गन्ने के जूस वाले का मोटा लंड लेकर चूत की खुजली मिटाई

दोस्तों मेरा नाम अमीना खान है और मैं एमपी भोपाल से हूँ. मैं एक हाउसवाइफ हूँ और एमवे में एजेंट हूँ. मेरी एज 37 साल की है और मेरे पति 43 साल के है. मेरे पति गवर्नमेंट स्कुल में पियून है. मेरी फिगर 38 -36 -38 की है और मैं सांवली सी हूँ. मेरे बूब्स और गांड बहुत बड़े है. मेरे पति दिनभर स्कुल में रहते है और मैं एजंट बनाने के लिए और अपने कमिशन के लिए घुमती हूँ. अक्सर मैं मीटिंग के लिए भी होटल वगेरह में जाती हूँ. मेरा अफेयर एमवे के ही एक मेनेजर के साथ में है. और वही मुझे एजंट बनाने में मदद करता है. और बदले में मैं उसे शारीर का सुख देती हूँ. उसका नाम विनोद है और उसकी वाइफ मर गई है. वो रंडवा है और उसे सेक्स की बहुत जी जरूरत सी है. इसलिए मैं उसका यूज करती हूँ अपने फायदे के लिए. वैसे मेरे को भी सेक्स की जररूत रहती है क्यूंकि मेरे पति को अब चोदने में कोई दिलचस्पी नहीं रही है. वो बस काम और घर पर धार्मिक किताबे पढता रहता है.

अक्सर टीचर और प्रिंसिपल लोग मेरे पति को अपने घर के फंक्शन वगेरह में भी काम करने के लिए बुलाते है. ऐसे ही समर के दिन चल रहे थे. दिन तो सन्डे का था लेकिन मेरे पति को उसके एक टीचर ने पार्टी के लिए बुलाया हुआ था. मेरे पति ने पहले ही बोला था की मेरे को शाम का खाना वही खाना है. इसलिए मैं समझ गई की पार्टी के बाद उन्हें आने में कम से कम रात तो होनी ही होनी है. मेरे बेटे अमित ने भी बोला की मम्मा मैं फुटबोल के लिए जा रहा हूँ और शाम को हम लोग अपने एक दोस्त के घर खायेंगे.

मैं घर पर अकेली ही रहने वाली थी. और होर्नी भी फिल कर रही थी. विनोद को कॉल किया तो उसके वहां उसकी बहन और जीजा आये हुए थे. मन हल्का करने के लिए मैं एमवे की फ़ाइल ले के एक प्रोस्पेक्टीव क्लाइंट के वहां गई. दोपहर थी और गर्मी भी खूब थी. क्लाइंट ने भी ऑलमोस्ट हड़का ही दिया क्यूंकि सन्डे जो था. मैं मन ही मन उसे माँ बहन की गालियाँ देते हुए वापस आ गई. और मेरे घर के सामने जो खुला मैदान सा है वहां गन्ने के ज्यूस वाला इकबाल भाई है उसके वहां बैठी प्लास्टिक की चेयर पर. अपने गोगल्स निकाल के मैंने कहा एक ज्यूस तो पिला दो यार.

More Sexy Stories  नौकरानी ने चूत की सील तुड़वाई

वो बोला, हां बैठो भाभी.

वो लुंगी पहने हुए था और मैं मन ही मन सोचने लगी की इसका लंड कितना बड़ा होगा! और ये सोचने से मेरे अंदर की औरत जाग गई. मैं गरम हो गई थी. और मैंने सोचा की अगर आज ये मुझे चोदे तो मैं उसका भी लंड ले लुंगी. वैसे दोपहर की वजह से रोड सन्नाटा था और मेरा घर वहाँ से कुछ सो दो सो फिट की दुरी पर ही था. मैंने उसे उत्तेजित करने के लिए अपने दुपट्टे को हटा दिया. अंदर मैंने टॉप पहना हुआ था. इकबाल के ठेले पर अब कोई और कस्टमर भी नहीं था. मैंने कहा आज तो बहुत ही गर्मी है.

और ऐसे बोलते हुए मैंने धीरे से अपने टॉप के एक बटन को खोला और टॉप को हिला दिया जैसे मैं अंदर हवा डाल रही थी. इकबाल ने मुझे देखा तो मैंने उसे स्माइल दे दी. और उसकी आँखों में अपनी आँखे चिपका सी दी. वो पहले तो नजरें चुराने की फिराक में था. लेकिन फिर जब मैंने टॉप को और हिलाया तो वो वही देखता रहा. फिर लुंगी के ऊपर उसने हाथ डाला और लंड को थोडा पकड के पॉकेट बिलियर्ड खेल के बोला, हाँ बड़ी गर्मी है आज तो सुबह से ही.

मैंने गन्ने का ज्यूस खत्म कर लिया और वो बोला, और दूँ?

मैंने कहा, छुट्टे पैसे नहीं है मेरे पास?

वो बोला आप से किसने पैसे मांगे भाभी?

मैंने कहा, घर पर है छुट्टे पैसे, आओगे तो दे दूंगी.

और ये कह के मैने लुंगी के ऊपर देखा जहाँ पर उसका लंड था. वो मेरी बात का मलतब समझता था. वो बोला भैया नहीं है क्या आज?

More Sexy Stories  मेरी चाची ने मुझसे फ्री में चुदवाया

मैंने कहा, भैया काम से और बेटा खेलने गया है.

और उसने लुंगी में लंड को फड़का दिया और बोला, चलो फिर छुट्टे पैसे दे ही दो मेरे को आप.

और वो बोला, मुझे भी कुछ काम से जाना है इसलिए बंद ही कर रहा था. उसने मशीन के आगे लोक किया और गल्ले से सब पैसे ले के अपनी जेब में डाल लिए. मैंने दूसरा ग्लास भी ख़त्म किया और उसको बोला, मैं जा के दरवाजा खोलती हूँ फिर आओ आप. मैंने ये कह के आगे चली और तिरछी नजर से देखा तो वो मेरे पिछवाड़े को ही देख रहा था. मैंने भी गांड को एक्स्ट्रा झटके दे दिए उसके लंड को और टाईट करने के लिए.

इकबाल भी मेरी गांड को देख के अपने मुहं से लाळ टपकाने लगा था. और वो मेरे पीछे कुछ देर के बाद आया जब तक मैं दरवाजा खोल चुकी थी, साला होशियार भोसड़ी का!

मैंने दरवाजे को पहले बंद नहीं किया एकदम से, शायद कोई देख रहा हो इस डर से. इकबाल अंदर आ गया था और उसे देख के मेरा दिल जोर जोर से धडक रहा था. पता नहीं आज मुझे क्या हुआ था! मैंने पहले कभी ऐसी हिम्मत और जुर्रत नहीं की थी पराये लंड को लेने के लिए. इकबाल को एक कौने में खड़ा कर के मैंने विंडो से बहार देखा. रोड पर बस एक कुत्ता था जो छाँव की तलाश में था और इधर मेरी चूत को लंड की आग की जरूरत थी. इकबाल मेरे पीछे आ गया और साले ने अपनी लुंगी को ऊपर कर के अपने लंड को मेरे कुल्हें को टच करवा दिया. बाप रे साले के लौड़े में क्या आग थी! मैं तो ऊपर से निचे तक पानी पानी हो गई थी उसके लंड का स्पर्श पा के.

Pages: 1 2