मा की चुदाई का मज़ा

हाय, फ्रेंड्स ये मेरा पहला एक्सपिरिन्स मेरा अप लोगो के साथ शेयर कर रहा हू, अब मैं हिन्दी सेक्स स्टोरी पर आता हू मेरी एज 23 ईयर है और मैं देल्ही मे रहता हू, मेरी फॅमिली मे मैं मम्मी पापा है, पापा की नाइट शिफ्ट रहती हैं और ..वो ज़्यादा बाहर ही रहते हैं.

मेरी मम्मी की एज 35 इयर हैं उनकी हाइट 5.4 इंच हैं वो बहुत ही यंग लगती हैं और कामुक भी., उनके बूब्स काफ़ी सुडोल हैं, और उनकी गॅंड जब चलती हैं काफ़ी हॉट लगती हैं.

दोस्तो कुछ मंथ से मैने महसूस किया की मैं अपनी मम्मी की तरफ आकर्षित हो रहा हू, मैं उनको काम वासना की नज़रो से ज़्यादा देखने लगा, ये बात कुछ दिन पहले की हैं पापा 4 दिन के लिए अपने फ्रेंड्स के साथ टूअर पर जा रहे थे मुंबई, अब घर मे सिर्फ़ मैं और मम्मी थे.

शाम को मम्मी ने कहा की बेटा आज मार्केट चलते हैं कुछ समान लेना हैं तो मैं और मम्मी बाइक पर चल दिए, मैने बाइक पास के एक मॉल मे रोकी और हम अंदर चले गये.

मैने मम्मी से कहा की आपको क्या लेना हैं वो बोली चल तो सही फिर हम कपड़ो की दुकान मे चले गये.

वाहा मम्मी सूट देखने लगी.

उसके बाद मम्मी ने एक हॉट सी नाइटी ली, उस नाइटी को देख मैं काफ़ी उत्तेजित हो गया था.

मम्मी समान ले रही थी तो मैने सोचा यही सही मौका हैं और मैं चुपके से लॅडीस अंडरगार्मेंट्स की शॉप पे चला गया और वाहा से बहुत हॉट ब्रा पैंटी ले ली.

और चुपके से समान वाले बॅग मे रख दी.

अब मैं मा घर की और चल दिए.

रास्ते मे मम्मी के बारे मे ही सोच रहा था, की उनको कैसे चोदु की अचानक बाइक के सामने कुत्ता आ गया और मैने ज़ोर से ब्रेक लगा दिया मम्मी के बूब्स मुजसे चिपक गये, मम्मी कुछ बोली नही और मैने रियलाइज़ किया की अब वो मुझसे चिपक कर बैठी हुई थी, मेरी खुशी का ठिकाना नही था हम घर पहुच गये.

More Sexy Stories  गर्लफ्रेंड की मॉं के साथ मज़ा

खाना खाया और हम सोने चले गये.

रात भर मैं यही सोच रहा था की मम्मी को चोदना हैं कैसे भी.

अगले दिन मम्मी अपना घर का काम कर रही थी और मैं बाहर घूमने चला गया, मैं शामको घर आया.

मम्मी का मूड कुछ बदला सा लग रहा था वो खुश थी.

रात को खाना खाने के बाद मम्मी वो नाइटी पहनकर मेरे रूम मे आई, 11 बजे थे मैं टीवी देख रहा था वो बोली नींद नही आ रही क्या मैने कहा नही, आपको भी नही आ रही क्या उन्होने कहा नही, थोड़ी देर टीवी देखती हू तेरे साथ, और मेरे साथ लेट गई बेड पे.
हम टीवी देखने लगे ..थोड़ी देर बाद मैने टीवी की वॉल्यूम कम कर दी और सॉंग्स लगा दिए.

और मम्मी से कहा की इस नाइटी मे अछी लग रही हो, उन्होने शरारत भरी नज़रो से मुझे देखा और थॅंक्स कहा.

तभी टीवी पर काफ़ी हॉट सॉंग प्ले हो गया, मैने मम्मी से कहा मम्मी एक डॅन्स हो जाए उन्होने एकदम से हा कह दिया और मुझे लगा आज मौका मिल गया.

हम खड़े हुए और एक दूसरे के साथ डॅन्स करने लगे, फिर मैने मम्मी का हाथ पकड़ा और अपने पास खिच लिया अब वो मेरे करीब थी, हम समझ चुके थे, मैने उनकी कमर मे हाथ डाला और डॅन्स करने लगा , वो मुस्कुरा दी मैं समझ गया की ये ग्रीन सिग्नल हैं.

अब हम बिल्कुल एक दूसरे के करीब थे, मैने अपना हाथ उनकी कमर पे ले जाकर उनकी नाइटी की चैन खोल दी.

और नाइटी निकाल दी.

मैं शोक रह गया वो उन्ही ब्रा पैंटी मे थी, जो मैने खरीदी थी.

More Sexy Stories  पड़ोस के अंकल ने मम्मी की चुदाई की

मैने उन्हे अपनी गोद मे उठा लिया और बेड पे लेटा दिया और अपने कपड़े निकाल दिए और मेरा लॅंड पूरी तरह से खड़ा था, मैने अपना लॅंड उनके होटो पे रख दिया, अब वो उसे चूसने लगी, पूछ पूछ करके खूब चूसा, अब मेरा लॅंड पूरी तरह तैयार था.

मैने अब उनकी ब्रा निकाल दी उनके गोरे गोरे बूब्स काफ़ी सेक्सी थे..मैं उनको दबाने लगा, अब मैं उनके उपर था ..वो आवाज़ निकाल रही थी..आह अहभ अहबाह, अहह अहह.

अहह ओह्ह्ह्ह की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था, मैने उनकी पैंटी निकाल दी, क्या चुत थी मैं हैरान रह गया क्लीन शेव लाल जैसे कुवारि लड़की हो, मैने उनकी चुत पे हाथ घुमाया और अपनी जीभ से चाटने लगा मम्मी ज़ोर ज़ोर से सिसकारी भर रही थी और लव यू मेरी जान कह रही थी

मैने कहा की मम्मी पापा सेक्स नही करते क्या, उन्होने कहा की वो घर पे रुकते ही कहा है जो मुझे चोदे.

मैं मम्मी को बाहो मे ले लिया उनकी चुत से पानी निकल रहा था, मैने उनकी चुचि को ज़ोर ज़ोर से दबाए और उनको मूह मे लेकर चूसने लगा, वो तड़प रही थी.

उन्होने कहा की बेटा अंदर डाल दे अब जल्दी से मैने अपना लॅंड मम्मी की चुत पे रखा और धक्का मारा मेरा लॅंड मम्मी की चुत की झिल्ली मे हल्का सा अंदर गया और मम्मी की अहह निकल गई उन्होने अपने पैर मेरी कमर पे रख दिए.

मैं जोश मे आ गया और ज़ोर से धक्का मारा मेरा पूरा लॅंड अंदर चला गया मम्मी की चीख निकल गई, बेटा बाहर निकाल मर गई मैं, तेरा बहुत बड़ा हैं, मैने थोड़ी देर रुक कर उनकी चुदाई शुरू कर दी.

वो अह्ह्ह्ह भर रही थी पच पच की आवाज़ हो रही थी

Pages: 1 2