हवस की कहानी जवान लड़की की

Hawas Ki Kahani jawan ladki ki मेरा नाम आंशिका देवगन है. अब 27 साल की हो गयी हूँ. अछा कमाती हूँ और अपने पैरो पर खड़ी हूँ. पर एक टाइम था की परिवार की सहायता के लिए मुझे और मेरी बेहन को वो सब करना पड़ा जो हम जैसी मिडलक्लास लड़कियों को गवारा नहीं है. हिन्दी सेक्सी स्टोरी पहली चुदाई

Hawas Ki Kahani jawan ladki kiमैं वैसे मीरूत मे पैदा हुई थी पर हम मोदिनगर में आके बस गये थे क्यूंकी मेरे पापा की नौकरी मोदी टाइयर्स मे लग गयी थी. हमे समीर्विहार मे एक अछा मकान भी रहने के लिए मिल गया था. हम दोनो बहाने टीआरएम स्कूल मे पड़ने लगी और हमारा वक्त अछा चल रहा था.

पर फिर खराब टाइम आ गया.. पापा की कंपनी बंद हो गयी और नौकरी छूट गयी. वो लोकल फाइनान्स. इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का काम तो करने लगे पर सक्सेस नहीं हुए. मैं तब 9थ मे थी और रिचा दी 12थ मे थी. भाई बहुत छोटा था.

रिचा दी और मैं स्लिम थे. हमारी फिगर काफ़ी पतली पर टाइट थी. हम दोनो स्पोर्ट्स और डॅन्स मे भी बढ़ चढ़ के हिस्सा लेती थी.इसीलिए हमारी बॉडी पे कहीं भी फॅट नहीं था.

दी और मैं साथ मे सोते थे. मैं पढ़ कर सो जाती थी और दी पढ़ती रहती थी. गर्मियों के दिन थे. एक दिन रात को मैं पानी पीने के लिए उठी. तो देखा दी बिस्तर पर नहीं हैं. मैने सोचा. बाथरूम गयी होगी और मैं सो गयी. लेकिन ऐसा जब एक दो बार हो गया तो मैं दी को ढूँढने निकली.

वो टाय्लेट मे नहीं थी. फिर मैं ड्रॉयिंगरूम से होते हुए मास्टर बेडरूम की तरफ बढ़ी. जहाँ मम्मी पापा सोते थे. तब मैने दी को बेडरूम की डोर के सामने बैठे हुए देखा. उनकी नाइटी जांघों तक आ रखी थी और वो उनके बीच मे हाथ डाल कर पापा के बेडरूम मे झाँक रहीं थी. मैं भी उनके पास गयी तो मुझे पापा के बेडरूम से हँसी की आवाज़ें आने लगी.

फिर मम्मी उउउहह आहहा करने लगी. और फिर ज़ोर से चिल्ला के शांति से छा गयी. मैने देखा दी भी निढाल हो कर लेट गयी. और मैं चुप चाप वापस आ कर लेट गयी. दी आई. पहले बाथरूम गयी और मूह हाथ धो कर साथ मे लेट गयी. उनकी साँसे बहुत तेज़ चल रही थी जैसे की कहीं दूर से भाग कर आई हो. फिर वो मेरे से लिपट गयी और प्यार से मेरे गालों को चूम कर सो गयी.

More Sexy Stories  मेरी सेक्सी भांजी पायल की चुदाई

अभी 15 साल की हो गयी थी और लड़को के गंदे इशारे और साथ की लड़कियों की हँसी कुछ कुछ समझने लगी थी. मेरे ब्रेस्ट्स नींबू के साइज़ के थे इसलिए अभी तक ब्रा पहनने की ज़रूरत नहीं पड़ी थी. सिर्फ़ कमीज़ से काम चल जाता था.

पर 8थ क्लास से पॅड तो पहनने लगी थी. फिर एक रात दी का मॅच था और वो थक कर जल्दी सो गयी. मैं 11 बजे तक पढ़ रही थी. तब मुझे मम्मी की हसने की आवाज़ सुन्नआई पड़ी. मैं चुपचाप बाहर आई तो देखा की पापा के रूम की नाइट लाइट जाली हुई है. मैं भी धीरे से तोड़ा परदा खोल के दरवाज़े के सामने बैठ गयी और रूम के अंदर झाँकने लागपडी.

