाई तब की है जब मेरी उमर 20 साल की थी उस टाइम मैं अपने बी.ए के एग्ज़ॅम दिए ही थे मैं आज कल बिल्कुल फ्री था.

इस लिए मैं इंटरनेट की नॉलिड्ज लेने के लिए इंटरनेट क्याफे मे जाता था. मैं ज़्यादातर अपने एक दोस्त मोनू के साथ ही जाता था क्योकि उसे काफ़ी नालेज थी इंटरनेट की. पर वो ज़्यादातर सेक्स से रिलेटेड मूवी या स्टोरी ही रीड करता था.

मेरे पड़ोस मे एक नेहा नाम की एक लड़की रहती थी. उसे मैं प्यार से दीदी कहता था. दीदी मुझसे करीब 5-6 साल बड़ी थी. हम दोनो मे काफ़ी अछी बॉनडिंग थी. पर अब उनकी शादी हो चुकी थी और अब वो अपने हज़्बेंड के साथ देल्ही रहती थी.

एक दिन की बात है जब मैं इंटरनेट केफे गया तो मेरा दोस्त मुझसे पहले ही वाहा आया हुआ था. मैं उसके पास गया था तो वो रोज की तरह एक कहानी पढ़ रहा था जिसका नाम था भाई और बहन का प्यार.

मैने उसे कहा साले तुझे कुछ और काम नही है इसके सिवा मुझे उस पर बहोत गुस्सा आया और मैं वाहा से जाने लगा पर उसने मुझे रोक लिया और 2 4 पॅरग्रॅफ रीड करवा दिए.

उसने मुझे कहा साले तू इस कहानी मे अपनी नेहा दीदी को सोच कर पढ़. मैने उसकी बात मानी तो मुझे कुछ अजीब सा लगने लग गया मैं झट से वाहा से उठा और अपने घर आ गया.

मैं जैसे ही अपने बेड रूम मे गया तो वाहा एक बड़ा सा बॅग पड़ा हुआ था. और मेरे बाथरूम मे से पानी की आवाज़ आ रही थी जैसे की अंदर कोई नहा रहा हो. मैने देखा की मम्मी किचन मे खाना बना रही है और दादी कही बाहर गये हुए है.

More Sexy Stories  अपनी रिसेप्षन वाली आंटी को चोदा

मैं मम्मी के पास गया तो मम्मी ने बताया की तेरी नेहा दीदी आई है. मैं एक दम खुश हो गया मैं अपने कमरे मे उनसे मिलने गया. मैं कमरे मे गया तो वो ना वाहा नही थी मैं बाथरूम मे देखा वो वाहा भी नही थी. तभी किसी ने मुझे पीछे से पकड़ लिए और मेरे गालो पर किस कर लिया.

मैं जैसेही पीछे मूड कर देखा तो वो मेरी नेहा दीदी थी. उनके बाल गीले थे और उन्होने काफ़ी खुला सा गाउन डाला हुआ था. वो बिल्कुल एक आंटी सी लग रही थी. उन्होने मुझसे मेरे एग्ज़ॅम के बारे मे पूछा और फिर हम दोनो बेड पर बैठ कर बातें करने लग गया.

मैं उनके जिस्मा को निहार रहा था जैसा की मैने कहानी मे पड़ा मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था. मेरी आँखें दीदी के बूब्स और गॅंड चूत को स्कॅन करने की कोशिश कर रही थी दिमाग़ मे उन्हे चोदने के ख़याल आ रहे थे.

तभी दादी कमरे मे आ गई उनसे बातें करने लग गई. मैं मम्मी के पास गया तो मम्मी ने कहा की तेरी दीदी अपने मम्मी पापा को सूप्राइज़ देने के लिए. अचानक बिना बताए अपने घर आई थी पर वाहा कोई भी नही था सब के सब बाहर गये हुए है. इस लिए वो यहा आ गई.

फिर हम सब ने बैठ कर एक साथ डिन्नर किया. मैने देखा की कहा नेहा दीदी शादी से पहले एक दम पतली सी थी और अब उनकी गॅंड कुर्सी से भी बाहर जा रही है.

डिन्नर करने के बाद दीदी सोफे पर अपनी टाँगे मोड़ कर लेट गई. और मुझसे बोली राजू तू इधर आ और मेरी टाँगे दबा दे ज़रा बहोत दर्द कर रही है. मैं उनके पैरो मे बैठ गया उनकी टॅंगो को बड़े प्यार से दबाने लग गया. मैने महसूस किया की कुछ ही देर मे दीदी की टाँगे गरम होने लग गई.

More Sexy Stories  एक अंजान आंटी के घर पर

अब मैने थोड़ी हिम्मत करी और उनके पट पर हाथ रख कर उसे दबाने लग गया. दीदी मुझे कुछ नही बोली मेरी हिम्मत बढ़ गई. दीदी के पट्ट और भी ज़्यादा गर्म थे. मैं अब धीरे धीरे उनके पॅट्टो को सहलाने लग गया. मेरा लंड अब खड़ा होने लगा जो की दीदी के पैरो से नीचे दबा हुआ था. मैं चाह कर भी अपने लंड को रोक नही पा रहा था.

तभी दीदी बोली – राजू तुम्हारी कॉलेज मे अभी तक गर्लफ्रेंड बनी है या नही ?

मैं शरमाते हुए बोला – नही दीदी अभी तक तो नही बनी कोई.

दीदी बोली – तभी तुम मेरी टाँगे छोड़कर मेरे चुत्तर और पट्ट दबा रहे हो.

उनकी बात सुनकर मैं बहोत शर्मिंदा हो गया और बोला दीदी आई एम रियली सॉरी.

दीदी बोली – अरे कोई बात नही तुम्हारी एज मे ऐसा अक्सर होता है चलो अब उठो ओर मेरी कमर दबाओ.

फिर मैं उठा और दीदी भी उठ कर मेरे बेडरूम मे चली गई और उल्टी लेट गई. फिर मैं उनके पास बैठ गया और अपने दोनो हाथो से उनकी मखमली कमर को दबाने लग गया. मेरा लंड अब पागल होता जा रहा था. मैने उन्हे कहा की आप 2 मिनिट वेट करो मैं आया.

मैं जल्दी से बाथरूम मे घुसा और अपना लंड बाहर निकाल कर मूठ मारने लग गया. तभी पीछे से अचानक दीदी आ गई और उन्होने मुझे लंड उपर नीचे करते हुए देख लिया. अब मैं शर्म के मारे मरने वाला हो गया था.
दीदी मुझे पकड़ कर बेडरूम मे ले गई और मेरे साथ बैठकर बोली – राजू आख़िर बात क्या है मैं जब से देल्ही से आई हूँ तब से तुम मुझे एक अलग निगाओ से देख रहे हो. देखो शरमाओ मत मुझे बताओ क्या तुम मुझे पसंद करते हो, देखो अब डरो मत बताओ आख़िर बात क्या है.

Pages: 1 2