नंदोइजी ने मेरी चूत गीली की

nandoi ji ner meri choot gili ki सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। मेरी चुदाई की कहानी के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

ही रीडर्स मेरा नाम वंदना शर्मा हे, मैं 44 साल की औरत हू मेरा फिगर 34-30-36 हे मेरे पति की प्राइवेट जॉब हे और मेरा एक लड़का हे जो अब हॉस्टिल मैं रहता हे. मैं अपने जीवन के कुछ किससे आपसे शेर कर रही हू अगर कोई ग़लती हो तो माफ़ करना ये मेरी पहली स्टोरी हे.

मैने शादी से पहले कभी सेक्स न्ही किया था पहली बार पति ने हे चोदा था. शादी के बाद लाइफ अच्छी चल रही थी हम सेक्स खूब एंजाय करते थे 1 साल बाद बेटा होगया.  अब मैं बेटे मे बिज़ी रहने लगी और मेरे पति अपनी जॉब मे और सेक्स लाइफ हमारी कम हो गयी पर मुझे कोई प्राब्लम न्ही थी मैं खुश थी. हम हफ्ते मे 1 या 2 बार सेक्स करते थे. इसी तरह शादी को 7 साल हो गये.

अब मैं स्टोरी पे आती हू मेरे ससुराल मे मेरी ननद की शादी थी तो हम लोग 10 दिन पहले ही ससुराल आगये थे और शादी की तैयारी मे लग गये. मेरे दिल मे किसी भी गैर मर्द के लिए कोई जगह न्ही थी मैं बस अपने पति से खुश थी. पर मेरे साथ कुछ और ही लिखा था.

शादी की वजह से काफ़ी रिलेटिव आए हुए थे घर मे. मेरी बड़ी ननद और उनके पति भी आए हुए थे वो आर्मी ऑफीसर थे. 6 फ्ट 2 इंच हाइट थी उनकी और चौड़ी छाती सब कुछ मिलाकर काफ़ी तगड़े थे वो. घर मे सब उनकी रेस्पेक्ट करते थे क्यूकी मेरी ये ननद सब्से बड़ी थी घर मे. मैं उनसे 10 साल छोटी थी तो मैं भी उनकी रेस्पेक्ट करती थी. ननद और नंदोई का कमरा मेरे कमरे के बगल मे ही था.

More Sexy Stories  मौसा मौसी के साथ ग्रूप चुदाई

उसके बाद रात को मैं टाय्लेट जाने के लिए उठी तो मुझे ननद के कमरे से कुछ आवाज़ आ रही थी मैने कमरे के गेट के पास जाके सुना तो वो ननद की आवाज़ थी वो अहह ओह ब्सस्सस्स करो मारीईई की आवाज़ निकल रही थी. मुझे मज़ा आने लगा की नंदोई जी मसस्त चुदाई कर रहे हे तभी वो ऐसी आवाज़ निकाल रही हे क्यूकी मेरे पति तो कभी मेरी आवाज़ न्ही निकाल पाते उनका लंड 5 इंच का हे.

मेरी इच्छा और बड़ी तो मैने उनको देखने का सोचा पर गेट और खिड़की बंद था और ननद की आवववववह उउउ माआआआ माहहाअ की आवाज़ मुझे बेचैन कर रही थी. तभी मुझे उपर का रोशन दान दिखा और मैं खिड़की पे छेद कर रोशन दान से देखने लगी. अंदर का नज़ारा देखते ही मेरा होश उड़ गया नंदोई जी पूरे नंगे होके शॉट मार रहे थे और मेरी ननद तो उनके नीचे दिख भी न्ही रही थी. उनकी पूरी बॉडी पे बाल थे और वो कस के झटके मार रहे थे. मैं अपना हाथ अपनी चूत पे ले गयी और सहलाने लगी.

अब मैं नंदोइजी का लंड देखना चाहती थी. पर वो तो चोदे जा रहे थे और लाइट भी कम थी तो उनका लंड न्ही दिख पा रा था. फिर कुछ देर मे उनका हुआ तब वो ननद के उपर से उठे और उनका लंड देख के मेरी हालत खराब हो गयी 9 इंच तो लंबा और 3 इंच मोटा होगा जैसे कोई गधे का लंड हो मैने इतना बड़ा लंड कभी न्ही देखा था.

अब मैं अपने रूम मे आ गयी और उनके लंड के बारे मे सोचने लगी मेरी चूत उनके लंड के ख़याल से बार बार पानी छोड़ रही थी मैं अपनी उंगली से अपनी चूत को शांत करने लगी और इसी तरह सो गयी. सुबह जब उठी तो नंदोई जी को देख के मुझे गुदगुदी सी होने लगी मेरा किसी भी काम मे मन न्ही लग रा था दिमाग़ मे बस नंदोइजी का लंड घूम रा था. मैं तो फिर से उस लंड को देखना चाहती थी.

More Sexy Stories  मसाज कर के भाभी की चुदाई की

तभी मेरी ननद आई और बोली कि उनके बातरूम का पानी न्ही आरहा तो नंदोइजी आपके बातरूम मे नहा लेंगे मेरे तो जैसे दिल की बात बोल दी हो. मैने कहा ठीक हे आप भेज देना. तब मैने जाके बातरूम की कुण्डी को खराब कर दिया अब वो अंदर से न्ही लग सकती थी. मुझे तो कैसे भी नंदोइजी के लंड का दर्शन करना था. मैं रूम से बाहर चली गयी और नंदोइजी का वेट करने लगी तब वो अपने कपड़े लेके आए और मेरे रूम मे घुस गये पर गेट की कुण्डी खराब थी तो वो लगाने लगे वो कुछ परेशान से हुए.

तभी मैं रूम आ गयी और बोली के जीजाजी वो न्ही लगती आप नहा लो कोई न्ही आएगा मैं यही हू रूम मे बोल दूँगी कोई आएगा तो और उनके पाजामे की तरफ देखने लगी. नंदोइजी ने नोटीस कर लिया और अपने लंड को पाजामे के उपर से हाथ से सेट करते हुए बोले वैसे भी कोई आएगा तो मुझे क्या प्राब्लम हे और स्माइल देते हुए गेट लगा लिया.

अब मैं डरने लगी कि नंदोइजी को पता चल गया कि मैं उनका लंड देख रही थी मुझे कुछ समझ न्ही आ रहा था कि अब क्या करू नीचे मेरी चूत नंदोइजी के ख्याल से पानी पानी हुई जा रही थी.

Pages: 1 2