चुदासी चाची के बहुत मज़े लिए

मेरे परिवार मैं कुल ९ लोग थे. उनमे से एक मेरी चाची थी. उसके उम्र कुछ ३२ साल होगी, उसके एक ३ साल के बेटी भी थी जिसका नाम गुडिया था. मेरे पापा और चाचा कपरे के व्यापार करते थें. इसलिए वोह लोग काफी बाहर भी जाते थे व्यापार के लिए.

अब मैं अपनी चाची के बारे में बताने जा रहा हूँ. वो एक मामूली हाउस्वाइफ की तरह नहीं थी, वो काफी पढ़ी लिखी थी और काफी स्मार्ट भी थी. वह देखने में काफी खुबसूरत थी. उनकी चूची काफी अछी साइज़ की थी और उनका गांड बहुत मस्त था. उनका गांड बिलकुल गोल था. बेटी होने के बाद भी वोह काफी सेक्सी लगती थी. लेकीन इसके पहले मैंने उन्हें कभी ऐसे देखा नहीं था. वह मेरे एक दोस्त की तरह थी.

यह तब की कहानी हैं जब डेल्ही में काफी गर्मी पर रही थी. क्योंकी मेरा एक्साम निकट था इसलिए मुझे तेर्रस का रूम मिल गया था ता की मैं मन लगा के पढ़ सकू. परिवार में एक शादी का प्रोग्राम था. इसलिए घर के सब लोग जा रहे थे. मैं नहीं गया क्योंकि मेरे एक्साम सर पे थे. और मेरा ख्याल रखने के लिए मेरी चाची भी नहीं गयी. और गुडिया की तबियत भी कुछ अच्छी नहीं थी. मैं साम को घर वालो को बस स्टेशन छोड के घर आ गया. गुडिया की तबियत ठीक नही थी तो चाची ने कहा डॉक्टर के पास चलते हैं. मेरे पास मोटर साइकिल थी तो बोला आप तयार हो जाओ फिर चलते हैं. वोह अपने कमरे में चली गयी.थोरी देर बाद वोह तयार होके बाहर आ गयी. उन्होंने सलवार सुइट पहना था. और अपनी चूची पे दुप्पटा डाल रखा था. उस ड्रेस में वो काफी अछी लग रही थी.

साम के ७ बजे होंगे और हम मोटर साइकिल पे डॉक्टरसे मिलने के लिए चल पड़े . कुछ ३० मिनट की दुरी पे डॉक्टर था. हम वहां ७:३० तक पहुँच गए. काफी लाइन लगी थे डॉक्टर से मिलने के लिए. थोडा इन्तेज्ज़ार करने के बाद हम डॉक्टर से मिले. उसने कहा की गुडिया को बुखार हैं, थोडा खाने पे ख्याल रखना और बोला हो सके तो कुछ दिनों तक स्तन का दूध ही पिलाना . फिर हम दवा लेके वहां से निकले . रात के ९:३० बजे होंगे औत थोरी थोरी बारिस होने लगे थी.मैं बाइक जोर से चला रहा था ताकि हम भींग न जायं. तभी अचानक से एक कार ने मेरा रास्ता काट दिया और मेरा बैलेंस गड़बड़ा गया. मैं बाइक लेके गिर पड़ा और चाची मेरे ऊपर आ गिरी. मैं मुह के बल गिरा और वो मेरे ऊपर आ गिरी और पहली बार मैंने उनकी चूची महसूस की उनकी चूची काफी नरम थी बात उस वक़्त उस सब का टाइम नहीं था. मैं उठा और उनको भी उठाया. मैंने उनसे पुछा की चोट तो नहीं लगी उन्होंने कहा थोरी सी लगी हैं टांगो में . गुडिया ठीक थी. मैंने उनसे कहा अब की बार दोनों तरफ टांग कर के बैठो . मैंने गुडिया को सामने ले लिया और वोह मेरे पीछे आ गयी. उनको सायद काफी चोट लगी थी, उसने दोनों हाथ मेरे कंधे पे रखे और कहा चलो घर. क्योंकी गुडिया सामने थी तो बार बार उनके चूची मेरी पीठ को छु रही थी. मुझे मज़ा आने लगा. मैंने एक दो बार जान भुज के भी ब्रेक मारा. हर बार उनकी दो नरम नरम चूची मेरी पीठ को छु रही थी .थोरी देर में घर आ गया. मैंन बाइक की सवारी के बहुत मज़े लिए. पहले बार लग रहा था की घर थोडा और दूर होता तो अच्छा होता.

