मस्त चाची की जबरदस्त कहानी

हेल्लो मेरे सभी प्यारे दोस्तो, मैं विक्रम हरयाणा से आज आप सब के लिए एक बहुत ही मस्त कहानी ले कर आया हूँ. ये कहानी मेरे और मेरी चाची के बीच हम दोनो के पहले सेक्स की है. ये कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है. जो मेरे साथ सच मे घटी हुई है.

तो चलिए फिर देर किस बात की कहानी को शुरू करते है.

मेरे चाचा जी की शादी अभी 2 महीने पहले ही हुई है. मेरे चाचा की किस्मत बहुत अच्छी है. वो खुद दिखने मे बहुत बेकार से है. मेरे कहने का मतलब है, वो एक मीठे से लड़के थे, दिखने मे एक नापुसंक जैसे लगते थे.

मैं उन्हे देख कर गंदी गंदी गलियाँ निकालने लग गया था. क्योकि उस चूतिए को एक परी जैसे वाइफ मिल गई थी. मुझे ये तो ये समझ न्ही आ रा की इस चूतिए की किस्मत केसे इतनी अच्छी निकल सकती है.

दोस्तो सच मे काहा चाची बोल्लीवुड की अदाकारा जैसी सुंदर, और कहा मेरा चूतिया चाचा साला लंडबिना. मुझे तो लगता था की ज़रूर चाची ने अपने सोमवार के फास्ट रखने मे कोई ग़लती कर दी थी.

इसलिए चाची को ऐसा चूतिया पति मिला था. मैं तो चाची को देख कर सोचता था, की कैसे इस चूतिए के साथ ये अपनी पूरी ज़िंदगी की काटेगी. खैर ऐसे ही दो महीने निकल गये. चाचा चाची हमारे घर कुछ दिन रहने के लिए आए.

मैं चाची के आने की खुशी मे झूम रा था. चाची को देख कर मेरा जवान कावारा लंड खड़ा हो रा था. मेरा लंड करीब 7 इंच का था. चाची से मैने बातें करनी शुरू कर दी. बातें करते हुए मैं चाची के मस्त गोरे बूब्स देख रा था.

उनके बूब्स करीब 36 के होंगे, इतने मोटे और गोरे बूब्स देख कर मेरे मूह मे पानी आ रा था. उस रात को जब चाची अपने रूम मे कपड़े बदल रही थी. तभी मैं उनके रूम के आगे से निकल रा था. चाची ने अपनी विंडो को खुला छोड़ रखा था.

More Sexy Stories  नागपुर की एक सेक्सी आंटी की चुदाई

इसलिए मुझे अंदर का नज़ारा दिख रा था. मैं भी विंडो पर जम कर खड़ा हो गया. मुझे उनका गोरा नंगा जिस्म दिख रा था. चाची की गोरी मोटी गांड सच मे काफ़ी मस्त लग रही थी. मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था. चाची को मैने सिर्फ़ अभी ब्रा पेंटी मे ही देखा था.

तभी मेरी हालत इतनी खराब हो गई थी. मैं सोच रा था, की अगर मेरे आगे चाची पूरी नंगी हो जाए तो इस हिसाब से मैं तो मर ही जाउँगा कुछ ही देर मे चाची ने अपनी मॅक्सी डाली और बाहर डिन्नर के लिए आ गई. मैं उनकी विंडो से हॅट कर अपने रूम मे चला गया.

मेरी हालत काफ़ी खराब हो गई थी. मैने अपने रूम मे पूरा नंगा हो कर चाची के नंगे जिस्म को सोच कर ज़ोर ज़ोर से मूठ मारने लग गया. मैने चाची को सोच कर आज पहली बार मूठ मारी थी. फिर हम सब एक साथ डिन्नर करने लग गये.

चाची बार बार मुझे ही देख रही थी. मुझे देख कर वो अपने गुलाबी होंठो पर अपनी सेक्सी जीब फेर रही थी. मैं और मेरा लंड ये देख कर पागल हो रहे थे. खैर जैसे तैसे मैने वो लंबी रात काट ली.

अब मुझे चाची के नंगे जिस्म देखने की इच्छा हो रही थी. दोपहर को सब सो रहे थे. घर के सारे मर्द अपने काम धन्दे पर गये हुए थे. मुझे नींद न्ही आ रही थी. क्योकि मेरी आँखो के सामने तो चाची का नंगा जिस्म घूम रा था.

तभी मैं चाची के रूम के बाहर खड़ा हो गया, उन्होने अपने रूम का एक डोर हलका सा खुला छोड़ा हुआ था. मैं भी खड़ा हो कर अंदर देखने लग गया. चाची अंदर बेड पर लेट कर अपनी चूत मे मूली ले रही थी. ये देख कर मैं हैरान हो गया, क्योकि अभी शादी को सिर्फ़ 2 महीने ही हुए है.

More Sexy Stories  मैं और मिस्टर पटेल के साथ सेक्स

और अभी से मूली की क्या ज़रूरत पड़ गई. मैं तो ये ही सोच कर पागल होरा था. चाची को इस हालत मे देख कर अपने आप को रोक न्ही पाया और अपना लंड बाहर निकाल कर ज़ोर ज़ोर से खड़ा मूठ मारने लग गया. मुझे चाची की गुलाबी चूत देख कर बहुत मज़ा आरा था.

इसलिए मैं मज़े मज़े मे अपनी दोनो आँखें बंद कर ली थी. तभी शायद मुझे चाची ने देख लिया था. वो मुझे आवाज़ देकर बोली.

चाची – अरे विकी अंदर आजा, अंदर आ कर कर ले जो बाहर खड़ा हो कर कर रा है.

मैं चाची की आवाज़ सुन कर एक दम शॉक हो गया, मैने अपना लंड जल्दी से अंदर डाला और चाची के रूम मे चला गया. अभी तक मेरा लंड पूरा खड़ा था.

चाची – अब सच सच बता खड़ा हो कर तू क्या कर रा था ?

मैं – कुछ न्ही चाची मैं तो ऐसे ही खड़ा था.

चाची – सच बता दे वरना सब को बता दूँगी की तू मेरा रेप कर रा था.

मैं – मुझे माफ़ कर दो चाची, मैं आपसे प्यार करने लग गया हूँ. जब से आपको देखा है. मैं आपका दीवाना हो गया हूँ.

चाची – वो सब ठीक है, ये तेरी पेंट मे क्या खड़ा है उसे बाहर निकाल.

मैं – चाची ये.

चाची – हा इसे बाहर निकाल जल्दी से.

मैने चाची के कहने पर अपना लंड बाहर निकाल दिया और चाची ने जेसे ही मेरा लंड देखा तो वो मेरे पास आई और बोली.

चाची – वाह मेरे राजा तेरा लंड तो सच मे काफ़ी बड़ा है.

Pages: 1 2