नयी भाभी को सुहागरात पर चोदा

हेल्लो दोस्तो, मेरा नाम फकरसिंह है. मैं गुजरात के आमेडबॅड शहर मे रहता हू. दोस्तो आज मे आपको एसा किस्सा बताने जा रहा हू जो आपने पहेले कभी नही सुना होगा.

कुछ दिन पहले मेरे बड़े भाई हार्दिक की शादी हुई. उनकी उम्र 29 साल है ओर मेरी उम्र 23 साल की है. हार्दिक भैया ने लव मेर्रेज किया था.

काफ़ी झगड़ा करने के बाद मेरे माता पिता ने हार्दिक के प्यार को स्वीकार किया. काफ़ी तनाव के बाद उनकी शादी कोमल भाभी के साथ फिक्स हुई. कोमल भाभी ओर हार्दिक कॉलेज मे एकसाथ पढ़ते थे.

दोनो को एकदुसरे से प्यार हुआ ओर फिर बात शादी तक पहुची. कोमल भाभी दिखने मे बहुत सुंदर थी, लेकिन मेरे लिए तो वो मा समान थी क्यू की भाभी मा समान होती है.

समय ना बिगाड़ते हुए मै सीधा पॉइंट पे आता हू दोस्तो. हार्दिक भैया की शादी हुई. उनकी सुहग्रत के लिए मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने हार्दिक भैया ओर कोमल भाभी के लिए बेड सजाया.

मैने चुपके से हार्दिक भाई के तकिये के नीचे कॉंडम का पॅकेट रख दिया. शादी वाले दिन कोमल भाभी मेकप मे बहुत खूबसूरत लग रहे थे.

रात को 10 बजे भैया ओर भाभी रूम मे सुहागरात मनाने के लिए गये. मैं भी अपने दोस्तो के साथ बाहर घूमने के लिए गया.

रात को 11 बजे जब मे वापस आया तो घर मे सब सो चुके थे. भैया ओर भाभी का रूम उपर के फ्लोर पर था जब की मम्मी पापा नीचे वाले रूम मे सो गये थे.

मैं दरवाजा खोलकर घर मे आया ओर नीचे वाले बाथरूम मे हाथ पैर धोने के लिए गया. नीचे वाले बाथरूम मे पानी नही आ रहा था तो मे उपर वाले फ्लोर के बाथरूम मे गया.

भैया ओर भाभी के रूम का दरवाजा बंद था ओर लाइट भी बंद थी. मैं बाथरूम मे अपने हाथ धो रहा था की अचानक मेरे कंधे पर पीछे किसीने हाथ रखा. मैं बहुत घबरा गया और पीछे मुड़ा तो कोमल भाभी खड़ी थी.

More Sexy Stories  मेरा बेटा एक मर्द का बच्चा

कोमल भाभी को देखकर मैं चोंक गया ओर बोला, “भाभी आपने तो मुझे डरा ही दिया था, आप यहा क्या कर रहे हो?”

कोमल भाभी मुस्कुरई ओर बोली, “देवेर जी मैं अपने हाथ धोने के लिए आई हू”

मैं तुरंत बाथरूम से बाहर निकला ओर भाभी को बाथरूम मे जाने दिया.

कुछ देर बाद कोमल भाभी बाथरूम से बाहर निकली ओर मुस्कुराकर बोली, “तुम अभी तक क्यू जाग रहे हो?”

मैने हंसकर भाभी से कहा, “ये सवाल तो मुझे आपसे पूछना चाहिए भाभी, आप अभी तक सोए क्यू नही?”

मेरा सवाल सुनकर कोमल भाभी मुस्कुराइ. कोमल भाभी ने काले रंग की नाइटी पहेनी हुई थी. उनकी नाइटी मे उनके बड़े बड़े बूब्स बाहर आने के लिए तड़प रहे थे.

उनका मस्त गोरा बदन देखकर मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा हो रहा था. मैने एक नज़र कोमल भाभी के पूरे बदन पर डाली.

उनका दूध जैसा गोरा बदन देखकर मेरा लंड डंडे की तरह खड़ा हो गया. एसा लग रहा था की मेरा लंड पेंट फाड़कर बाहर निकलने वाला है.

मैने अपने लंड को हाथ से दबाया ओर अपनी भावनाओ पर काबू रखकर कोमल भाभी से कहा, “चलिए भाभी आप रूम मे जाइए, भैया आपकी राह देख रहे होंगे”

कोमल भाभी उदास होकर बोली, “तुम्हारे भैया तो जल्दी सो गये है, लेकिन मुझे नींद नही आ रही. अंदर जाकर मैं क्या करूगी?”

कोमल भाभी जब ये बोल रही थी तब मेरी नज़र उनके बूब्स पर थी ओर मैं अपने हाथो से लंड को बार बार दबा कर शांत कर रहा था.

अचानक कोमल भाभी की नज़र मेरे हाथो पर गयी जिससे मे अपना लंड दबा रहा था.

कोमल भाभी ने पूछा, “आपको पेन हो रहा है क्या वाहा पर देवर्जी?”

More Sexy Stories  गुजराती भाभी की चुदाई कहानी

कोमल भाभी की बात सुनकर मे घबरा गया ओर बोला, “नही भाभी वो तो.”

इतना बोलकर मे चुप हो गया.

कोमल भाभी मेरे पास आई ओर बोली, “एक मिनिट यहा पर खड़े रहो, मैं अंदर से आयिल लाकर लगा देती हू”

मैने भाभी को बहुत मना किया लेकिन उन्होने मेरी एक नही सुनी और रूम मे गयी. मैने रूम के अंदर झाक कर देखा तो हार्दिक भैया गहरी नींद मे सो रहे थे. भाभी टेबल खोलकर कुछ ढूँढ रही थी.

थोड़ी देर ढूँढने के बाद भाभी रूम के बाहर आई ओर बोली, “चलो बाथरूम मे, मैं तुम्हे आयिल लगा देती हू”

कोमल भाभी की ये बात सुनकर मैं शर्मा गया ओर बोला, “भाभी मुझे बहुत शरम आ रही है”

मेरी बात सुनकर कोमल भाभी हस कर बोली, “इसमे शरमाना क्या, छोटा देवर तो बेटे समान होता है. तुम तो मुझसे काफ़ी छोटे हो. मैने तुम्हे आयिल लगा दिया तो उसमे कोई बुरी बात नही है. चलो बाथरूम के अंदर”

इतना बोलकर भाभी मुझे खींचकर बाथरूम के अंदर ले गयी.

बातरूम के अंदर जाकर भाभी अपने घुटनो पर बैठ गयी और मेरे पेंट के बटन खोले. मैं बहुत शर्मा रहा था क्यू की जो हो रहा था वो ठीक नही था.

मैं कुछ भी सोचु उससे पहले भाभी ने मेरा पेंट अंडरवेर के साथ उतार दिया. जैसे भाभी ने मेरा पेंट उतारा की तभी पेंट के अंदर खड़ा हुआ लंड उनके चाहेरे पर ज़ोर से लगा.

2 मिनिट तक कोमल भाभी मेरे लंड को देखती रही. मेरा बड़ा लंड देखकर भाभी चोंक उठी थी. अपने दोनो हाथो से मैने लंड को शरम के मारे ढक दिया.

और कोमल भाभी को धीरे से कहा, “भाभी आज आपकी सुहागरात है, आप रूम मे जाइए प्लीज़”

कोमल भाभी ने मेरी ओर देखा और बोली, “आयिल लगाकर चली जाउंगी देवर्जी, इतना हक तो भाभी का बनता है”

Pages: 1 2