दोस्त की बीवी की जमकर चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रवि है, मेरी उम्र 38 साल है, मेरा रंग गोरा है। में दिखने में हैंडसम हूँ और मेरा एक दोस्त है। फिर एक दिन शाम को हमारा पीने का प्रोग्राम बना, लेकिन काफ़ी बारिश हो रही थी। तो तब उसने बोला कि आज मेरे घर पर ही पी लेते है। तब में बोला कि ठीक है चल, मगर तेरी बीवी तो गुस्सा नहीं करेंगी ना। तब वो बोला कि नहीं करेगी। फिर हम उसके घर पर चले गये। अभी हमने तीन चार पैग ही लगाए थे कि मेरी नजर सामने गई तो तब मैंने देखा कि उसकी बीवी सामने मेरी तरफ पीठ करके खड़ी थी। फिर मेरी नजर सीधी उसके बड़े-बड़े बूब्स पर गई, तो में उसको देखकर पागल हो गया और अब मेरा लंड एक ही झटके में खड़ा हो गया था। फिर मैंने बड़ी मुश्किल से अपने आप पर कंट्रोल किया। फिर मैंने ध्यान से उसका फिगर देखा, उसका साईज 32-30-36 था।

अब उस दिन मैंने सोच लिया था कि में इसको चोदकर ही रहूँगा। फिर मेरा उसके घर रोज आना जाना शुरू हो गया। अब धीरे-धीरे वो भी मेरे साथ घुलमिल गई थी। फिर एक दिन मैंने ध्यान से उसकी आँखों में देखा और अब में समझ गया था कि वो भी कुछ चाहती है, लेकिन मेरी उससे बोलने की हिम्मत नहीं हुई थी। फिर एक दिन मैंने उसके घर पर कुछ ज्यादा ही पी ली, तो तब मैंने सोच लिया कि आज में उसको पकड़कर बोल ही दूँगा कि में तेरे लिए पागल हो गया हूँ, लेकिन डर की वजह से नहीं पाया था। फिर आखिर एक दिन में उसके घर गया, दरवाजा खुला था तो में अंदर घुस गया। तब मैंने देखा कि वो कपड़े धो रही है, तब मैंने उसको पीछे से पकड़ लिया। अब उसने भी अपनी आँखें बंद कर ली थी। अब हम दोनों किसी और ही दुनियाँ में थे।

फिर उसके बाद मैंने धीरे-धीरे उसका सूट ऊपर किया। अब उस बीच मैंने उसके कान में अपनी जीभ डाल दी थी। तब उसके मुँह से आवाज निकली आह, उम्म्म्मम, आह। फिर मैंने उसकी ब्रा की हुक खोल दी। तब वो बोली कि यह ठीक नहीं है, कोई आ जाएगा, ये गलत है। तो तब में बोला कि प्यार में कुछ भी गलत नहीं होता है, उसके बूब्स पर ब्राउन कलर के निप्पल थे। अब में उसके निपल पर हल्की- हल्की जीभ फैरने लगा था। अब उससे वो मस्त होने लगी थी और मेरे सिर को पकड़कर अपने बूब्स के और पास करने लगी थी। अब उसके मुँह से आवाज निकल रही धी उम्म्म्मम, आहह, दोनों को चूसो, तुम तो एक पर ही लगे हो। अब यह सुनते ही में पागल हो गया था। फिर मैंने उससे पूछा कि क्या तुम इसी दिन का इंतजार कर रही थी? तो तब उसने बोला कि हाँ, लेकिन क्या करती? डर लगता था। बस फिर मैंने उसको लेटा दिया और उसके बूब्स चूसने लगा था। फिर मैंने उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल दी। तो तब वो सिहर उठी जैसे उसको करंट लगा हो।

