दिवाली की सफाई के वक्त स्टोर रूम में भाभी की चुदाई

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम रवि शंकर है और मैं कानपूर का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 19 साल है और मेरे घर में मेरे भैया भाभी और मम्मी पापा रहते है। आज मैं आप सभी को अपने भाभी के साथ की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ। मैंने कभी भी भाभी के बारे में गलत नही सोचा था लेकिन जब भाभी खुद ही मुझसे चुदना चाहती थी तू इसमें मैं क्या कर सकता था। उनके बहुत कहने पर मैंने उनकी चुदाई की। दोस्तों अपनी कहनी सुनाने से पहले मैं अपने बारे में बता दूँ। मैं का नियमित पाठक हूँ और मुझे सेक्स कहानियां पढना बहुत पसंद है। मैंने काफी जवान और स्मार्ट हूँ। और मुझे लडकियों से बात करने में बहुत मज़ा आता है। लेकिन कुछ दिन लड़कियों से बात करने के बाद पता नही कैसे वो मुझसे पट जाती है और वो मुझसे चुदना भी चाहती है। मैं इस मामले में बहुत लकी हूँ क्योकि मेरे दोस्तों से जल्दी कोई भी लड़की नहीं पटती लेकिन मुझसे पट जाती है। मैंने तो अपने कई दोस्तों को चूत भी दिलवा दिया था। मैंने बहुत सी लड़कियों को शादी से पहले ही चोद चूका हूँ। लेकिन मुझे लड़किओं से ज्यादा आंटी ज्यादा अच्छी लगती है मेरा मन तो उनकी चुदाई करने को करता है लेकिन कोई आंटी मिलती ही नहीं जिसकी मैं चुदाई कर सकूँ।

दोस्तों एक बार तो मैंने अपने घर के बगल वाली आंटी को लाइन देने लगा था वो देखने में बहुत ही हॉट थी और उनके मम्मो को देख कर मैं अपने आप को रोक नही पता था। मेरी इन हरकतों से तंग आ कर उन्होंने मुझे एक दिन खूब समझाया। और फिर उसके बाद मैंने उनकी तरफ देखा भी नही। मैंने कब्बी भी नहीं सोचा था की मेरी भाभी भी बहुत चुदासी रहती है वरना मैं उनकी चुदाई ही कर लेता। मेरी भाभी जब आई थी तो मैं उनको देखने के बाद मैंने सोच लिया था जब भी शादी करूँगा तो भाभी की तरह ही किसी लड़की से। क्योकि वो बहुत ही हॉट थी और उनको देखने के बाद कोई भी उनकी चुदाई करना चाहेगा। लेकिन वो मेरी भाभी थी इसलिए मैंने अपने आप को उस वक़्त र्रोक लिया था लेकिन जब उन्होंने ही मुझे अपनी चूत की दावत दे दी तो मैं मना करते हुए भी अपने आप को रोक नही पाया और उनकी जबरदस्त तरीके से चुदाई की।
दो दिन पहले की बात है, दीवाली को दो दिन बचे थे। भाभी ने मुझसे सुबह सुबह कहा – आज तुमको घर साफ़ करने में मेरी मदत करनी है तुम्हारे भैया तो घर रहते नही है वरना उनसे ही साफ़ करवाती। मैंने भाभी से कहा – मैं नही साफ़ करूँगा घर। तो भाभी ने पापा से कह कर मुझे डाट दिलवाई और घर साफ़ करने को कहा। मैं न चाहते हुए भी घर की साफ़ सफाई करने वाने लगा। जब मैं घर की साफ़ सफाई कर रहा था तो मैंने केवल बनयान पहनी थी जिसकी वजह से मेरी बॉडी दिख रही थी और भाभी मेरे डोले और मेरे बॉडी को देख कर मुझसे मजाक करने लगी और मुझसे बातें करते हुए घर की सफाई करने लगी। मैं भाभी से मजाक करते हुए घर साफ़ कर रहा था और भाभी भी मेरी मदत कर रही थी। घर की सफाई करते समय एक चूहा भाभी के पैरो पर चढ़ गया और भाभी चीखते हुए मुझसे लिपट गई। उनकी चूची मेरे सीने में दबी हुई थी और वो मुझसे जोर से लिपटी हुई थी जिसकी वजह से मेरा लंड खड़ा होने लगा था। लेकिन मैंने भाभी को अपन आप से दूर किया और उनसे कहा – बस एक चूहा था आप कितना डरती हो। कुछ देर बाद मैं उनका मज़ा लेते हुए फिर से काम करने लगा। लेकिन उनके गले लगने से मेरा मन मचलने लगा था लेकिन मैं आपने आप को रोके हुए था।

