हिन्दी गंदी कहानी देसी चुदाई दूध पिता बच

hindi gandi kahani desi chudai दोस्तो ये हिन्दी गंदी कहानी देसी चुदाई तब की है जब मैं अपने ऑफीस के काम से आसाम मे गया था वाहा पर मेरी कंपनी अपना एक नया ऑफीस बना रही थी इसलिए उन्होने इस की सारी ज़िम्मेदारी दे कर मुझे 3 महीनो के लिए वाहा शिफ्ट कर दिया था. मेरी फॅमिली मे मेरी वाइफ और 2 बच्चे है. बच्चो के अभी एग्ज़ॅम चल रहे थे इस लिए मैं उन्हे साथ ना ला सका.

कंपनी ने मुझे रहने के लिए एक बहोत बड़ा घर दिया जिसमे मैं अकेला ही रहता था. एक दिन मुझे मेरे वाहा एक दोस्त ने मुझे एक कपल से मिलाया उन दोनो की उमर करीब 25-27 होगी उनके पास एक छोटासा बेबी था शायद उसकी उमर 1 साल होगी. वो दोनो एक रेंट पर घर ढूंड रहे थे. वो मेरे पास इस लिए आए थे की मेरा घर इतना बड़ा है और मैं वाहा अकेला ही रहता हूँ.

मैं उनकी प्राब्लम को ध्यान से सुना और सोचा की ये मेरे लिए ठीक है एक तो मेरे घर की टाइम टू टाइम मेंटेनेंस होती रहेगी और घर मे हमेशा कोई ना कोई रहेगा. मैं सब कुछ सोचकर उन्हे अपना आधा घर रेंट पर देने के लिए हान कर दी. पर मेरी नज़र उसकी वाइफ पर थी. वो दिखने मे काफ़ी खूबसूरत और सेक्सी थी इकदम पतली सी उसने एक टाइट जीन्स डाली हुई थी जिसमे उसके चुत्तर पूरी शेप मे दिख रहे थे.

वो अपने बच्चे को दूध पीला रही थी और मेरी नज़र उसके बूब्स पर थी. जिसे देख कर मेरे मूह मे पानी आ रहा था. मैं बार बार उसके बूब्स देख रहा हूँ ये बात उसने भी नोटीस कर ली थी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

अब मैने उसे अपने आधे घर की भी चाबी देदी थी ताकि जब कामवाली घर की सफाई करने आए तो वो मेरे घर की भी सफाई करा ले. उन्होने अभी थोड़े दिन मे अपना नया घर लेना था इसलिए अभी उनके पास ज़्यादा फर्निचर नही था. इसलिए मैने उसे कहा की तुम घर मे सारा दिन अकेली रहती है तो इतना तुम मेरे घर मे आकर टीवी देख लिया करो और अपना खाने पीने का समान मेरे फ़्रिज़ मे भी रख सकती हो. ये मेरी बात सुनते ही वो झट से मान गई अब वो अपने घर मे कम मेरे घर मे ज़्यादा रहती थी.

More Sexy Stories  बूढ़े ने चुदाई की मॉं की

इस बहाने मुझे उसके गोरे गोरे बूब्स देखने को मिल जाते थे. मैं रोज उसके बूब्स को देखता पर अभी तक पूरे नंगे बूब्स देखने को नही मिलते थे. जब भी वो बच्चे को अपना दूध पिलाती थी तब पता नही क्यो मेरे मूह मे पानी आ जाता था मेरा मन उसका दूध पीने का होता था.

एक दिन ऐसे ही दोपहर के टाइम घर आया तो नवनीत (ये उसका नाम है) सोफे पर बैठकर अपने बच्चे को दूध पीला रही थी और टीवी देख रही थी. मुझे साइड मे से उसके बूब्स दिख रहे थे आज उसने शर्ट डाली हुई थी जिसके उपर के 3 बटन खुले हुए थे. जैसेही उसने मुझे देखा तो वो एक दम घबरा गई क्योकि उसको आस पास अपने बूब्स मुझसे छिपाने के लिए कुछ नही मिल रहा था.

तभी मैने उसे इशारा किया कोई बात नही आप बेबी को डिस्टर्ब मत कीजिए. फिर वो शांत हो गई और बच्चे को दूध पिलाने लग गई. मैं भी सोफे पर बैठ गया और उससे इधर उधर की बातें करने लग गया. मैं बात करते-करते बार-बार उसके बूब्स पर आकर रुक जाता और ये मेरी ये हरकत वो बहोत आछे से नोटीस कर रही थी.

तभी मैने एक बूब्स देखा जो कमीज़ के अंदर था उसमे से दूध बाहर आ रहा था जिससे कमीज़ गीली हो रही थी. अब उसकी कमीज़ गीली हो चुकी थी जिससे उसके बूब्स अब मुझे सॉफ सॉफ दिख रहे थे. मुझे आछे से पता था की ये क्यो होता है पर फिर भी मैने जानकर उससे पूछा – ओएमजी ये क्या आप की तो पूरी कमीज़ गीली हो गई है ये कैसे हुआ ?

More Sexy Stories  फ्रेंड की मॉं को रंडी बनाया

नवनीत शरमाते हुए बोली – भाई साहब मैं अब करू भी क्या मेरा दूध ही इतना होता है की ये नीचे टपकता रहता है. ये तो एक बहोत बड़ी प्राब्लम है मेरे लिए क्योकि इसमे बहोत दर्द होता है और अगर पंप करती हूँ तब तो मेरी जान ही निकल जाती है.

मैने शरारती तरीकेसे कहा – ये भी कोई प्राब्लम है आप अपने हज़्बेंड को कह दो वो इसे आराम से मज़े लेते हुए सॉल्व कर देगा. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

वो उदास होते हुए बोली – भाई साहब अब मैं क्या बताउ मेरे पति को तो मेरा दूध बिल्कुल पसंद नही है. ना तो वो दबाकर निकालते है और ना तो वो चूस कर निकालते है.

मैं हैरानी से बोला – यार कमाल है मैने आज पहला मर्द देखा है जिसे अपनी वाइफ का दूध पसंद नही है.

नवनीत बोली – अब क्या करे वो ऐसे ही है.

अब मुझे लगा की मौका अछा है तभी मैं बोला – काश मैं आप की मदद कर पता.

ये बात बोलते ही मुझे लगा की मैने कुछ ज़्यादा ही कह दिया है कही ये घुस्सा करके ना चली जाए अब यहासे.

अब वो मुस्कुराती हुए बोली – सच मे आप करोगे मेरी मदद.
मैं – हान क्यो नही मैं करूँगा आप की मदद.

नवनीत बोली – ठीक है.

अब उसने धीरे से अपना निप्पल बेबी के मूह से निकाला और बेबी को अंदर लेटाकर मेरे पास आ गई. अब उसने अपने बूब्स को छिपाने की कोशिश भी नही करी क्योकि वो अब खुद ही बूब्स का दूध पिलवाना चाहती थी. अब वो मेरे पास आकर बैठ गई और बोली- पियोगे ना?

Pages: 1 2