नेहा मेरे लंड की दीवानी

हेलो दोस्तो, मेरा नाम सुरेश है और आज मैने अपनी कहानी आप सब के लिए ले कर आया हूँ. ये कहानी एक दम सच्ची है क्योकि ये सब मेरे साथ सच मे हुआ है. दोस्तो मुझे उमीद है को आप को मेरी ये कहानी बहोत ही पसंद आएगी.

ये कहानी मेरे एक बहोत अच्छे दोस्त विक्रम की बेहेन नेहा के बीच की सेक्स कहानी है. उस टाइम मेरी उमर 19 साल थी और उसकी उमर 16साल थी. मतलब की अभी नेहा के उपर जवानी आई थी. मेरा लंड भी उस टाइम 7 इंच का अच्छा ख़ासा मोटा लंबा था. जो की एक कवरी चूत फाड़ने के लिए काफ़ी था.

मैं सच कहु तो मैने जिस दिन से नेहा को उसके घर कपड़े बदलते हुए देखा था. मैं उसी दिन से उसकी चूत का दीवाना बन चुका था. मेरे दिमाग़ मे बस ये ही चलता था की मैं कैसे नेहा की चूत मारू. इसी चक्कर मे मैं हर राज उसके नाम की मूठ मरता था. और मारू भी क्यो ना वो साली है ही इतनी सेक्सी वो भी इतनी कम उमर मे.
अगर मैं आप को नेहा के बारे मे बताऊँ तो आप के लंड भी अभी खड़े हो जाएगें. उसका जिस्म एक दम गोरा और चेहरा पूरा भरा हुआ था. उसका चेहरा काफ़ी अच्छा था जिस पर गुलाबी होंठ जिसे किसी भी लिपस्टिक की ज़रूरत ही नही थी. उसके मोटे मोटे डिमपल वाले गाल मुझे सच मे बहोत अच्छे लगते थे. और उसके 28 के बूब्स छोटे थे पर बहोत मस्त लगते है. पतली सी कमर जिसने मुझे अपना दीवाना बनाया हुआ था.

अगर मैं उसके नीचे की बात करूँ तो उसकी गांड भी काफ़ी कमाल की थी. जब वो चलती थी तो उसके छोटे छोटे चुटटर काफ़ी मस्त टाइट से हिलाते थे. जिसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था. मैं उसे चोदने के लिए हर व्क़त प्लान बनाने मे लगा रहता था.

हम तीनो की गर्मियो की हॉलिडेज़ चल रही थी. इस लिए हम तीनो पूरी तरह से फ्री थे. विक्रम को अपने पापा के साथ बाहर शादी मे जाना पड़ गया. इस लिए उसके घर के सारे काम मैं ही करता था और इसी वजह से मेरा उसके घर आना जाना काफ़ी बढ़ गया था.
एक दिन मैं उसके घर आया तो आते ही उसकी मम्मी ने मुझे बाहर शॉप से साबुन लाने के लिए भेज दिया. क्योकि नेहा को नहाना था. जब तक मैं साबुन ले कर आया तब तक नेहा बाथरूम मे घुस गई थी. उसकी मम्मी ने कहा की मैं उपर बाथरूम मे उसे साबुन दे आउ.

More Sexy Stories  भाभी जान की मस्त चुदाई

आंटी के मुह से ये बात सुन मानो मेरी तो लॉटेरी ही खुल गई थी. मैं झट से उपर गया और उसे बाहर से आवाज़ दी और तभी अचानक नेहा ने दरवाजा खोला और एक दम पूरी नंगी मेरे सीने से आ कर लग गई. उसके जिस्म पर सिर्फ़ एक पैंटी थी. वो काफ़ी डरी हुई थी क्योकि बाथरूम मे छिपकली थी. जिससे जयदतर लड़किया बहोत डरती है.

वो मेरे सीने से करीब 2 मिनिट तक चिपकी रही. हाए राम इतनी सेक्सी लड़की वो भी नंगी मुझसे चिपकी हुई थी. मेरा लंड तो पाजामा फाड़ने वाला हो गया. फिर वो मुझसे अलग हुई और मैने बिना कुछ बोले अंदर जा कर छिपकली को बाहर निकाल दिया. फिर नेहा साबुन ले कर अंदर नहाने चली गयी. उसके बाद मुझसे एक मिनिट के लिए भी नही रुका गया. मैने वही साइड मे जा कर अपना पाजामा नीचे किया.
और ज़ोर ज़ोर से मूठ मरने लग गया. अपने लंड का सारा पानी निकाल कर मैं शांत हुआ. फिर मैं अपने घर चला गया और उसकी यादो मे मूठ मरने लग गया. ऐसे ही कुछ दिन और निकल गये फिर मेरे सारे घर वाले एक दिन के लिए बाहर चले गये.

उन्होने रात को 8 बजे तक वापिस आना था. मैं जानभुज कर नही गया क्योकि मुझे रिश्तेदारी मे जाना अच्छा नही लगता था. जब आंटी को पता चला की मैं घर मे अकेला हूँ तो उन्होने नेहा को मेरे घर भेज दिया. नेहा ने आते ही मेरे लिए ब्रेकफास्ट बनाया और ब्रेकफास्ट करने के बाद मैं बाथरूम मे नहाने के लिए चला गया.

More Sexy Stories  अपने कज़िन से चुदवाई अपनी चूत

तभी मुझे याद आया की मैने आज अपना टवल तो लिया नही. जब मैं टवल लेने बाहर आया तो मैने देखा. की नेहा टी.वी पर आशिक़ बनाया सॉंग की वीडियो देख कर अपनी सलवार को उपर से रगड़ रही थी. मैं उसके पीछे खड़ा हो कर सब कुछ देख रा था. जब उसे पता चला की मैं उसके पीछे खड़ा हो कर सब कुछ देख रा हूँ.
तो वो एक दम डर गई और मेरे सामने रो रो कर माफी माँगने लग गई. मैने उससे पूछा की तुमने इससे आगे कुछ करना है ये तो अभी मज़े की शुरूवात है. तो उसने कहा हाँ मैने अपनी स्कूल फ्रेंड्स से इसके बारे मे बहोत सुना है. की इसमे जो मज़ा है वो मज़ा पूरी दुनिया मे कही नही है.
बस फिर क्या था मैने उसे उठा कर अपने बेडरूम मे ले गया. और उसको बेड पर लेटा कर उसे किस करने लग गया. नेहा पहले से ही प्यासी थी इसलिए वो मेरे होंठो को चूस कर किस्सिंग मे मेरा पूरा साथ दे रही थी. उसके बाद मैने उसे झट से पूरा नंगा कर दिया और उसके पूरे नंगे जिस्म के साथ खेलना शुरू कर दिया .

मैने उसकी चूत और बूब्स अच्छे से चूस चूस कर उसे पागल कर दिया. और फिर उसे अपना लंड चुस्वा कर उसकी चूत मारी और उसकी चूत की सील तोड़ दी. नेहा की चूत मे से खून भी निकाला जिसे देख कर वो डर गई. पर इसके बाद उसे जो मज़ा आया उस मज़े के आगे वो अपने सारे दर्द भूल गई.

शाम तक मैने नेहा को करीब 13 बार जम कर चोदआ और उसकी चूत का भोसड़ा बना दिया. फिर मैं उससे बाइक पर उसके घर छोड आया.