More Sexy Stories  ट्रिपल तलाक का खौफ दिखाकर मेरे शौहर ने मुझे दोस्तों से चुदवा दिया

उस दिन भाभी कुछ ज्यादा ही अच्छी लग रही थी और मैं उनको देख कर उनकी चुदाई की बारे में सोचने लगा था। कुछ देर काम करने के बाद मैंने देखा वो मुझे बात बात पर देख रही थी और मुझे देख कर हल्का हल्का सा मुस्का भी रही थी। मुझे पता था भाभी को चूहे से डर लगता है मैंने झूठ में भाभी से कहा – तुम्हारे पैरो के बगल में चूहा है। भाभी फिर से चीखती हुई मुझसे लिपट गई और मुझको अपने अपने बाँहों में बहर लिया और मुझे कुछ देर तक नहीं छोड़ा। मुझे ऐसा लग रहा था भाभी मुझसे चुदना चाहती है लेकिन वो कह नही रही है। मेरा मन भी किसी की चुदाई करने को कर रहा था। लेकिन कोई था ही नहीं और भाभी को मैं चोदना नही चाहता था। लेकिन जब भाभी ने मुझे कुछ देर नही छोड़ा तो मेरा लंड खड़ा हो गया और भाभी ने अपने हाथ से मेरे लंड को सहलते हुए मुझसे कहा – रवि तुम्हारे भैया ने कई दिन हो गया है मुहे चोदा नही है और आज मेरा मन चुदने को कह रहा है क्या तुम मेरी चुदाई करना चाहोगे। और तुम्हारा लंड भी मुझे चोदना चाहता है और वो खड़ा भी है।

तो मैंने उनसे कहा – नहीं मैं ऐसा नही करूँगा। अगर किसी को भी ये बात पता चल गई तो पापा मुझे घर से बाहर निकाल देंगे। मैं ऐसा नही कर सकता हूँ। लेकिन भाभी की चढती जवानी की आग मुझे अपनी ओर लालकार रही थी। भाभी का बदन जोश में गर्म हो गया था। और मैं भी बहुत जोश में आ गया था। मैं उनकी चुदाई करना तो चाहता था लेकिन फिर भी मन कर रहा था। कुछ देर बाद मैं अपने आप को रोक नही पाया और मैंने भाभी को अपने बाहों में भरते हुए मुझे होठ को चुमते हुए मैंने उनसे कहा – कहा चुदी करना है बोलो। बाहर मम्मी पापा थे। इसलिए बाहर तो नहीं कर सकते थे लेकिन सारा काम ख़त्म करके मैं भाभी के साथ सारा सामान रखने के लिए स्टोररूम में गया और वहां सामान रखने क्व बाद वहां भी सफाई की और फिर सफाई करने के बाद में मैंने भाभी को अपने बाँहों में भरते हुए उनके बदन को चूमने लगा और फिर मैंने अंदर से दरवाज़ा बंद कर दिया और फिर भाभी की चुदाई के लिए तैयार हो गया।

More Sexy Stories  कजिन को प्रेग्नंट कर दिया

Pages: 1 2