कामुकता क़हानिया दीदी के संग मस्तियाँ

ये कह कर मम्मी और बुआ मार्केट जाने लग गये. और मैं गुस्सा हुआ और अपने रूम मे जा कर स्टडी करने बैठ गया. कुछ देर बाद अंदर दीदी आई और बोली तू बाहर इतना शरमा क्यो रा था. और ये कहते ही दीदी ने मुझे पीछे से पकड़ लिया. और मेरे होंठो को अपने होंठो मे ले कर उसे किस करने लग गयी. मैने उन्हे दूर किया और कहा हटो दीदी मुझे दर्द हो रा है.

दीदी ने मेरे लंड के उपर हाथ रखा और कहा की वहाँ दर्द हो रा है क्या. मैने कहा हन दीदी यहीन पर दर्द हो रा है बहुत ज़्यादा.

फिर दीदी ने मुझे अपनी गोध मे उठाया और बेड पर सीधा लिटा दिया. फिर वो भी मेरे साथ आ कर लेट गयी. और मेरी पॅंट खोल कर उन्होने मेरा लंड बाहर निकाल लिया और ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को अपने हाथ मे ले कर उपर नीचे करने लग गयी.

और साथ ही मेरे होंठ को अपने होंठो मे ले कर किस करने लग गयी. मेरा लंड अब पूरा खड़ा हो गया था और दर्द होने लग गया था. काफ़ी देर किस करने के बाद दीदी ने मुझे अपनी बाहो मे भर लिया और मेरा सिर अपने बूब्स के बीच मे दबा दिया.

उसके बाद उन्होने अपना टॉप उतार दिया और मुझे अपने उपर कर लिया. दीदी ने मुझे अपने पेट के उपर बीताया और अपने दोनो बूब्स मुझे चूसने को कहा. मैने दोनो बूब्स को अपने हाथो मे ले लिया और दोनो बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लग गया.

More Sexy Stories  छोटे भाई ने चोद चोद कर मुझे जन्नत का सुख दिया

कुछ ही देर बाद मैं दीदी के बूब्स चूसने भी लग गया. दीदी भी अब गरम होने लग गयी थी. दीदी के बूब्स मैं एक एक करके अच्छे से चूस रा था. फिर दीदी ने अपनी स्कर्ट उपर करी और अपनी पानटी भी उतार दी. मेरे सामने दीदी की गुलाबी चूत थी.

दीदी ने अपनी दोनो टाँगे खोल कर मेरा लंड अपने हाथ मे पकड़ कर अपनी चूत पर सेट करवा दिया. और मुझे कहा की चल अब तू ज़ोर से धक्का मार और अपना लंड मेरी चूत मे डाल दे.

मैने दीदी की बात मानी और एक जोरदार धक्के से अपना पूरा लंड उनकी चूत मे डाल दिया. दीदी की चूत ज़्यादा टाइट न्ही थी इसलिए मेरा लंड बड़ी आसानी से उनकी चूत मे उतर गया. और देखते ही देखते मैं कब उन्हे किस और उनके बूब्स चूसने लग गया मुझे पता तक न्ही चला. और फिर हम दोनो के मूह से आहह आहह की आवाज़े निकल रही थी. दीदी अचानक ही गरम हो गयी और ज़ोर ज़ोर से अपनी गान्ड उठा कर मुझसे चुदने लग गयी.

फिर उनका पूरा जिस्म अकड़ गया और चूत के अंदर मेरा लंड पूरी तरह से भीग चुका था. उसके बाद मेरे लंड ने अपना सारा पानी उनकी चूत पर ही निकाल दिया. मैं काफ़ी थका हुआ महसूस कर रा था. इसलिए मैं दीदी के उपर ही लेट गया. और वही पर रेस्ट करने लग गया.

कुछ देर बाद डोर बेल बजी और दीदी ने मुझे झट से अपने उपर से हटा दिया. और कहने लगी जल्दी से अपने कपड़े डाल मम्मी आ गयी है मार्केट से.

More Sexy Stories  निशा भाभी की मस्त चुदाई

दीदी अपने सारे कपड़े जल्दी से डाल कर दरवाजा खोलने चली गयी. फिर मैं भी अपने कपड़े डाल कर बाहर आगया. उस दिन के बाद रात को भी हमने 3 बार चुदाई करी. और उस दिन के बाद हम दोनो ने जी भर कर चुदाई करी. और आज भी दीदी जब कभी घर आती है तो हम दोनो चुदाई ज़रूर करते है.

Pages: 1 2 3