मॉं को किसी ओर मर्द से चुदाई करते देखा

ही फ्रेंड्स, मे जॉन. ये मेरी हिन्दी सेक्स कहानिया पे पहली कहानी है. ये एक सचु घटना पे आधारित है जो मेरे मॉं क साथ हुई थी और मैने छुप क देखा था. मेरी फॅमिली मे मॉं और डॅड हैं. हुमारा घर भोपाल सिटी मे है. पहले मे मॉं क बारे मे बता डू. मेरी मॉं की उमर 4३ है और उनका साइज़ 34-30-36 है. वो एक सिंपल हाउस-वाइफ है जो सारी और सलवार सूट मे एक दम सेक्स बॉम्ब लगती हैं. वो हमेशा ही टाइट कपड़े पहनती है जिससे उनके फिगर आछे से दिखें. वो जब भी बाहर निकलती हैं तो आस पड़ोस के जवान लड़के उनका समान ताड़ते हैं. मेरे डॅड का सारी का बिज़्नेस है जिसके चलते उनको अक्सर गुजरात जाना पड़ता है. ये कहानी है 20१५ की जब मई 1८ साल का था और मॉं 41 साल की.

2015 मे मेरे छोते मामा की शादी हुई. तब दाद बिज़्नेस क सिलसिले मे गुजरात गये थे तो मॉं और मै साथ मे शादी अटेंड करने गये. अब मामा की शादी थी तो मॉं ने 4 दिन क लिए मायके मे ही रुकने का डिसिशन लिया. सेरेमनी के पहले सुबह से ही मॉं बिल्कुल टाइट सारी पहेन कर और बाल खुले कर घूम रही थी. बहोत से गेस्ट्स उनका बूब्स और गांद ताड़ते रहते. मे दूसरे दोस्तो क साथ खेलने मे बिज़ी था. जब शाम हुई तो गेस्ट्स बढ़ने लगे. अब मॉं इन सब मे गायब सी हो गयइ. मैने उन्हे बहुत ढूँढा बट वो मिली नही.

थोड़ी देर बाद मुझे कस क प्रेशर आया तो मे घर के पीछे वाली गली मे भाग कर गया. शाम थी और थोड़ा अंधेरा था. टॅंक खाली कर के मे मुड़ा तो देखा की मॉं एक अंकल से अकेले मे बातें करे जा रही है. मे थोड़े करीब गया तो मुझे उनके खिलखिलाने की आवाज़ आने लगी. मुझे कुछ डाउट गया तो मे दीवार से सत कर आगे बढ़ता गया और पास की झाड़ी मे झुक कर देखने लगा. कम रोशनी मे से मैने जो देखा मे सर्प्राइज़्ड रह गया. वो अंकल थोड़े मस्क्युलर और काले थे. उन्होने मेरी मॉं को एक हात से पकड़े हुए था और दूसरा हात से उनके बूब्स को दबा रहे थे. उन दोनो क बीच का कॉन्वर्सेशन बहुत हल्का था इसलिए मे सुन नही पाया. वो अंकल बार बार एक हात से मॉं क गॅंड को सहलाते और दूसरे से उनके बूब्स को दबाते और सहलाते. ऐसा करीब 3 मीं तक चला. फिर कुछ आवाज़ आई तो दोनो अलग हो गये और वाहा से निकल लिए.

More Sexy Stories  सुनीता आंटी की चूत मे मेरा लंड

वो पुर दिन मॉं को जब टाइम मिलता, उस अंकल क पास जा कर बातें करती. इस बीच मैने मेरी छोटी मौसी को देखा तो उनको बुला क पूछा “मौसी, ये अंकल कौन हैं मम्मी क साथ?” इसपर उन्होने बोला “अर्रे वो? वो तो तेरी मम्मी क एक्स-लवर हैं. अनुराग मिश्रा. मामा ने इन्वाइट किया है इनको रीवा से.” ये कह क वो हंसने लगी और मुझे शोल्डर पे मार कर चली गयइ. अगले दिन भी ऐसा ही कंडीशन था. उस रात को मुझे नींद नही आ रही थी, मैने मॉं को बगल से उठ कर जाते हुए देखा. रात क 2:30 बजे थे तो मुझे फिर से डाउट हुआ और मे उनको फॉलो करने लगा. मॉं आयेज की गेट से निकली और गली की तरफ जाने लगी. वाहा वो अंकल खड़े थे और मॉं जा कर उनसे लिपट गयइ. थोड़ी देर बात करने के बाद वो दोनो उस्स अंधेरे गली मे चले गये. मेरी अंधेरे से गांद फट जाती थी तो मैने और फॉलो नही किया और वापस सोने चला गया.

ये इन्सिडेंट को अब 4 महीने हो चुके थे. मेरे स्कूल का गर्मी की छुट्टियों चालू था. डॅड दोबारा सूरत चले गये थे. मे पुर दिन घर पे बैठ कर पीसी पर गेम्स खेलता था और मॉं लैंडलाइन पे सारा दिन संजय अंकल से बात किया करती थी. एक दिन मेरे दोस्तों ने एक पिक्निक का प्लान बनाया. ये सुन कर मेरी मॉं बहुत खुश हुई और मेरे लिए दोपहर का खाना पॅक कर के मुझे आराम से वापस आने को कहा.

More Sexy Stories  पापा ने मम्मी की जमकर चुदाई की

उस दिन किस्मत से मेरा एक दोस्त कुच्छ पैसे लाया था. दोनो ने डिसाइड काइया की साइबर केफे जा कर सविता भाभी के कॉमिक्स पढ़ते हैं. मे साइबर केफे से सुबह 11:45 को घर वापस लौटा तो देखा की घर बंद है और बाहर संजय अंकल की गाड़ी लगी है. मैने 2-3 बार बेल रिंग काइया लेकिन किसी ने व रिप्लाइ नई दिया. अब मुझे डर लगने लगा था की कही संजय अंकल मॉं को रूम मे बंद कर क मार तो नही रहे. मे कोने वाले घर के छत पे चाड गया और अपने आँगन मे आराम से उतार गया. स्टेल्त गेम्स खेल खेल क मुझे हाइडिंग स्ट्रॅटजीस याद थी. मे धीरे से पीछे का दरवाज़ा खोला और घर मे घुस गया.

ड्रॉयिंग रूम और मैं रूम खाली था. किचन और स्टोर रूम भी. अब मुझे बहुत दर लग रहा था. मे फिर व छुपते हुए भीतर क रूम मे गया तो वाहा मॉं की आवाज़ आ रही थी. मे जैसे तैसे मॉं के रूम क पास गया और परदे क पीछे जा के थोड़ी जगह बनाई और अंदर देखने लगा. जो मे देखा मुझे यकीन नही आया.

Pages: 1 2