सेक्सी ऑफीस मे काम करने वाली की चुदाई

office mai kam warni wali ki chudai : सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी। हेलो दोस्तो, केसे हो आप सब, वैसे मुझे पता है आप बहुत अच्छे होंगे और मेरा इंतेज़ार भी कर रहे होंगे इसलिए आज आप सबका इंतेज़ार ख़तम करने के लिए मैं फिर से आ गया हूँ. तो बिना कोई समय गवाए मेरी कहानी पर चलिए और खूब ज़्यादा मज़ा लीजिए.

मेरा नाम राज है और मेरी उमर 24 साल है और मैं एक इंटरनॅशनल कंपनी मे काम करता हूँ. और मैं दिखने मे काफ़ी हॅंडसम हूँ और काफ़ी डॅशिंग भी हूँ. मुझ पर कंपनी मे काफ़ी लड़कियाँ मारती भी है जिसका मरना देख कर मुझे काफ़ी हसी आती है क्योकि मैं उन लड़कियो को देखता तक न्ही हूँ.

आज मैं आपको अपनी एक मस्त सी कहानी बताने जा रा हूँ जो की बहुत अच्छी है और सच्ची है. इस कहानी मे मैने अपने लंड से पहली बार किसी की चूत को चोदा है तो वो केसे हुआ है उसके लिए ज़रा गोर फरमाईएएगा.

तो चलिए अब कहानी पर चलते है.

ये बात आज से एक साल पहले की है. जब मैं उसी कंपनी मे था और वहाँ पर एक बहुत ही खूबसूरत लड़की ने जोइन करी जिसको पहली नज़र देखते ही मेरा दिल धड़कने लग गया. वो लड़की को देखते ही मेरे सांस जेसे रुक से गये और मैं पागल सा होने लग गया. उसका रंग एक दम गोरा था और वो हाइट मे थोड़ी कम थी पर उसका जिस्म पूरा भरा हुआ था जिसको देखते ही मेरा लंड पागल होने लग गया था.

उसके जोइन होते ही मैं उससे बाते करने लग गया था और तब उसने मुझे अपना नाम बताया तो पता चला की उसका नाम राधा है. वो भी कुछ ऐसे ही टाइप की थी. वो खुद बात करने मे हिचकिचाती न्ही थी और काफ़ी खुल कर बात किया करती थी. मैं भी उससे काफ़ी खुल कर बात करता था और हमने फिर अपने मोबाइल नंबर भी शेर किए थे जिससे हमारी मेसेज पर भी बात शुरू हो गयी थी.

More Sexy Stories  सुमन भाभी ने लंड में तेल लगा के चुदवाया

मुझे वो पहले से ही बहुत अच्छी लगती थी पर मैं तो न्ही जनता था की वो मेरी ये दिल की फीलिंग को जानती भी है या न्ही पर फिर भी मैने उसे कुछ न्ही कहा और ऐसे ही टाइम बिताने लग गया. हम कभी कभी ऑफीस के बाद कॉफी पीने चले जाते थे और कभी कभी शाम को गार्डन भी चले जाया करते थे जिससे हमारे बीच दोस्ती काफ़ी गहरी होती चली गयी थी.

कभी कभी मैं उसको बाइक पर बिठा कर उसके घर तक छोड़ आया करता था और वो मेरे पीछे एकदम चिपक कर बैठी थी और उसके ऐसे बैठने से उसके बूब्स मेरी छाती से जा लगते थे जिससे मेरा लंड खड़ा हो जाता था और मुझे खुद को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता था.

हमारी फोन पर भी बाते शुरू हो गयी थी और हम रात को बाते मारने लग गये थे. ऑफीस मे भी हम एक साथ रहने लग गये थे जिससे मैने एक दिन खुद पर कंट्रोल ना होने की वजह से उनके गाल पर किस करदी तो उन्होने कुछ नही कहा तो मैं फिर मौका देखते ही उनके गाल पर किस करने लग गया था.

फिर एक दिन मैं और वो गार्डन मे घूम रहे थे तो मैने उन्हे लीप किस करने को कहा तो उन्होने मुझसे कहा की ये बात किसी को मत बताना तो मैने भी उसकी हाँ मे हाँ मिलाई और किस कर डाली.

अब तो मैं बस उन्हे चोदने के सपने ले रा था और फिर एक दिन हमे पता चला की कंपनी की तरफ से कुछ लोगो को 8 दिन के लिए टूर पर ले कर जा रहे थे जिसमे हम दोनो भी थे और मैं ये जान कर खुश हुआ और फिर हम चले गये.

More Sexy Stories  Maine Maa ko Chudakkad Bana Diya

वहाँ पर हमे अलग अलग रूम मिले तो हमने खाना खाया और फिर मैने राधा को मेरे कमरे मे आ कर बात करने को कहा तो वो मेरे साथ आ गयी और हम बाते मारने लग गये.

बाते मरते हुए अब मैने उसके होंठो पर किस कर डाली तो वो भी मेरा साथ देने लग गयी. क्योकि हम दोनो शायद इसी मौके की तलाश मे थे जो की आज फाइनली हमे मिल ही गया था.

अब मैने उसके कपड़े उतार डाले और उसके गोरे गोरे बूब्स को हाथो मे ले लिया और तभी हमने टीवी मे देखा की वहाँ पर तिल के बारे मे बता रहे थे तो ये सुनते ही उसने मुझे अपने बूब्स के बीच का तिल दिखाया तो मैने भी कमीज़ उतार डाली और उसे अपने तिल दिखाने लग गया.

उसके बूब्स को देख कर मैने उसको हाथो मे ले लिया और ज़ोर ज़ोर से मसलने लग गया जिससे उसके मूह से भी सिसकारिया निकलने लग गयी और मुझे भी काफ़ी मज़ा आने लग गया.

अब मैने उसके बूब्स को भी नंगा कर दिया और उनको मूह मे भर कर चूसने लग गया जिससे उसके मूह से सिसकारिया निकलने लग गयी और फिर मैने उसकी पानटी उतार दी और खुद भी पूरा नंगा हो गया और उसके उपर लिपट कर उसके बूब्स को मूह मे भर कर चूसने लग गया. मुझे ऐसे करने मे बहुत मज़ा आ रा था और फिर मैने तभी उसकी चूत मे अपनी उंगली दे डाली और चोदने लग गया.

Pages: 1 2