मैने देखा की पापा लेटे हुए थे और मम्मी अपना ब्लाउस और सारी उतार कर उन पर बैठी हुई थी. उनके बदन और जांघें लाल रोशनी मे चमक रही थी. पापा उनके ब्रेस्ट्स मसल रहे थे और वो खुशे के मारे सिसकारियाँ ले रहीं थी. फिर उन्होने पापा का लंड अपनी चूत मे डाला और वो उपर नीचे करके पापा को चोदने लगी. उनकी आँखे बंद थी और उनके होठों से सीसी सीसी की आवाज़ आ रही थी.

मैं भी ये नज़ारा देख कर गरम हो गयी थी और मेरी उँचुई बुर मे गीलापन आने लगा था. फिर मैने भी अपनी कची मे हाथ डाल कर रगड़ना शुरू कर दिया. बहुत मज़ा आ रहा था और मेरा खून मेरे सिर में टक्कर मार रहा था. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

अचानक पापा से नहीं रहा गया और उन्होने मम्मी को अपने नीचे गिरा लिया और उन्हे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगे. मम्मी और ज़ोर ज़ोर से मज़े लेले कर सिसकारियाँ ले रही थी. फिर पापा झड़ गये और मैं भी. पूरे बदन मे ऐसा लग रहा था की जान ही नहीं है. बड़ी मुश्किल से मैं वाहा से अपने कमरे मे आ पाई. सूसू करके और मूह हाथ धो कर किसी तरह मैं बिस्तर मे लेट गयी.

More Sexy Stories  स्टाफ की बेटी नेहा के साथ चुदाई

रिचा दी मेरे पास ही लेती हुई थी. अचानक वो पलटी और बोली की तुम भी देख आई नज़ारा. मेरी तो साची बोलू फट ही गयी थी की मैं पकड़ी गयी. पर दी जब हसी तो मेरी जान मे जान आई. वो बोली अब तू बड़ी हो रही है. एक दिन बैठ के तुझे भी समझाउन्गि की इस घर की खुशी के लिए क्या क्या करना पड़ता है और मुझे लिपटा के वो सो गयी.

उस दिन मुझे दी की बात कुछ अटपटी सी लगी और मैं कुछ समझी भी नहीं थी. बहुत सोचा तो मुझे कुछ समझ मे आने लगा. कैसे दी मेरे लिए गिफ्ट्स लाती हैं. घर का समान का और बिजली वगेरा का बिल अपनेआप देती हैं तो पापा से पैसे नहीं लेती हैं. वो कुछ ट्यूशण तो पढ़ाती थी. पर इतने पैसे तो नहीं कमा सकती.

मैने उनको कई बार लड़को के साथ बाइक या कार मे देखा है. जब पूछा तो बोली की उनके फ्रेंड्स हैं. एक बार वो जिम के पास भी गयी थी तो मैं बाहर बैठी थी. तब भी वहाँ उनके फ्रेंड्स बाहर बैठे थे. काफ़ी अमीर लग रहे थे. तो मुझे लगा की दी के फ्रेंड्स उनकी हेल्प करते हैं..मुझे लगा की काश मेरे भी ऐसा कोई दोस्त होता . पैसेवाला होता और मुझे गिफ्ट्स देता.
फिर एक दिन दी घर शाम तक नहीं आई थी. अचानक एक फोन आया और पापा और मम्मी स्कूटर उठा कर चल दिए. उनके चहरे पर से हवैइयाँ उड़ रही थी. काफ़ी रात को वो लोग दी को ले कर घर आ गये. दी का चेहरा मुरझा हुआ था और उनकी कपड़ो पर भी जगह जगह मिट्टी लगी हुई थी. वो चुपचाप नहा कर आई और सो गयी. उस रात उन्होने खाना भी नहीं खाया.

Pages: 1 2