More Sexy Stories  Enjoyed With Staff’s Roommate

हम लोग घर के अंदर गए. चाची सोफे पे जाके बैठ गई . उसे सायद काफी दर्द हो रहा था. मैंने पुछा कहा पे चोट लागी हैं, तो उन्होंने कहा घुटने के ऊपर. मैंने कहा मुझे दिखाओ ज़रा इस पे वोह थोरा असमंजस में पड़ गयी क्योंकी चोट उनकी जांघ पर लगी थी और सायद वो मुझे अपनी जांघ दीखाने में सरमा रही थी. मेरे बार बार बोलने पे वो मान गयी. उसने कहा की कपडे बदलने के बाद मैं देख सकता हूँ. फिर वो अपने कमरे में चली गई . थोरी देर बाद ड्रेस बदल के बाहर आयी. उसने एक रात में पहनने की क़मीज़ पहन रखी थी जो उनके गले से लेकर पाऊँ तक आ रही थी. वोह सोफा पे आके बैठी,मैंने उनको बोला अब दिखाओ तो उन्होंने कहा की ठीक हो जायेगा पर मैं बोलता ही गया. फिर वो मानगई और अपना गाउन ऊपर करने लगी.धीरे से उसने अपना गाउन घुटने तक ऊपर किया. चोट घुटने से थोरी ऊपर लगी थी. अभी मेरे सामने उनकी नंगी टांग दिख रही थी. मैंने उनका गाउन लेके थोडा ऊपर किया तो मुझे चोट दिख गया. काफी कट गया था. मैंने बोला की मैं दुकान से दवाई ले के अता हूँ. फिर मैं जा कर दवाएं ले आया. मैं जब घर में घुसा तब वो खाना बना रही थी. मैंने बोला मैं कुछ पट्टी ले आया हूँ ताकी चोट के ऊपर लगा सको. उसने बोला ठीक हैं पहले खाना खा लेते हैं फीर पट्टी बाँध देना लकिन मैंने कहा नहीं अभी करते हैं. फीर उसने बोला ठीक हैं और आके सोफा पे बैठ गई . मुझे अभी बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकी मैं एक बार फीर उनकी नंगी जांघ को देख पा रहा था .

More Sexy Stories  Padosan Bhabhi ki Chudai

मैं सोफे के निचे बैठ गया और उसको गाउन उठाने को कहा. धीरे धीरे उसने गाउन को घुटने के ऊपर किया. उनकी टाँगे बिलकुल साफ़ थी , एक भी बाल नहीं था. उनकी जांघ बहुत गोरी और मक्खन क़ि तरह नरम थी उनकी जांघ देख के मेरे सब रिश्ते नाते खिड़की के बाहर चले गए. मैं उउनकी सेक्सी जांघो को निहारने लगा. फीर उनसे बोला की चोट क्या ज्यादा हैं उन्होंने बोला नहीं ज्यादा गहरा नहीं हैं. फीर मैं उठा और थोरा गरम पानी ले आया ताकी चोट को साफ़ कर सकू . एक कटोरी में थोरा गरम पानी लाया और साफ़ करने लगा. जब जब मैं उनकी जांघो को छु रहा था तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. और इसी मज़े में गलती से गरम पानी हाथ से गिर गया और उनके गाउन पे जा गीरा.पानी काफी गरम था और उन्होंने एक झटका सा दिया. उस झटके में उसका गाउन थोडा ऊपर हो गया और क्योंकी मैं निचे बैठा था, मुझे उनकी पैन्टी दिख गई . उसने लाल रंग की पैन्टी पहने थी. मुझे यह दृश्य कुछ पलो के लिए ही देखने को मिला. लेकिन उस में मैंने उनकी चुत को देख लिया था. उनकी चुत के वहां बाल बिलकुल नहीं थे. बिलकुल साफ़ थी . वो पक्का चुत के बाल काट देती थी. इससे जादा मुझे कुछ नहीं दिखा. उसके गाउन पे पानी आ गया था तो उसने अपनी दूसरी टांग पर से भी गाउन उठा लिया. अभी वो दोनों जांग तक नंगी थी. मैं भगवान को धन्वाद दे रहा था एक्सिडेंट के लिए. उसके बाद मैंने उनकी चोट पे दवाई लगाई. उन्हें काफी दर्द हो रहा था. मैंने बोला अभी मैं इस्पे पट्टी कर देता हूँ. तो चाची ने बोला ठीक हैं. मैंने उनको टांग थोरा उठाने के लिए बोला ताकी मैं पट्टी बांध सकू. उन्होंने वैसे ही किया और फीर से मेरी आखों के सामने ज़न्नत दिख रही थी . उनका गाउन उठ गया और उनकी चुत मुझे दिखने लगी .

Pages: 1 2 3 4 5