मम्मी की मायके जाकर चुदाई की

हेलो मई प्रकाश आप मेरी सेक्सी मा पे बहुत सारी स्टोरीस पढ़ चुके होंगे. मई काफ़ी दीनो से पवत् प्रेस के लिए स्टोरीस लिख रहा था. आप सभी के लिए मई एक नयी कहानी लेकर आया हू जो आशा करता हु की आप लोगो बहुत पसंद आएगा.

ये कहानी काफ़ी पहले की है जब मेरी माँ 35 की रही होगी तब मई काफ़ी छोटा था. उस समय मम्मी की जवानी देखने लायक थी. यू बोलिए की जवान तो जवान गली क बुड्ढे व चाहक जाते थे उसको देख कर. मम्मी का नाम तो आप जानते ही है. उस त्यम मम्मी थोड़ी कम मोटी थी. 36-34-38 का फिगर था.घर पे अक्सर समीज़ सलवार या नाइटी पहनती थी.

अब मे कहानी पर आता हू. बात उस समय का है जब मै और मम्मी नानी क घर थे. वाहा मम्मी को चुदे हुए काफ़ी दिन हो गया था. डेली नाइट मे मई उसको उंगली करता देखता था शायद यहा लंड जो नही मिल रहा था.

मम्मी व लंड के तलाश मे ही थी. हमारे मामा का एक दोस्त था जो काफ़ी हटता कथा था. वो अक्सर घर पे आता जाता था और जब मामा न्ही रहते थे तो मम्मी से काफ़ी देर बाते करता था. एक दिन की बात है मम्मी नेट वाली सारी पहनी हुई थी और कसा हुआ डीप नेक की ब्लाउस पहनी हुई थी. ऐसा लग रहा था जैसे की ब्लाउस क अंदर ब्रा न्ही पहनी थी. मार्केट हमारे घर से थोड़ी दूरी पे था.

हम मार्केट से समान खरीद कर लौट रहे थे की अचानक से बारिश होने लगी तो हम वही एक शॉप क पास खड़े हो गये. तो वाहा ही हमे मामा का फ्रेंड दारा मिला जो की दारू और चखना खरीद क ले जा रहा था. मम्मी की नेट की सारी और ब्लाउस बारिश से भीगने से अछी तरह दिख रहा था. फिर वो मम्मी से बोला की भाभी चलिए पास मे ही हुमारा मिल है वाहा ही मै काम करता हू अभी मौसम ऐसा था तो सब दोस्तो ने थोड़ा मज़ा करने का प्लान बनाया तो हम काम रोक कर थोड़ा एंजाय कर रहे थे.

More Sexy Stories  मॉं बेहन की ट्रेन मे चुदाई

वो बोला की चलिए मिल पे फिर बारिश रुकते चले जाएँगा. पहले तो मम्मी नही जाना चाहती थी फिर बारिश क साथ हवा व चल रहा था तो वो चलने क लिए राज़ी हो गयी. फिर हम उसकी छतरी मे चलने लगे पेर छाता इतना छोटा था की आधा पानी मम्मी क कंधे पे तो आधा दारा के कंधे पे.

इतने मे हवा ऐसा चला की छतरी पलट गया जिससे हम दौड़ के मिल की तरफ भागे. मिल पहुचते हम भींग चुके थे. मिल मे पहले से ३ लोग थे जो लेबर टाइप लग रहे थे सबकी आगे 35-40 का लग रहा था. मम्मी भींगने के कारण थोड़ी अजीब फील कर रही थी. फिर वो लोग मम्मी को थोड़ा नॉर्मल किए. बोले भाभी आप टॉवेल से पोच लीजिए अपने आप को फिर आप बैठिए तुरंत बारिश रुक जाएगा.

मम्मी मुझे और खुद को टॉवेल से पोछी. फिर वो लोग बैठ क तास खेलने लगे. और मम्मी से बोले की आप बुरा ना माने तो दारू पी सकते है तो मम्मी बोली की उसको कोई प्राब्लम न्ही है.फिर हम वही बैठ क उनका खेल देखने लगे. बारिश रुकने का नाम ही न्ही ले रहा था. शाम तो ऑलरेडी हो चुका था अब धीरे धीरे अंधेरा होने लगा वाहा वो एक छोटा सा मोमबति जलाए थे.

थोड़ी देर बाद एक को काफ़ी चढ़ गया तो वो गेम न्ही खेल पा रहा था तो वो लोग उसको डाँट के वाहा से हटा दिए वो चुप छाप कोने मे जकेर सो गया. फिर वो मम्मी से बोले की आपको खेलना आता है तो मम्मी बोली हा थोड़ी खेल लेती हू. तो फिर मम्मी खेलना स्टार्ट की. खेल खेल मे मम्मी का पल्लू नीचे गिर जा रहा था. तो वो सारे उनके चुचि को घूर्ने लगते. मम्मी को पता चल रहा था बट वो पल्लू थिंक करना छोड़ दी. फिर बोली की उसका गीले कपड़ो मे काफ़ी ठंड लग रहा है तो वो लोग आग जलाए. फिर खेल खेल मे दारा मों के जाँघ पे हाथ मरने लगा.

More Sexy Stories  Meri Bua Ki sex Pyaas Bhujai in Shimla

फिर डरा का मूड मे क्या हुआ की बाहर जकेर भींग के आया और बोला की यार मै भींग गया फिर वो अपना शर्ट पॅंट वेस्ट सब उतार दिया और अंडरवेर मे हो गया. फिर वो बोलता है की भाभी आपको कोई दिक्कत तो न्ही. इस्पे दूसरा आदमी बोलता है की ऐसा बोलते हो जैसा की भाभी आज तक कुछ देखी ही न्ही, देखी न्ही होती तो इतना बड़ा लड़का कैसे निकल गया.

फिर सब हसणे लगे. इतने मे एक बोलता है भाभी मेरी वाइफ मुझे देती न्ही है आप बताइए ना क्या करू. मम्मी को पता चल चुका था की ये सब को अब चढ़ चुकी है और गरम भी हो रहे है ये सब. फिर दारा इतना मे तास खेलते हुए अपना लंड कच्चे क साइड से निकल दिया. उसका 7 इंच का मोटा लंड अब मम्मी को सॉफ दिख रहा था.

Pages: 1 2