घर वाली और बाहर वाली

हेल्लो मेरे प्यारे दोस्तो, मैं रवि आज आपके लिए एक कहानी ले कर आया हूँ. आप इसे कहानी भी कह सकते है, पर ये कहानी न्ही है. ये मेरी लाइफ का वो सच है. जिसे शायद आज की डेट मे सब शादी शुदा मर्द ढूंड रहे है.

हा दोस्तो, आज मैं आपके सामने अपनी लाइफ का एक बेहद ही खूबसूरत किस्सा पेश करने जा रहा हूँ. जिससे मुझे पता चला की मुझे लाइफ मे सब से ज़्यादा प्यार कौन करता है.

जैसा की मैने शुरू मे ही कहा की आज की डेट मे ये हर किसी की प्राब्लम है. आज शायद मेरी ये कहानी आपको आपके सच्चे प्यार को पाने मे आपकी हेल्प करे. आप मे से काफ़ी लोग मुझे मेरी ये कहानी पढ़ कर मुझे बहुत गंदी गंदी गालिया भी देगें.

पर मुझे वो भी मंजूर है, क्योकि मेरी ये कहानी कोई आम इंसान न्ही समझ सकता. ये कहानी सिर्फ़ वो ही समझ सकता है, जो एक शादी शुदा मर्द है और अपनी वाइफ से थोड़ा सा परेशान है.

मैं ये आपको इस लिए बता रहा हूँ, क्योकि मेरे साथ ये सब कुछ हो चुका है. और मैं अपनी वाइफ के बारे मे बहुत बुरा और ग़लत सोचता था. पर आज की डेट मे मेरे सारे वेहम दूर हो गये है. ये सब मेरे साथ कब और कैसे हुआ, चलिए मैं आपको बताता हूँ.

मेरी शादी को 10 साल हो गये थे, और मेरी बीवी का नाम अंजलि है. वैसे तो वो बहुत ही खूबसूरत है. अब जहाँ हम दोनो के 2 बच्चे हो गये है. अब अंजलि पूरी तरह से बदल चुकी है. क्योकि आज की डेट मे अगर उसे छू भी लू तो वो बहुत गुस्सा हो जाती थी.

मैं काफ़ी परेशान हो गया था, अगर घर मे बच्चे है. तो अंजलि को ऐसी नज़र से देखना भी मेरे लिए बहुत बड़ा जुर्म हो जाता था. अंजलि को अगर मैं अपने पास बूलता भी था, तो पहले वो इधर उधर देख कर ही मेरे पास आती थी.

More Sexy Stories  विलेज मे चाची की मस्त चुदाई

यहाँ तक की रात को जब मेरा मन सेक्स करने का होता था. तब मैं बच्चो के सोने का वेट करता था. ताकि उनके सोने के बाद मैं आराम से अंजलि के साथ मज़े कर सकु. पर जब भी मैं रात को 1 या 2 बजे अंजलि को अपने पास बुलाता था, तो वो मुझे डाँट कर वापिस भेज देती थी.

अब मुझे अंजलि का बिहेवियर ज़रा भी समझ न्ही आ रहा था. कभी कभी अगर हम दोनो सेक्स भी करते थे, तो मुझे वो वाला मज़ा न्ही आता था. मुझे लगता था, मानो मैं ज़बरदस्ती किसी को चोद रहा हूँ. क्योकि अंजलि ज़रा भी सेक्स मे मेरा साथ न्ही देती थी.

पर तभी मेरी लाइफ मे काजल आई. धीरे धीरे हम दोनो एक दूसरे से प्यार करने लग गये. फिर हम दोनो सेक्स भी करने लग गये, सेक्स करने से हम दोनो मे वो प्यार हुआ. जो शायद आज तक वो प्यार मुझे अपनी वाइफ से न्ही हुआ.

वैसे तो काजल भी शादी शुदा औरत थी. पर हम दोनो का प्यार एक जवान लड़के लड़की की तरह हो चुका था. मुझे काजल से वो मिला जो शायद मुझे अपनी वाइफ से कभी भी न्ही मिला.

काजल हमेशा चुदाई के लिए तयार रहती थी. जब भी हम दोनो रूम मे मिलते थे. तो काजल खुद ही मेरे कपड़े निकाल कर, और खुद अपने आप नंगी हो कर मुझे बहुत प्यार करती थी. वो मेरा लंड खूब अच्छे से चुसती थी, जो कभी अंजलि ने हाथ मे ठीक से पकड़ा तक न्ही था.

मैने काजल के साथ बहुत मज़े लिए, और ऐसे ऐसे मज़े लिए की मैं आपको बता भी न्ही सकता. जहाँ एक साइड अंजलि कभी मेरे सामने पूरी तरह खुलती तक न्ही थी. वाहा दूसरी साइड काजल मेरे सामने पूरी खुली बुक की तरह थी.

More Sexy Stories  College Girl Ki Chudai - Hindi Sex kahaniya

जिस बुक का एक एक पेज सेक्स से लिखा से हुआ था. काजल के साथ मैने सेक्स का वो मज़ा लिया, जो शायद ही कभी मैने अंजलि के साथ लिया था. एक दिन हम सेक्स के बाद कुछ बातें करने लग गये. उसकी बातो ने मेरी आँखो से वेहम की पट्टी हटा दी.

मैं – मेरी जान तुम सच मे बहुत ही मस्त हो.

काजल – हा मेरे जानू, आख़िर ये ही फ़र्क होता है. एक घर वाली और बाहर वाली मे.

मैं – क्या मतलब ?

काजल – मतलब ये की घर वाली सिर्फ़ अपना एक फ़र्ज़ निभाती है. और बाहर वाली आप को खुल कर वो सुख देती है. जिसके लिए आप अपनी घर वाली को घर पर छोड़ कर आए हो.

मैं – इसका मतलब की तुम अपने पति को ये सुख न्ही देती ?

काजल – न्ही मैने ऐसा कब काहा, मैं उन्हे भी ऐसी ही सुख देती हूँ. पर बहुत ही कम क्योकि अगर मैं उनके सामने इस रूप मे आ गई. तो वो साला चूतिया मुझे रंडी समझ लेगा. इसलिए मैं उसके साथ सिर्फ़ उसकी पत्नी होने का फ़र्ज़ निभा रही हूँ.

ये सुनते ही मैने काजल के होंठो को चूम लिया और मैं बोला – मेरी जान तो प्यार काहा है तुम्हारे लिए ?

काजल – मेरे प्यारे जानू, ये ही प्यार है. जो तुमने मेरी बातें सुन कर मेरे होंठो को चूमा. एक पति कभी भी अपनी वाइफ को इस तरह से न्ही किस करेगा. इसका एक और मतलब निकलता है.

मैं – वो कौन सा मतलब है ?

काजल – वो ये है की, प्यार हमेशा खुल कर करते है. पति पत्नी का रिश्ता बँधा सा होता है. इसलिए वाहा हम कभी भी प्यार खुल कर न्ही सकते. पर प्यार हमेशा आज़ादी से करना चाहिए.

Pages: 1 2