बस की चुदाई सेक्स कहानी

Indian Hindi Sex Desi Chudai बस की चुदाई सेक्स कहानी हेलो दोस्त मैं ताशा फिरसे एक न्यू इंडियन हिन्दी सेक्स देसी चुदाई लेकर आई हू आई होप ये भी आप सब को पसंद आएगी आप लोगो के बहुत सारे मैल एंड मेसेजेस मिले पर सबको रिप्लाइ करने का टाइम नही मिलता.

जिन्होने मेरी पिछली कहानिया दर्द से प्यार तक, ट्रेन मे मिली एक अप्सरा, स्कूल गर्ल प्रियंका की कहानी पार्ट 1 &2 , पूजा की पूजा बाइ राहुल, मदमस्त रीता की चुदाई पार्ट 1,2&3 नही पड़े तो वो भी पड़े. अपने मैल और मसेज करते रहिए और अपनी अपनी सेक्स लाइफ को मुझसे शेयर करना चाहते है तो हणगौट पर मसेज कर सकते है .

ये बात कुछ दिन पहले की है मैं अपनी बस की टिकेट करने और शॉपिंग के लिए सिटी गयी थी वापस आते टाइम अंधेरा हो चुका था मैने बस ली और लास्ट सीट पे बैठ गयी और मेरे आगे की सीट पे एक लड़की बैठी थी और एक 50+ आंटी नेक्स्ट स्टॉप से कुछ 7 लोग चड़े और सही सीट भर गयी आगे की सीट के पास एक 35 ईयर का आदमी आकर खड़ा हो गया थोड़ी देर वो दूसरी तरफ देखता रहा.

फिर उसने अपना मूह घुमा लिया और उस लड़की जिसका नाम शायद बबिता(इमॅजिनरी नेम) था उसे देखने लगा पर बबिता का ध्यान खिड़की के बाहर था वो इस बात से अंजान थी की कोई उसके इतने पास खड़े होकर उसकी खूबसूरती को देख रहा है पहले तो मुझे भी समझ नही आया वो आदमी बबिता को ऐसे घूर क्यू रहा है.

पर फिर मैं समझ गयी वो उसके कुर्ते के गले से क्लीवेज के मज़े ले रहा है पर बाहर अंधेरा होने के कारण शायद उसे कुछ सही से दिखा नही और वो थोड़ी देर वैसा ही खड़ा रहा मैने इयरफोन लगा कर आँखे बंद कर ली और थोड़ी थोड़ी चोर आँखो से उसे देखती रही जिससे उसे पता ना चले और मैं सब देख भी लू. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

More Sexy Stories  नागपुर की एक सेक्सी आंटी की चुदाई

फिर उसने हाथ से बबिता के सर को टच किया एसा उसने 2-3 बार किया फिर अपने हाथ से कंधे को टच किया पर बबिता के तरफ से कोई रिएक्शन नही आया फिर उसने अपना हाथ उसके कंधे पे रख दिया और हल्के हल्के कंधा सहलाने लगा मुझे उसकी हिम्मत देख के बहुत ही अजीब लग रहा था और ये भी की उस लड़की ने एक बार भी रियेक्ट क्यू नही किया.

फिर उसने उसका कुर्ता उसके कंधे से थोड़ा नीचे कर दिया औ उसकी ब्लॅक ब्रा स्ट्रीप दिखने लगी उसने उसे खींच दिया जिसपे पहले बार वो हल्का सा हिली अब वो एक उंगली से उसके खुले कंधे पे फेर रहा था मुझे ये देख के हैरानी भी हो रही थी और अजीब भी लग रहा था.

तभी बस रुकी बबिता ने अपना कुर्ता ठीक किया और फिरसे खिड़की के बाहर देखने लगी अब बस मे थोड़ी भीड़ हो गयी थी उसने फिरसे उसके कंधे पे हाथ रख कर सहलाने लगा थोड़ी देर मे नेक्स्ट स्टॉप आया और वो आंटी उठ गयी बबिता अब अंदर विनोव के पास चली गयी वो आदमी वाहा बैठ गया .

आ मुझे सब कुछ देखना था वो आदमी क्या कर रहा है पर मुझे कुछ दिखाई नही दे रहा था तभी मुझे एक आइडिया आया 2 सीट आंगे आके 50+ अंकल खड़े थे मैने सोचा क्यू ना इनको अपनी सीट देकर मैं खड़ी हो जाउ जिससे सब दिख सके और फिर वेसा ही किया मैं आंगे की सीट के पास खड़ी हो गयी उसने मुझे देखा पर मैं आँखे बंद करके खड़ी थी उसने देखा अब मेरे वाहा खड़े होने से उसे कोई आसानी से देख नही सकता पर उसने थोड़ी देर कुछ नही किया मुझे लगा जैसे सब वेस्ट हो गया.

थोड़ी देर बाद आजू बाजू आछे से देखने के बाद उसने बबिता के घुटने पे धीरे से उंगली घुमाने लगा फिर उसने अपनी लेग बबिता की लेग से चिपका ली बबिता थोड़ा अंदर की तरफ हो गयी तो वो भी अंदर की तरफ हो गया अब दोनो एक दूसरे से चिपक गये थे उसने अपना हाथ घुटने पे रख दिया और सहलाने लगा.

More Sexy Stories  दोस्त की मौसी को चोदा

और धीरे धीरे उपर की तरफ लाने लगा बबिता बाहर देख रही थी और वो सहलाते हुए आगे पीछे भी नज़र रख रहा था उसने अपना हाथ जाँघ के नीचे की तरफ किया तो बबिता पहली बार उसके टच से हिली और फिर उसने अपना हाथ थोड़ी देर ऐसेही झांग पे रखा.

थोड़ी देर ऐसेही सहलाने के बाद उसने अपना हाथ जाँघो के बीच लेजानेकी कोशिश कर रहा था बबिता ने अपनी जाँघ बंद कर ली उसने फिर भी अपने हाथ को बीच मे डालने की कोशिश करता रहा और थोड़ी देर मे हारके उसने अपना हाथ हटा लिया बबिता ने फिरसे अपनी जाँघ खोल ली इस बार उसने देर ना करते उसकी टाँको के बीच अपना हाथ डाल दिया इस बार बबिता ने कुछ नही किया और फिर वो आराम से उसकी जाँघो से खेलने लगा कभी वो उनको दबाता कभी उनमे चिमटी काट लेता अब वो अपना हाथ शायद और उपर ले जाना चाहता था पर वो थोड़ा डर रहा था.

मुझे ये सब देख के बहुत मज़ा आ रहा था और मेरी साँसे तेज होने लगी थी थोड़ी देर मे उसने अपना रुमाल गिरा दिया और उसे उठाने नीचे झुका तो अपने सर को उसने बबिता की जाँघो पे रख दिया और एक हाथ उसने अंदर की तरफ डाल दिया और शायद उसकी चूत पे रख दिया बबिता की आँखे थोड़ी चौड़ी हो गयी थी और उसने पहली बार उसका हाथ पकड़ा और वो फिरसे उठ गया पर उसका हाथ अभी भी उसकी चुत पे था उसने धीरे धीरे हाथ को चलाना शुरू कर दिया.
अब बबिता का हाथ भी हट गया था और उसकी सांसो मे अब बदलाव को आराम से देखा जा सकता था उसकी साँसे तेज हो गयी थी पर शायद उसे मज़ा नही आ रहा था उसने बबिता का हाथ पकड़ के अपने लंड पे रख दिया बबिता ने हाथ हटा लिया.

Pages: 1 2