फ्रेंड की मॉं को रंडी बनाया

हे गाइस, मे वापिस आया हू एक न्यू स्टोरी के साथ. न्यू रीडर्स के लिए बता डू मेरा नाम विशाल है ओर मे नवी मुंबई मेी रहता हू. कोई अनसॅटिस्फाइड हाउसवाइफ, आंटी , भाभी या लड़की सेक्स करना चाहती हो तो , अब आता हू स्टोरी पे..

मेरा एक फरन्ड है अभिषेक. मे अक्सर उसके घर जाया करता था ओर परीक्षा के टाइम तो ज़्यादा तार उसके घर ही रहता था. पर उसकी मॉं की ज़्यादा देख नही पाता था क्यों की वो अंदर ही रहती थी. एक दिन जब मे गया तो उसकी मॉं ने दरवाजा खोला ओर ह्स के बोली आजओ बेटा ओर फिर जाने लगी. देखा तो उन्होने बॅकलेस सारी पहनी थी. मेरा तुरंत खड़ा होगया. बॅकलेस सारी देखते ही मेरा खड़ा होजता है.

मैने सोचा काशह इसको चोदने का मौका मिल जाए. उनकी गान्द भी मस्त थी ओर कमर भी स्लिम. मैने सोचा उनकी बॅक को टच करके मज़े लू फिर अंदर स फ्रेंड आगया ओर हम ग़मे खेलने लागे. ओर उसकी मॉं भी हमारा साथ आके बैठ गई ओर वो सामने टीवी देख रही थी.

ओर उनका पूरा बॅक मेरे सामने था. अगर घर मे अभिसेख ना होता तो अभी उसकी गॅंड मार देता . मेरा लॅंड पॅंट फाड़ के बाहर आने को तड़प रहा था. फुल बॅकलेस सारी थी कुछ छुपाने को बचा ही नही था. पूरा बॅक दिख रहा था कमर था बस दिखना बाकी था तो बस उनकी गॅंड.

मे बातरूम मे गया ओर मूठ मार की उनके नाम की. फिर मे थोड़ा टाइम पास कर के चला गया. मे रात भर उनको ही याद कर रा था. फिर मे रोज जाने लगा उनके घर उनको चोदने का सोच के.अगले दिन गया तो मैने सोचा आज बॅकलेस नही होगा पर जाके देखा था आज भी वैसा ही था. मैने सोचा कब इसको अपनी रंडी बनाऊँगा. मज़ा ही आअजएगा. फिर मे उनसे भी बात करने लगा. ओर वो भी हस के बात करने लगी.

More Sexy Stories  हॉट दीदी के साथ प्यार की शुरूरत

फिर एक दिन मे गया तो अभिषेक नही था घर फिर भी उसने मुझे अंदर बुला लिया ओर बैठ ने को बोली. मे फिर उनसे बात करने लगा ओर वो मेरे बाजू मे ही बैठी थी मे तो सोच रहा था की उनके बॅक को टच कर के चुम्म लू पर इतनी जल्दी नही कर सक ता था. बॅट मायने सोच लिया था इनको चोदुगा ज़रूर.

ओर फिर हम ऐसे ही बात कर रहे थे ओर मज़ाक मे मैने अपना हाथ उनकी पैर पर रख दिया . उन्होने भी कुछ नही बोला मे सोचा अब थोड़ा आगे बढ़ना चाईए. उनके हज़्बेंड बिज़्नेस के काम से ज़्यादातर बाहर ही रहते है.

मैने सोचा ये तो ऐसे ही सेक्स के लिए तड़प रही होगी क्योंकि उनके हज़्बेंड 2 महीने से बाहर ही थे. पर मैने ज़्यादा जल्दी नही किया. फिर मैने बोला चलो आंटी मे चलता हू तो वो भी मेरे साथ बाहर तक आई ओर वो मेरे आगे थी ओर उनका बॅकलेस सारी क्या बताऊँ मेरे से रहा नही जा रहा था मेरा मान तो अभी चोदने का कर रहा था फिर डोर के पास आते ही मैने जान बूझकर उनके बॅक पर दोनो हाथ रख दिए आहह कितना सॉफ्ट होता चिकना माल था.

ओर मैने कहा फिर सॉरी आंटी ग़लती से हो गया वो बोली कोई बात नही. फिर मे अपने घर आगया. अब मे सोचता था जब अभिसेख घर पर ना हो तब ही जाउ. ओर फिर मई एक दिन वापस गया तो अभिसेख घर पर नही था ओर फिर आंटी ने बोला अंदर आ ना.

More Sexy Stories  पहला सेक्स अनुभव गर्लफ्रेंड के साथ

आज भी सेम बॅकलेस ओर आज उनका पल्लू भी ढीला था बार बार गिर रहा था. उन्होने पिन नही लगाया था इसीलिए बार बार सरक जाता था. ओर आज भी वो मेरे बाजू मे बैठी थी. ओर फिर हम टीवी देखते देखते बात करने लगे.

फिर टीवी पर जिस्म 2 आ रही थी मैने वही चॅनेल लगा कर रिमोट बाजू मे रख दिया. ओर मैने उनको बोला आंटी पानी ले आवना ताकि अकचे से बॅक के दर्शन हो जाए ओर आंटी गई लाने फिर जब वो लेके आई पानी ओर मुझे देने झुकी तो उनका पल्लू गिर गया अच्छे उनकी बूब्स की गली सॉफ सॉफ दिखाई दे रही थी. उन्होने दोनो हाथ से प्लेट पकड़े रखा था.

इसीलिए वो पल्लू उठा नही सकती थी मैने इस बात का फायदा उठाया मे तो उनके बूब्स देखता रह गया मन कर रहा था चूस लू. फिर मैने खुद उनका पल्लू उठाया ओर रखा पर साइड मे रखा ताकि बूब्स थोड़े दिखते रहे ओर मे पानी पीक ग्लास दिया ओर आंटी अंदर रखने गयी.

मैने स्पचा वो वापस ए पल्लू आचे से ठीक करके आएँगी. पर जब वो आई तो मैने देखा की जैंसे मैने रखता था वैसे ही है ओर मेरा ध्यान उनके बॉल की तरफ था ओर आंटी ने मुझे देख लिया था

पर मे क्या करता एको इतना गोरा बदन ओर चूकने बॉल्स ओर मेरा खड़ा होगआया था ओर मई अपना लंड अपने हाथ से छुपा रा था पर आंटी ने देख लिया था मेरे लंड को. ओर उन्हने मुझे स्माइल दी ओर मेरे बाज़ू मे आकर बैठ गई.

Pages: 1 2