नयी भाभी को सुहागरात पर चोदा

इतना बोलकर कोमल भाभी ने मेरा लंड अपने मूह मे ले लिया. जैसे ही भाभी ने मेरा लंड मूह मे लिया. मेरा लंड और एग्ज़ाइटेड होकेर बड़ा होने लगा.

भाभी मस्ती से मेरा लंड चूसने लगी और मैं कोमल भाभी का सीर पकड़कर आगे पीछे करने लगा. आधे घंटे नॉनस्टॉप लंड चूसने के बाद जब मेरा पानी निकलने वाला था तभी मैने अपना लंड भाभी के मूह से बाहर निकाल दिया.

मेरी ये हरकत कोमल भाभी को पसंद नही आई ओर उन्होने गुस्सा होकर मेरी तरफ देखा.

वो बोली, “अपने मूह से तुम्हारे लंड पर आयिल लगा रही हू तो उसका फयदा भी मुझे ही होना चाहिए. चुपचाप सारा पानी मेरे मूह मे आने दो वरना मे चिल्लाउंगी.

इतना बोलकर भाभी फिरसे मेरा लंड चूसने लगी. थोड़ी देर बाद मेरे लंड से बहुत सारा पानी निकला जो सीधा कोमल भाभी के मूह मे गया.

कुछ कोमल भाभी के मूह से बाहर आ रहा था लेकिन फिर भी कोमल भाभी ने मेरा लंड अपने मूह से नही निकाला.

सारा पानी पीने के बाद कोमल भाभी ने अपने मूह से मेरा लंड बाहर निकाला ओर मुस्कुराते हुए बोली, “आज की रात बहुत मज़ा आने वाला है देवर्जी”.

मैं कोमल भाभी की बात समझा नही. वो मुझे खींचकर रूम मे ले गयी जहा पर हार्दिक भैया गहरी नींद मे सो रहे थे.

कोमल भाभी और मैने हार्दिक भैया के हाथ पैर पकड़कर उन्हे रूम मे पड़ी खटिया पर लेटाया. फिर वो खटिया उठाकर हम दोनो हार्दिक भैया को छत (टेरेस) पर ले गये.

More Sexy Stories  ससुर जी और मैं एक साथ

हार्दिक भैया थकान की वजह इतनी गहरी नींद मे थे की उन्हे पता ही नही चला की उन्हे कब रूम मे से उपर छत(टेरेस) पर ले जाया गया.

उसके बाद कोमल भाभी मुझे खींचकर रूम मे ले गयी ओर धक्का मारकर बेड पर लेटा दिया. कोमल भाभी फिर से मेरा लंड मूह मे ले रही थी तभी मैने उनकी बॉडी को अपने चेहरे के पास धकेला ओर उन्हे मेरे चेहरे पर बिठा लिया.

कोमल भाभी के दोनो जाँघो के बीच मेरा सीर था. मैने कोमल भाभी का काले रंग का गाउन उपर किया और उनकी चूत अपने मूह मे डॉल कर चबाने लगा.

कोमल भाभी उतेज़ित होकर चिल्लाने लगी. थोड़ी देर बाद कोमल भाभी को बेड पर लेटा कर उनकी दोनो टाँगे फयलाकर उनकी चूत चाटने लगा.

भाभी के दूध जैसी जाँघो के बीच गुलाबी रंग की चूत पर एक भी बाल नही था दोस्तो. भाभी की चूत देखकर मैं बेकाबू हो गया ओर उनकी चूत पर मैं टूट पड़ा.

कुछ ही देर मे भाभी की चूत से सफेद पानी निकला और भाभी बहुत ज़ोर से चिल्लाई लेकिन मैने भी पानी पिए बिना उनकी चूत चाटना नही छोड़ा.

भाभी की चीख सुनकर किसीने दरवाजा खटखटाया. मैं और भाभी बहुत घबरा गये. रूम मे कही पर भी छुपने की जगह नही थी. कोमल भाभी ने डरते हुए दरवाजा खोला तो सामने मेरी मम्मी खड़ी थी.

मम्मी ने भाभी से कहा, “इतना चिल्ला क्यू रही हो बहू? अपने ज़ज्बात ओर उतेज्ना को काबू मे रखना सीखो”

इतना कहकर मम्मी ने रूम के अंदर झाँका लेकिन रूम मे कोई नही था क्यो की मैं भाभी के पीछे उनके गाउन मे छुप गया था.

More Sexy Stories  भाभी की मस्त चुदाई की कहानी

भाभी के सफेद कूल्हे देखकर मेरा मन लालच से भर गया और मैने भाभी के दोनो कुल्हो को अपने हाथो से फयलाया और अपना चाहेरा उनके कुल्हो मे डॉल कर उनकी गांड चाटने लगा.

कोमल भाभी मम्मी के सामने उतेज़ित होकर चिल्ला रही थी.

मम्मी ने अपना मूह फेरते हुए कहा, “बहू, तुम तो बहुत बेशरम हो”

भाभी ने उतेज़ित होकर कहा, “मम्मी, आह आह म्‍म्म्मम मैं कहा, आप का बेटा आऔच एम्म्म आह बहुत नॉटी है”

इतना कहकर भाभी ने दरवाजा ज़ोर से बंद कर दिया.

उसके बाद मैने कोमल भाभी को उठा लिया और बेड पर जाकर उन्हे डॉगी पोज़िशन मे करकर अपना बड़ा लंड पीछे से उनकी गांड मे डाला.

भाभी ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी लेकिन मैने उनकी एक नही सुनी. कोमल भाभी की गांड लाल हो गयी.

उसके बाद मैने भाभी को अलग अलग पोज़िशन मे पूरी नाइट चोदा और 8 से 9 बार उनकी चूत से पानी निकालकर पिया.

सुबह तक भाभी की आँखे घूम गयी थी और वो खुशी के मारे मेरा लंड चूस कर पानी पी रही थी.

सुबह 5 बजे मैने और भाभी ने भैया की खटिया को रूम मे लाकर रख दिया.

जब भैया नीचे आए तो पापा ने कहा, “बहू की उतेज़ित चीखो ने पूरी रात हमे सोने नही दिया.”
viki27sharma@gmail.com

Pages: 1 2