ऑफिस की मैम की चूत और गांड

मेरा नाम शकील है और मैं मुंबई से हूँ. मैं एक निजी कंपनी में जॉब करता हूँ. मेरी उम्र 28 साल है व हाइट 5 फुट 8 इंच है. मैं देखने में ठीक ठाक हूँ.

मेरी कंपनी में कौसर मेम (नाम बदला हुआ है) काम करती हैं. उनकी उम्र 35 साल के करीब होगी और फिगर 36-28-36 का है. किसी जवान लड़की के जैसे मेम ने अपने फिगर को मेंटेन कर रखा था.

मुझे कंपनी में जॉब करते हुए बहुत दिन हो गए थे. सभी से जान पहचान बन गई थी. मुझे जानकारी थी कि मेम की शादी हो चुकी है. उनका 10 साल का एक लड़का भी है. मेम देखने में बहुत खूबसूरत हैं. वो ज़्यादातर जींस और टॉप या टी-शर्ट ही पहनती हैं.

मैं जब उन्हें देखता था, तो सोचता था कि यार ये आइटम अगर मिल जाए, तो मजा आ जाएगा.

मैं इसी सोच को लेकर मेम से कुछ ज्यादा बातचीत करने लगा था. हम दोनों रोज मिलते थे, हंसी मजाक करते और आपस की कुछ बातें एक दूसरे से साझा कर लेते थे. हालांकि अभी हम दोनों के बीच सामन्य बातचीत से आगे कोई दूसरे किस्म की बातचीत नहीं हो सकी थी.

एक दिन में मैंने उनसे मजाक करते हुए कहा- मेम आज हम दोनों कहीं बाहर डिनर करते हैं. वैसे भी आजकल मैं घर पर अकेला हूँ.
इस पर वो बोलीं- हां पर आज नहीं, कल चलते हैं.
मैंने कारण पूछा, तो मेम बोलीं- कल मेरे पति भी बाहर जाने वाले हैं.

जब ये बात उन्होंने मुझे बताई, तो मुझे मामला सैट होते हुए दिखा. मैं उनके साथ दूसरे दिन के डिनर के लिए राजी हो गया.

अगले दिन मेम तैयार होकर आईं … पर आज वो साड़ी पहन कर आई थीं. इस साड़ी में वो बहुत ही कामुक और मस्त दिख रही थीं. मुझे मामला हरी झंडी वाला लगा. मेम ने साड़ी को अपनी नाभि के नीचे से बाँधी हुई थी, जिससे मेम का सपाट और चिकना पेट मुझे बड़ा ही कामुक लग रहा था. उनका ब्लाउज भी बहुत गहरे गले वाला था और स्लीवलैस था. सच में मेम आज बहुत हॉट लग रही थीं. मैं उनको अपलक देखता ही रहा.

More Sexy Stories  बॉस के बेटे से पहली चुदाई

वो मुझे टहोकते हुए बोलीं- मैं कैसी लग रही हूँ.
मैंने हाथ की उंगलियों को मस्त दिखाने जैसी इशारा करते हुए उनको एक आंख मार दी.
ये देख कर वो हंस कर बोलीं- पूरे बेशर्म हो.

कुछ देर यूं ही हंसी मजाक हुआ और हम दोनों अपने अपने काम पर लग गए.

शाम को 6 बजे जॉब से छुट्टी हुई, तो हम दोनों मेरी बाइक पर निकल गए. मेम मेरे साथ पहले भी कई बार बाइक पर बस स्टॉप तक जाती थीं, तो इस बात से ऑफिस के बाकी के लोगों के मन में कोई अन्य विचार नहीं आते थे.

मैंने थोड़ी दूर जाने के बाद मेम से कहा- हम लोग पहले मूवी देखते हैं, बाद में डिनर करेंगे.
वो बोलीं- हां … अभी तो वैसे भी डिनर का टाइम नहीं हुआ.

फिर उन्होंने अपने घर फोन किया और अपनी मेड से अपने बेटे को लेकर बात करके उसे नानी के घर जाने को बोल दिया. उनकी काम वाली बाई ने उनके लड़के को नानी के पास छोड़ देने के लिए कह दिया. उन्होंने अपनी कामवाली से फोन पर जब ये कहा कि मुझे आने में देर हो जाएगी. तुम मास्टर को नानी के घर छोड़कर चली जाना. मैं आज मीटिंग में बिजी हूँ.

उनके मुँह से ये सुनकर मेरा भेजा समझ गया कि आज मेम मस्ती के मूड में हैं.

मैंने सिनेमा हॉल के पास बाइक पार्किंग में लगा दी और हम दोनों टिकट लेकर मूवी देखने सिनेमा हॉल के अन्दर आ गए. हमारी सीट सबसे अंत में ऊपर की तरफ थीं. मूवी बी ग्रेड की थी और इसमें कुछ सेक्स सीन ज्यादा ही थे.

कुछ देर बाद मूवी शुरू हुई, तो गर्म सीन आने शुरू हो गए. मैंने कुछ देर बाद जानबूझ कर कोहनी को मेम से टच किया … तो मेम ने अपनी चूचियां कुछ ऐसी कर दीं कि मेरे हाथ उनके मम्मों से टच करने लगे. मेम ने मेरी तरफ देखे बिना अपना हाथ मेरी जांघ पर रख दिया. मैंने अपनी कोहनी से उनकी चूची को जरा जोर से दबा दिया और उनकी तरफ नजरें कर दीं.

More Sexy Stories  पदाई के साथ चुदाई - हिन्दी सेक्स कहानियाँ

मेरे चूची दबाने से मेम ने मेरी तरफ देखा और वो मुस्कुरा दीं.
मैं समझ गया कि मेम भी चुदने को राजी हैं. मैंने बेखौफ़ अपना हाथ उनके मम्मों पर धर दिया और जोर से दबाने लगा.

मेम ने मेरे लंड को सहलाया और मुझे हरी झंडी दे दी. मैंने एक मिनट बाद मेम को अपनी तरफ खींच कर चुम्मी ले ली.
मेम ने भी मुझे चूम कर कहा- अब भी मूवी देखने का इरादा है?
मैंने कहा- बिल्कुल नहीं … चलो चलते हैं.

हम दोनों तुरंत वहां से निकल कर एक बार वाले होटल में खाना खाने पहुंच गए. उसमे केबिन की सुविधा थी. मैंने खाना के पहले मेम से ड्रिंक के लिए पूछा, तो उन्होंने हां कर दी. मैंने व्हिस्की के लिए ऑर्डर किया. उसके बाद खाना लगाने का भी कह दिया.

दो पल में ही टेबल पर जाम सज गए थे. हम दोनों ने आज की शाम को रंगीन बनाने के लिए चियर्स बोला और सिप करना शुरू कर दिया.

दो दो पैग होने के बाद मैंने कहा- मेम चलो खाना खाने के बाद आप मेरे घर पर चलोगी?
मेम बोलीं- नहीं … तुम आज मेरे घर चलो.
मैंने ओके कह दिया.

तब तक खाना भी आ गया और हम दोनों ने खाना खाया. फिर मैं मेम को लेकर उनके घर के चल दिया. बाइक पर मेम मुझसे एकदम से चिपक कर बैठी थीं. मैं भी मेम के जिस्म की रगड़ का मजा ले रहा था. करीब आधा घंटे बाद हम दोनों मेम के घर पर आ पहुंचे.

Pages: 1 2 3 4