दोस्त की शादी, मेरी चाँदी

हेलो फ्रेंड्स, ई आम अँज़न पोवेट. मैं 3 साल बाद दुबारा एक कहानी लेकर आपके बीच आया हू. ये कहानी मेरे दोस्त के गॅव की एक भाभी की है. जिस से मेरा दोस्त प्यार करता था. मेरी उमर 23 साल की है ओर मैं हरयाणा मई रोहतक मे रहता हू.

मैने पिछले साल ही देल्ही यूनिवर्सिटी से ग्रॅजुयेशन कंप्लीट की है. जब मे कॉलेज मे था तो जस्सी नाम का लड़का मेरा दोस्त बन गया. हम साथ मे पी जी मे रहते थे. जस्सी अमृतसर मे एक गाव से है.

हम दोनो की अची दोस्ती हो गयी थी. वो उमर मे मुझसे बड़ा था पर हम सभी बाते शेयर कर लेते थे. वो वैसे कभी किसी से कुछ शेयर नही करता था. पर उसकी मेरे साथ अछी बॉनडिंग हो गयी थी.

तो एक दिन उसने बताया की गाव मई उसके पड़ोस मे एक भाभी है. वो उस से प्यार करता है. भाभी भी उस से प्यार करती है. भाभी का एक लड़का भी है 5 साल का. जो की जस्सी का ही है. भाभी का नाम साहिबा है.

साहिबा की उमर 32 के करीब है ओर जस्सी 26 का. कहानी मई असली ट्विस्ट रब आया जब जस्सी के घर वालो को इस बारे मे थोड़ा अहसास हो गया. ओर जस्सी की इस साल जन्वरी मे शादी फिक्स करदी. अब जस्सी बेचारा कुछ कह नही पाया. जस्सी ने मुझे कॉल करके बताया ओर बोला भाई मे मॅर जाऊंगा कुछ कर यार.

मैने बोला भाई टेन्षन मत्त ले कुछ करते है. घर वालो ने उसकी शादी जल्दी फिक्स कर दी थी ओर अगले महीने ही शादी की डेट रख दी. हुमारे हॉलिडे चल रहे थे तो जस्सी ने मुझे अपने गाव बुला लिया.

More Sexy Stories  भाभी और उसकी छोटी बेहन की चुदाई

उसके घर शादी की तयारी चल रही थी. मे उसकी फॅमिली से मिला ओर साहिबा के बारे मे जस्सी से पूछा. जस्सी ने बोला रात को मिलवाता हू. शाम को खाना खाकर मे ओर जस्सी छत पर सोने चले गये. ओर बाकी घर वेल भी सो गये. गाओ मे लोग ज्लडी सो जाते है.

11 भे तक पूरा गाव सुन सान सा लग रहा था. जस्सी मुझसे बोला चल भाई मिल वता हू तुझे. ओर हम छतो की दीवार कूदते हुए 4 घर छोड़कर साहिबा के घर की छत पर पहुच गये ओर वाहा चॉबारे से नीचे आते ही भेसो का कमरा था ओर उसी मे एक भूसे (चारा) का कमरा था. हम वाहा पहुचे ही थे की जस्सी बोला ओ शिट यार अनवॉंटेड 24 की गोली रह गयी घर पे.

आज दोपहर मे खेतो मे कर दिया था. तू यही रुक मे लेके आता हू. वो आने वाली होगी तू मिल लेना मे अभी आया. अंधेरा काफ़ी था मेरी फॅट रही थी कही किसी ने देख लिया तो. मैने साथ चलने को बोला तो उसने कहा टेन्षन ना ले साहिबा आ ही रही होगी.

मे चुप चाप वही खड़ा रहा . जस्सी वाहा से चला गया. मे जस्सी को जाते हुए देख ही रहा था की पीछे से किसी ने मुझे कस के पकड़ लिया. पहले तो मेरी गॅंड फॅट गयी. मगर फिर जब मोटे मोटे मुममे का कमर पर अहसास हुआ तो मे समझ गया की साहिबा है. वो मुझे कस के पकड़े हुए थी ओर ज़ोर से मेरी चेस्ट पर हाथ रग़ाद रही थी.

एक तो सर्दी का मोसम ओर उपर से साहिबा इतनी हॉट. लंड एक दम खड़ा हो गया. मे बताना चाहता था पर बताने का मान नही किया. साहिबा धीरे धीरे अपना हाथ चेस्ट से नीचे लेके आती रही. ओर कान मे फूस फूसाने लगी.

More Sexy Stories  खेत मे मज़ा नानी की सहेली के साथ

अभी चुड़वके आई हू पर जस्सी जब तक तेरे साथ ना करू जिस्म की प्यास ही नही बुझती . ओर ये कहते कहते उसका हाथ मेरे लोवर के अंदर डाल दिया ओर पीछे से मेरा लंड पकड़ लिया. मेरा लंड पकड़ते ही वो एक दम चोक कर मुझ से हट गयी.

आक्चुयल मे मेरा लंड 9 इंच का है जो की जस्सी से बहुत बड़ा है. साहिबा को लंड से पता लग गया की मे जस्सी नही हू.साहिबा गुस्से मे बोली कों है तू. तभी जस्सी वाहा आ गया. जस्सी ने बताया साहिबा ये अँज़न.

मैने बताया था ना तुझे मेरा दोस्त. मैने पहली बार पलट के देखा. साहिबा नीचे सर झुकाए हुए थी. उसका जिस्म कयामत था. फाड़ जैसे मोटे मोटे बूब्स. डीप नेक सूट मै बूब्स के बीच की खाई दिख रही थी. लाइट थोड़ी कम थी मगर मेरी आँखे एक दम खुली की खुली रह गयी.

उसने पटियाला सूट सलवार पहना हुआ था. उस सलवार मे उसकी गॅंड एक दम बाहर निकली हुई थी. पेट बिल्कुल थोड़ा सा जो उसकी खूबसूरती को ओर बढ़ा रहा था. एक दम दिखने मे चुदस औरत थी. जस्सी ने एक दूसरे के बारे मे बताया. साहिबा ने पहली बार नज़र उपर की. उसके उपर वाले होठ के उपर एक तिल था.

होतो पे लिपस्टिक फैली हुई थी. साहिबा ने प्यास ओर हवस की एक टिकी नज़र से मेरी आँखो मे देखा. मैने आँखे झुका ली.थोड़ी दर्र मे हम वाहा से चले आए.

Pages: 1 2 3