कैसे अपनी मॉं को मैने रंडी बनाया

कैसे हो फ्रेंड्स, दोस्तो मैं सोनू आप सब के लिए फिर अपनी एक नयी फ्री हिन्दी सेक्स स्टोरी ले कर आया हूँ. मुझे उमीद है आप को मेरी ये कहानी भी मेरी पहले वाली कहानियो की तरह बहोट पसंद आएगी. मैं अपनी कहानी शुरू करने से पहले आप सब को अपने बारे मे बता देना चाहता हूँ. मेरे कुछ दोस्त मुझे पहले से ही जानते है.
क्योकि मैं पहले भी अपनी काफ़ी कहानी आप को सब को बता चुका हूँ. आज मैं फिर से अपना थोड़ा सा इंट्रोडक्षन अपने नये दोस्तो को देना चाहूँगा. दोस्तो जेसा की मैने पहले ही बताया की मेरा नाम हनी है. मेरी उमर अब 22 साल है और मैं कॉलेज मे ब.कॉम कर रा हूँ. मेरी हाइट 5’5 इंच है और मैं दिखने मे ठीक ही हूँ. मेरे लंड का साइज़ 7’ इंच है जो की किसी भी चूत की प्यास भुझहने के लिए काफ़ी है.
मेरा लंड आज तक जिस किसी की भी चूत मे गया है वो आज तक मेरे लंड को लेती है.

मैं 22 साल की उमर मे ही करीब 11 लड़किया और 2 आंटी और 3 भाभी चोद चुका हूँ. इन सब मे मेरी अपनी सग़ी मा भी शामिल है. मैं पहले भी अपनी मा को चोद चुका हूँ.
और दोस्तो मेरी आज की कहानी भी अपनी मा की चुदाई के बारे मे ही है. जेसा की आप जानते है मैं अपनी मा को पिछले दो साल से चोद रा हूँ. पर अब तक मैने अपनी मा को सिर्फ़ एक ही बार तसली से चोदा था. जब मैने उनकी चूत पहली बार मारी थी. उस दिन मैने उन्हे करीब 4 घंटे तक लगतार खूब जम कर चोदा था.
मेरी उस दिन की मेहनत आज अपना पूरा रंग दिखा रही है. मम्मी मुझसे हर हफ्ते करीब 3 बार चुद जाती है. पर मेरे घर मे पापा होने के करने मैं मैं उन्हे अच्छे से चोद नही पता. मैं अब बस अपनी मम्मी को करीब 15 या 20 मिनिट ही चोद पता था. क्योकि पापा को मम्मी पर शक हो गया था. क्योकि मैं जिस दिन उनकी 4 घण्टे चुदाई करी थी.
उसी दिन मैने मम्मी की चूत और गांड का भोसड़ा बना दिया था. जिसे देख कर पापा को एक दम शक हो गया था. इसलिए अब मम्मी मुझसे ज्यदा देर तक नही चुद्ति. पर मैं और मेरा लंड तो अपनी मस्त मम्मी को 4 या 8 घंटे तक चोदना चाहते है.
अब मैं अपनी मम्मी के बारे मे थोडा सा आप को बता दूं. मेरी मम्मी की उमर 39 साल है, और उनका रंग गोरा है. अगर मैं उनके फिगर की बात करू तो शायद आप यकीन ही नही कारगें. मेरी मम्मी का फिगर 34-36-38 है. 39 साल की उमर मे ऐसा फिगर होना और उपर से मम्मी की जवानी. ये दोनो मिल कर बिस्तर पर आग लगा देते है.
जब मैं मम्मी की चुदाई करता हूँ. तो वो मुझे बतती है की तेरे पापा का लंड तो तेरे लंड से आधा है. मैने ना जाने तुझे क्या खा कर जन्म दिया है. तू तो एक बार अगर मेरे पर चॅड जाता है तो उतरने का नाम ही नही लेता. और मेरे राजे बाते तेरे लंड के तो क्या कहने जब तेरी शादी हो जाएगी मैं तो तब भी तेरा लंड लूँगी. अगर तूने मुझे माना किया तो बहू को उसके माएके भेज कर तुझसे जरबारदस्ती चुदा करूँगी.
और रही तेरे पापा की बात वो मुझे कभी कभी ना मर्द लगते है. पहले शुरू शुरू मे वो मुझे तेरी तरह जम कर चोद्ते थे. पर अब उनकी बॅटरी डाउन हो गयइ है. अब तो ये हाल है की मैं जेसे ही उनका लंड अपने हाथ मे पकड़ उपर नीचे करती हूँ. तभी उनके लंड मे से एक छोटी सी पिचकारी निकल जाती है. उसके बाद वो आराम से सो जाते है. और मैं रात भर अपनी छूट मे मूली गाजर ना जाने क्या क्या ले कर अपनी चूत को शांत करती हूँ.
पर अब मेरा राजा बेटा है जो मेरी और मेरी चूत की नानी याद करा देता है. शाबाश बेटा तू हुमेशा ऐसे ही रहना तू तो अपनी वाइफ की चूत फड़ेगा और पहले ही दिन उसे रुला देगा. वैसे तो मेरी मा मुझे ऐसे बहुत कुछ कहती है. जिसे सुन कर मेरा जोश सातवें आसमान पर चला जाता है. और मैं अपनी मा की छूट मे अपना पूर लंड एक ही झटके मे डाल कर उनकी चूत फाड़ देता हूँ.

More Sexy Stories  ससुर जी और मैं एक साथ

ये बात पिछले शनिवार की है जब पापा ने मुझे कहा की मैं आज शाम की ट्रेन से देल्ही जा रा हूँ. उन्हे कोई ऑफीस की कोई मीटिंग अटेंड करने जाना था. ये सुनते ही मैने अपने दिमाग़ मे रात का प्रोग्राम बनना शुरू कर दिया था. पापा ने कल शाम तक वापिस भी आ जाना था. मैं जब शाम को 5 बजे अपनी क्लास ख़तम करके घर आया.
तो मैने देखा की पापा पहले से ही जाने के लिए तैयार खड़े है. मैने अपनी बुक्स रखी और पापा को बस स्टॅंड तक ड्रॉप करने चला गया. मैं जान कर पापा को बस मे बिठा कर आया. क्योकि मैं अपनी पूरी तसली चाहता था की पापा बस मे बैठ गये है और चले गये है. मुझे घर आते आते रात के 8:30 बज गये. घर आते ही मम्मी ने मेरी पसन्द की मटर पनीर की सब्जी बनाई थी.
जिसे मैं बड़े शॉंक से खा गया. उसके बाद मम्मी ने मुझसे दूध पूछा. पर मैने उनके बूब्स की तरफ इशारा करके वो वाला दूध पीने के लिए कह दिया. मम्मी ने मेरी तरफ मुस्कुरा दिया और खा चलो तुम नहा लो मैं अभी आई. फिर मैं अपने राजे बेटे को खुद अपना दूध पीलाउंगी.

Pages: 1 2