कामुकता क़हानिया दीदी के संग मस्तियाँ

Bhai Behen ki chudai kahani : सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। नॉनवेज स्टोरी के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

हेलो दोस्तो, मेरा नाम मनीष है और मेरी उमर 18 साल है. मैं गुजरात का रहने वाला हूँ. और मेरी ये पहली कहानी है जो मैं आप सब के लिए ले कर आया हूँ. मुझे उमीद है आप को मेरी ये आज की कहानी पसंद आएगी. तो चलिए बिना टाइम खराब किए मैं सीधा कहानी पर ही आता हूँ.

ये बात आज से 1 साल पहले की है जब मैं 18 साल का था. मेरे घर मे मेरे मम्मी पापा और मेरी एक बड़ी बेहन सीमा रहती है. सीमा की उमर 22 साल है और वो बहुत ही सेक्सी और हॉट है. उसका फिगर 32-28-34 है. मुझे दीदी के बूब्स बहुत अच्छे लगते है.

मेरे और दीदी के बीच बहुत ही प्यार है. मैं दीदी का जब कोई काम करता हूँ तो दीदी मुझे मेरे गाल पर किस करती है. और अगर दीदी मेरा कोई काम करती है तो मुझे दीदी को किस करना पड़ता है. हम दोनो मे एक कामन है. वैसे भी मैं घर मे सब से छोटा हूँ इसलिए मुझे सब बहुत प्यार करते है.

वैसे मैं 18 साल का हूँ पर वो मुझे सब के सब सिर्फ़ 10 या 12 साल का ही मानते है. आज की डेट मे दीदी की शादी हो गयी है. और जब मैं 18 साल का था तब उससे पहेले मेरे और दीदी के बीच बहुत लड़ाई होती थी. पर जब से हम दोनो मे सेक्स का रीलेशन बना. तब से हम दोनो मे प्यार ही प्यार रह गया है. मैं और दीदी एक दूसरे को बहुत प्यार करते है.

More Sexy Stories  छोटे भाई को चूत चोदना सिखाया

और कभी भी भूल कर भी एक दूसरे को कोई शिकायत का मौका न्ही देते. अब दीदी चुदाई से पहले करीब 10 मिनिट तक मेरा लंड अच्छे से चूस्ति है और उसके बाद ही हम दोनो चुदाई शुरू करते है.

मुझे उनसे अपना लंड चुसवाना बहोट ही अछा लगता है. और अब भी जब दीदी शादी के बाद कभी घर आती है. तो हम दोनो रात को जम कर चुदाई का नंगा नाच करते है. आज भी दीदी की चूत बहुत टाइट है जिसे फाड़ने मे मुझे बहुत मज़ा आता है.

अब मैं आप को बतौँगा की आख़िर हम दोनो मे सेक्स का रीलेशन केसे शुरू हुआ. हुआ कुछ ऐसे की जब मैं 18 साल का था और दीदी 22 साल की थी. हम दोनो एक दिन बाहर किसी काम से आक्टीवा पर गये हुए थे. दीदी हमेशा आक्टीवा ड्राइव करती थी. उन्होने कभी मुझे ड्राइव न्ही करने दिया. उस दिन भी मैं हमेशा की तरह उनके पीछे बैठा हुआ था.

वापिस आते हुए बहुत तेज बारिश होने लग गयी. मैने दीदी से कहा की दीदी कही रुक जाते है इस बारिश मे ड्राइव करना ज़रा भी सेफ न्ही है. पर दीदी हमेशा से ही अपनी चलाती थी.

उस दिन भी उन्होने मेरी कोई बात न्ही मानी थी. और मुझे कहा की तू कस्स कर मुझे पकड़ ले बस. मैं दीदी के पीछे बैठा हुआ था मैने अपने दोनो हाथ उनके पेट से लपेटे हुए थे. और दीदी खाली रोड पर आक्टीवा को राइट और लेफ्ट घुमा रही थी.

मुझे उनके पीछे बैठ कर बहुत ज़्यादा डर लग रा था. मैं दीदी को बार बार कह रा था की ध्यान से चलो प्लीज़ वरना हम गिर भी सकते है. क्योकि बारिश की वजह से रोड पर एक भी बाइक न्ही थी. सिर्फ़ कार ही चल रही थी इसलिए भी मुझे काफ़ी डर लग रा था. मैं दीदी से बार बार कह रा था की प्लीज़ वो धीरे चलो लो. पर दीदी है की मेरी एक बात भी न्ही सुन रही थी.

More Sexy Stories  Meri garam bhabhi ki sex ki pyas bujhaye

उसके बाद दीदी ने कहा की तू ऐसा कर अपने हाथ उपर की और कर ले. मुझे समझ न्ही आई. तो उन्होने अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ कर मेरा हाथ अपने बूब्स पर रख दिया. जब मेरा उन्होने पहला हाथ रखा तो मुझे कुछ अजीब सा लगा. पर जब दीदी ने मेरा दूसरा हाथ भी अपने बूब्स पर रखा तो मैं काफ़ी डर सा गया की दीदी ये कर क्या रही है. अब हाल ये था की मेरे दोनो हाथ उनके दोनो सॉफ्ट बूब्स पर ही थे.

जेसे ही दीदी आक्टीवा को लेफ्ट टर्न देती थी तभी मेरा हाथ अपने आप ही उनका लेफ्ट बूब्स काफ़ी ज़ोर से दबा देता था. फिर जब वो राइट टर्न देती थी तब मेरा हाथ उनका राइट बूब्स अपने आप ही डब जाता था.

मैं काफ़ी डर रा था पहले पर अब मुझे दीदी के सॉफ्ट सॉफ्ट बूब्स दबाने मे मज़ा बहुत आ रा था. इसलिए मैं दीदी को अब कुछ न्ही कह रा था. शायद दीदी को भी इसमे बहुत मज़ा आ रा था. तभी वो इतनी ठंड मे भी गरम होनी शुरू हो गयी थी.

फिर कुछ देर बाद मैने दीदी को कहा की मुझे बहुत ज़ोर से पेशाब आ रा है प्लीज़ वो आक्टीवा को साइड मे कही रोक दे. पर दीदी ने कहा की अभी घर आने वाला है थोड़ी ही देर मे तो तू प्लीज़ थोड़ी देर रोक ले. पर मुझे सच मे बहुत ज़ोर से आ रा था. मैं दीदी को बार बार कह रा था की वो अपनी आक्टीवा को साइड मे रोक दे. पर दीदी मेरी बात सुन ही न्ही रही थी.

Pages: 1 2 3