More Sexy Stories  देसी सेक्स स्टोरीस दीदी को सॅटिस्फाइड किया

अब में धीरे-धीरे उसके जिस्म पर कपड़ो के ऊपर से अपनी जीभ फैरता हुआ उसके पैरो के पास पहुँच गया था और उसके पैर के अगूंठे को चूसने लगा था। अब तो वो बेड पर मचलने लगी थी। फिर में उसके पैरों की उंगलियों पर धीरे-धीरे अपनी जीभ फैरता रहा और उसके मुँह से आवाज आती रही आह, आअ, ऊहूऊऊ, में पागल हो जाउंगी, यह सब तुमने कहाँ से सीखा है? अब मुझसे रहा नहीं जाता, जल्दी से ऊपर आ जाओ। अब में अभी उठा ही था कि तभी अचानक से मेरा मोबाईल बजा, मेरे ऑफिस से कॉल था कि लंच टाईम खत्म हो चुका है, तुम कहाँ हो? बॉस बुला रहे है। बस फिर क्या था? सारा मूड ऑफ हो गया था। फिर में उससे बोला कि मुझे जाना होगा। तब वो बोली कि मुझे इस हाल में छोड़कर मत जाओ, थोड़ी देर और लगेगी, लेकिन में नहीं माना और उससे बोला कि जल्दबाजी में मज़ा नहीं आएगा और अगर में नहीं गया तो मेरी नौकरी ख़तरे में पड़ सकती है, क्योंकि पहले ही बहुत प्रोब्लम चल रही है।

फिर शाम को जब में अपने दोस्त के साथ उसके घर पर गया। तो वो गुस्से में थी और मेरी तरफ देख भी नहीं रही थी। फिर रोज की तरह हम पैग लगाते रहे और बातें करते रहे, लेकिन मेरी नजर उस पर ही थी, लेकिन वो अभी भी गुस्से में थी और मेरी तरफ देख भी नहीं रही थी। तो तब इतने में मेरा दोस्त बोला कि में बाथरूम जाकर आता हूँ। बस मुझे मौका मिला और मैंने झट से उसको पकड़ लिया और उससे पूछा कि क्या हुआ? तो तब वो कुछ नहीं बोली। तो तब में बोला कि ठीक है में कल छुट्टी ले लूँगा और इसके जाने के बाद आ जाऊँगा, लेकिन वो चुप रही। फिर मेरा दोस्त आ गया। फिर में उससे बोला कि ठीक है, अब में चलता हूँ। फिर अगले दिन अपने दोस्त के जाने के बाद में उसके घर पर गया तो तब उसने दरवाजा खोला, वो अभी भी नाराज थी।

More Sexy Stories  बड़ी बेहन ने मूठ मरते हुए पकड़ा

फिर मैंने उसको हाथ लगाया, तो उसने मेरा हाथ दूर कर दिया। तो तब में बोला कि अभी तक नाराज हो। अब वो नीचे अपने पैर लटकाकर बेड पर बैठ गई थी। अब में उसके पैरो के पास बैठ गया था और फिर उसके पैर अपने हाथों में ले लिए और उस पर किस किया, वो अभी भी गुस्से में थी। तब में उससे सॉरी बोला और अगली बार ऐसा नहीं होगा और फिर उसकी सलवार थोड़ी ऊपर की और उसके पैर से लेकर उसकी जांघो चाटने लगा था। अब वो मस्त होने लगी थी। अब उसकी आँखें बंद हो गई थी। फिर में उठा और उसको बेड पर लेटा दिया और उसके होंठो से अपने होंठ जोड़ दिए और उसके होंठो का रस चूसने लगा था। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी कमीज उतार दी। अब वो केवल मेरे सामने सलवार में थी, उसने ब्रा नहीं पहनी थी और अब उसके 38 साईज के बूब्स और ब्राउन निप्पल देखते ही मेरा 8 इंच का लंड शेषनाग की तरह फूँकारे मारने लगा था। अब में उसके बूब्स को चूसने लगा था। अब उसने मुझे कसकर अपने सीने से लगा लिया था और बोली कि आज मत जाना।

Pages: 1 2