दीदी की चुदाई की घर पर 3

दीदी उसे रात मुझे कॉल करके ये वीडियो भेजी बातरूम आके न आइमो पर अपनी चूत दिखाके उंगली की मैं भी अपना लंड बातरूम मे जाके दिखाया न हिलाया उसे देख के.

ऐसे ही टाइम आ गया जिसका मुझे कब से इंतेजर था. उसका पति चला गया. फिर दीदी ने उसकी मा को फोन करके कहा की मा मुना को भेज दे यहाँ, मेरा पति चला गया आज.. फिर उसकी मा ने मुझे कहा की बेटा तेरी झिमिदिदि बुला रही है उसको अकेला बहुत कष्ट हो रहा है अपने छोटे बेटे का साथ रहने मे, काम कुच्छ नहीं कर पाती तू चला जा.

मैं – दीदी को बोलो की वो मुझे फोन करके बोले ( नाटक किया थोड़ा, इच्छा ना होने की फेस की उपर से)). फिर उसकी मा ने कहा अवी तू फोन लगा तो उसे.

मैं फोन लगाया लाउडस्पिकर कर दिया, उसकी मा ने बात करी फिर दीदी ने प्लीज़ आजा रे कह के बोली ( वो तो माहिर है आक्टिंग मे).

टाइम कुच्छ 10 बजे होगे, मैने सुबह से नहा लिया था जान बुझ के कहीं रेडी होने क्लिए टाइम ना वेस्ट हो इसलिए. फिर आधे घंटे मे मैं निकल गया. बस मे बैठते ही दीदी को कॉल किया न बोला की मैं बैठ गया हूँ बस मे. दीदी आजा मेरे राजा तेरे लिए बहुत कुच्छ बना रही हूँ खाने केलिए, मैने कहा की मे तो कुच्छ और ही ख़ौँगा.

झिमिदिदि – आबे तू बस मे है, क्या बोल रहा है. वेट्सअपप पर आ

मैं और दीदी बाते करने लगे कौन क्या करेंगे और केसे केसे , मेरा लंड पानी छोड़ चुका था एग्ज़ाइट्मेंट मे, उधर दीदी भी बहुत एग्ज़ाइटेड थी मेरे से ज़्यादा( वो बहुत ही हॉर्नी है).

करीब 1.20 बजे मैने फोन करके बताया की बस स्टॉप से जा रहा हूँ मैं. मैं 15 मिनिट मैं दीदी की क्वाटर पर आ पहुँचा, गेट खुला था न घर की दरवाजा भी.

More Sexy Stories  Mere Pagalpan me Behen Ki chudai

मैंने जूते बाहर रखे न ज़मीन पर पाओं को दबाते दबाते धीरे धीरे एंटर किया,बाग को धीरे रखा न दरवाजा बंद कर दी अंदर से, दीदी को ढूंडने लगा उसका बेटा सोया था, दीदी किचन मे रसोई कर रही थी, एक नाइटी डाली थी, इस साइड को उसकी गान्ड थी जो बहुत बड़ी लग रही थी. मैं वैसे ही धीरे धीरे पाओं को दबाते दबाते गया न दीदी के पास आ पहुँच्छा आंड पूरा नीचे बैठ गया. दीदी की नाइटी को नीचे से उठाया थोड़ा..

दीदी – कब आ गया रे मुझे पता नहीं चला.

मैने बिना कुच्छ कहे नाइटी मे मूह डालके उपर कमर को पकड़ी ((नाइटी के अंदर से सबकुच्छ हो रहा है))न उसकी चूत (( पानटी पहनी थी वो)) को दाँत से काटने लगा पानटी के उपर से ज़ोर से.

झिमिदिदि – क्या कर रहा है मर गई आआअहह

मैं – तुझे तो कहा था की तू पानटी नहीं पहेनेगी.

झिमिदिदि – अरे बाबा उसे उतार दे ना, अवी रुक थोड़ा मेरा खाने का डिश बन जाएगा थोड़े ही देर मे फिर हमलोग ख़ाके सब कुच्छ करेंगे.

मैं–मुझे ओर कुच्छ खाना नहीं इसके सिवाह कहके मैने पानटी निकाल दिया. दीदी पैर उपर नीचे करी ताकि पानटी निकल जाए, फिर दीदी ने अपने पैरों को थोड़ा फैलाया. फाड़ के खड़ी हुई

झिमिदिदि – रुक जा ना और थोड़ा, सब्र का फल मीठा है कहके हसी.

मैं – एक भी सेकेंड मिस नहीं करूँगा तेरे पति के आने तक.

झिमिदिदि – साले इतनी जल्दी है. कहके उसने मेरे हेड को दबाने लगी न गान्ड हिला हिला के साइड टू साइड, रौंद रौंद करके उसकी चूत को खिला रही थी. मे उसकी नाइटी के अंदर था, तभी दीदी ने मेरे मूह पर बैठने लगी गान्ड नीचे नीचे करके, चूत को चटवा रही थी अच्छे से. मे जिब से चाट रहा था चारो और.

More Sexy Stories  भांजी की चुदाई बचपन सुरभि का

झिमिदिदि – आहियिइ उउउइईईई अहह म्म्म्ममम आअहह सिसकारियाँ करने लगी. मे तो ये सुन के पागल हो रहा था

झिमिदिदि – साले रूम के दरवाजा अंदर से लॉक है क्या.

मैं – दीदी की चूत की दानो को दाँत से काटते हुए हन कहा.

झिमिदिदि उठी मेरे हेड को पकड़ के वैसे ही न उपर देखने लगी खाना कहीं लगा तो नहीं, दीदी की नाइटी पूरा पतली सी थी उपर देखा अंदर से तो दोनो बूब्स झूले हुए हैं, क्या नज़ारा था दोस्तो पूछो मत. दीदी की हाइट मेरे से थोड़ा ही कम है न उसकी नाइटी बहुत ढीली थी मैने अंदर से ही घुटनो पर बैठा न हाथ बढ़ा के दो फलों को पकड़ा, ऐसा लग रहा था की पेड़ों पर दो फल.

फिर मैं दबाया न उसकी निपल को रगड़ा.. मेरा मूह ठीक उसके चूत पर था पर मे बिज़ी था उपर . दीदी ने अपनी चूत को आगे करके मेरे मूह से चिपका दी न लेफ्ट हाथ से मेरा हेड दबाई, वो राइट हॅंड से खाना बना रही थी.

दीदी – और दो मिनिट सिर्फ़. खाना हो जाएगा. मैं ज़ोर ज़ोर से चाटा, उपर बूब्स दबा रहा था दोनो हाथ से, चूत की बालों से मे खेल रहा हूँ बहुत अच्छा लग रहा था मे उसे अपने फेस पर रगड़ रहा था, नाक को साइड टू साइड घुमाके खेला थोड़ा.

झिमिदिदि – उठ बी, खाना ख़त्म, तेरा हो गया अब मेरी बारी.

मैं – क्या हो गया???????..

झिमिदिदि ने नाइटी को नीचे से उपर कर के उतार दी पूरी. अब वो पूरी नंगी थी. दीदी को अच्छे से देखा तक नहीं मैने आके तो डाइरेक्ट चूत की दर्शन. फिर दीदी ने मेरा बाल पकड़ के उठाया उपर,मे खड़ा हो गया.

Pages: 1 2 3