मॉं की चुदाई मामा के दोस्त ने की

maa ki chudai mama ke dost ne ki हेलो दोस्तो मैं राज आपको आज अपनी मा सपना की मा की चुदाई परिवार मे चुदाई सुनाने जा रहा हू मेरी मा सपना देखने मे किसी मॉडेल से कम नही है जिसकी वजह उनका लाजबाब फिगर ख़ासकर के उनकी गोल गोल चुचिया जिसे हर कोई चूसना और दबाना ज़रूर चाहता है.

ये बात तब की है जब गर्मियो की चुट्टियो मे मैं और मा विजय मामा के घर उन्हे बिना बताए चल दिए सोचा उन्हे जाके सर्प्राइज़ देंगे लेकिन सर्प्राइज़ हमे मिला क्यूकी मामी घर पर थी ही नही वो अपने मायके गये हुए थी और घर पर मामा और उनका एक बचपन का दोस्त अजय था.

हमारी सर्प्राइज़ विज़िट से मामा बहोत खुश हुए और बोले ये तो बढ़िया हुआ सपना तू आ गई अब मुझे खाने की कोई फिकर नही अब तू ही मेरे लिए खाना बना देगी लेकिन तुझे बताके आना चाहिए था मैं तुझे स्टेशन लेने आ जाता चलो कोई नही जो हुआ ठीक हुआ क्यू अजय. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

तो इसपर अजय बोला हा भाई मैने भी कई सालो से सपना के हाथो का खाना नही खाया इसी बहाने मेरी भी पेट पूजा हो जाएगी इसके बाद हम लोगो ने थोड़ा आराम किया फिर मामा और अजय से खूब बाते की उनकी बातो से मुझे पता चला की अजय मामा का बहोत पुराना दोस्त है जो अक्सर उनके घर आया जाया करता था और मा भी उसे आछे से जानती है.

रात के वक़्त जब हम खाना खाने बैठे तो मामा को फोन आ गया और मामा कुछ परेशान से हो गये और मा के पूछने पर उन्होने बताया की उन्हे अभी निकलना होगा काम से और मामा 10 बजे के करीब निकल गये लेकिन जाते हुए उन्होने अजय को कहा की देख अजय मैं 2 3 दिन मे आ जाउन्गा जैसे ही काम ख़तम हुआ तब तक तुझे मेरी बहन सपना का ध्यान रखना होगा.

तो अजय ने कहा क्यू नही तू चिंता मत कर मैं सपना और राज का अछे से ख्याल रखूँगा और उन्हे सब जगह घुमा भी दूँगा इसके बाद मामा चले गये मैं और मा रूम मे लेट गये सुबह अलार्म बजी तो मैं समझ गया मा अब घर का काम करेगी इसलिए मैं लेटा रहा लेकिन 7 बजे के करीब मुझे जोरो से सूसू आने लगी.

More Sexy Stories  ट्रेन मे मिले दो लंड

जब मैं अपने रूम से निकला तो देखा मा मामा के रूम मे जा रही थी और मैं सूसू करने चला गया और जब सूसू करके आ ही रहा था तो मामा के रूम से मा की आवाज़ आ आह अजय छोड़ो मुझे जाने दो मैं सोच मे पढ़ गया की ये क्या हो रहा है.

मैने पास जाके देखा तो दंग ही रह गया क्यूकी अजय मामा पूरे तरह नंगे थे और उनका लंड पूरा खड़ा था और उन्होने मा का हाथ पकड़ रखा था मा भी बस एक तक अजय का लंड देखे जा रही थी.

इतने मे अजय बोला देख तेरे कारण आज तक मेरा लंड ऐसेही तड़प रहा है जबसे तू गई है तबसे ये बिचारा कितना तडपा है तुझे क्या पता तू तो अपनी चुत अपने पति से मर्वाके खुश है लेकिन ये बेचारा इसे तो बस तू चाहिए थी आज भी देख तुझे देखके उछल रहा है सोच रहा है तू इसे पहले की तरह चुसेगी अपने चुत मे लेगी.

लेकिन इसे ये नही पता की तेरी चुत को अब दूसरा लंड मिल गया है जो रोज तुझे बिस्तर पर नंगी कर चोदता है इतने मे मा बोल पड़ी बस करो राज जीतने तुम तडपे मैं उतना मैं भी ताड़पी हू तुम्हे क्या लगता है मैं शादी के बाद खुश हू रोज नंगी होके चुदति हू ऐसा कुछ नही है मेरे पति तो मुझे पूरी तरह नंगा भी नही करता और महीने मे बस एक बार हिलाके सो जाता है और कहते हो मैं तो मज़े मे हू तुम्हे क्या पता मैने तुम्हारे इस लंड को हर रात कितना मिस किया है रोज तड़पति हू मैं भी मेरा रोज मन करता था मैं तुम्हारे लंड को ऐसे तुम्हारे पास बैठके पकडू और उसे मूह मे लेके प्यार करू लेकिन ऐसा हो नही पाया और मा रोने लगी.

More Sexy Stories  पति और पत्नी का अनौखा रिश्ता

तो अजय उठके मा से चिपकके उसे चूमने लगा और बोला आई लव यू सपना मुझे माफ़ कर दो मैने तुम्हे ग़लत समझा लेकिन अब हम बस प्यार करेंगे फिर से उन लम्हो को जियेंगे जिसे पहले जीते थे लो मेरे लंड और उसे वैसे ही चूसो जैसे पहले चुस्ती थी जब मैं तुम्हारे भाई से मिलने आता था और तुम्हे लंड चुस्वाए बिना नही जाता था आओ इसे प्यार करो फिर से..

और अजय ने मा का हाथ अपने खड़े लंड पर रख दिया मा ने भी टाइम नही लगाया और नीचे बैठके अजय के लंड को मूह मे ले लिया ये सब देख मेरा दिमाग़ ही फिर गया समझ ही नही आ रहा था की ये क्या हो रहा है इतने मे अजय ने मा के मूह से अपना लंड निकाल लिया तो मा बोली क्या हुआ तो अजय बोला ऐसे नही पहले जैसे नंगी होके मेरा लंड चूसति थी मुझे मज़ा आएगा.

तो मा बोली अछा तो पहले जैसे चूसना पड़ेगा तो ठीक है अभी रूको 2 मीं मैं आती हू एक बार राज को भी देख आती हू मैं डर गया और जल्दी से दबे पाव अपने रूम मे जाके लेट गया मा मुझे देखने आई और उसके पीछे पीछे अजय भी नंगा मेरे रूम मे आ गया तो मा डर गई और बोली तुम जाओ यहा से..
लेकिन अजय वही खड़ा रहा और मा को बोलने लगा नही आज तुम मेरा लंड यही चुसोगी अपने बेटे के रूम मे तो मा बोली पागल मत बनो चलो यहा से लेकिन अजय ने जिद्द पकड़ ली और बोला जान आज वैसे ही चूसो ना जैसे एक बार तुमने अपने भाई के रूम मे मेरा लंड चूसा तो जब विजय सो रहा था मा को डर था की कही मैं जाग ना जाउ.

Pages: 1 2 3