भाभी की चुदाई सीढ़ियों पर

सभी खड़े लंड वालो को नमस्कार और चूत वालीयो को खड़े लंड का सलाम, मेरा नाम राज यादव हैं, मैं अलवर के पास 1 गाओं से हू लेकिन फिलहाल देल्ही मे रहता हू, मेरी हाइट 6 फीट हैं एंड लंड का साइज़ एवरेज हैं, मैं 6 ईयर से डीके पर सेक्स स्टोरीस इन हिन्दी पढ़ रहा हू, मैं अब तक 9 लड़कियो एंड भाभियो को चोद चुका हू.

ये मेरी फर्स्ट स्टोरी हैं अगर कोई ग़लती हो तो माफ़ करना, आप मुझे अपनी राय भेज सकते हैं, अब मैं कहानी पर आता हू.

ये चुदाई की कहानी मेरी और मेरे ताउ के लड़के की वाइफ(भाभी) के बारे मे हैं, उनका नाम राधा (फेक) हैं, स्टोरी से पहले थोड़ा भाभी के बारे मे बता दू, हाइट 5 फीट 4 इंच हैं रंग गोरा साइज़ 34-28-36 हैं, जब वो शादी करके घर आई मैं तभीसे उसे चोदना चाहता था, जब भी वो चलती थी तो हिलती गॅंड को देखकर लंड खड़ा हो जाता था, कई बार सपनो मे उसकी चुदाई कर चुका था.

उसकी और भाई की एज मे 8 ईयर का डिफरेन्स हैं, भाभी- देवर के रिश्ते के बारे मे तो आप जानते ही हैं.अक्सर हसी मजाक होता रहता था, वो अक्सर मेरी जीएफ़ के बारे मे पूछती रहती थी, उस टाइम मेरी 1 जीएफ़ थी जिसके बारे मे उसे पता था.

जीएफ़ की सेक्स स्टोरी फिर कभी बताउन्गा.2013 मे जीएफ़ से ब्रेकप हो गया और तब से भाभी को चोदने का रास्ता खुल गया, मेरे ब्रेकप की बात भाभी को पता लग गई, वो मुझे टीज़ करती रहती थी कुछ किया या ऐसे ही टाइम पास करता रहा.

1 दिन मैने शरम त्याग कर बता ही दिया की उसे काफ़ी बार चोद चुका हू तो उनका मूह खुला का खुला रह गया, उसके बाद मेरे लिए उनका नज़रिया ही बदल गया, वो अकेले मे डबल मीनिंग बात करती रहती.

More Sexy Stories  इंडियन आंटी की जबरदस्त चुदाई

सॉरी मैं ये बताना तो भूल ही गया की उस टाइम मैं शहर मे रहकर अपनी ग्रॅजुयेशन कर रहा था, 1 रात हम दोनो फोन पर बात कर रहे थे तो मैने मजाक मे पूछ लिया की शादी से पहले किसी के साथ चक्कर था क्या तब उन्होने मुझे अपने बीएफ के बारे मे बताया की वो 1 बार उसके साथ सेक्स भी कर चुकी हैं शादी से पहले, अब मैं भी उसकी बतो मे इंटेरेस्ट लेने लगा, फिर मैने पूछा की अब किसी को लाइक करती हो (भाई को छोड़कर).

थोड़ी देर चुप रहने के बाद जब मैने दोबारा पूछा तो उन्होने बताया की शादी के बाद से ही वो मुझे पसंद करती हैं, मेरी तो जैसे लॉटरी ही लग गई, तब मैने भी बता दिया की मैं भी उनको पसंद करता हू.

उसके बाद शुरू हुई हमारी चुदाई की कहानी, हम दोनो एक दूसरे से मिलने का वेट करने लगे, जब भी भाई की नाइट शिफ्ट होती मैं उनके साथ फोन सेक्स करने की कोशिश करता, लेकिन वो शर्माकर रह जाती.

लेकिन मैं उनको उकसाता रहता की मौका मिलने पर कैसे चोदुन्गा, जब भी मैं घर जाता तो हम लोग मौका देखकर लिपकिस करते रहते एंड मैं 1 हाथ से उनके बूब्स दबाता रहता और 1 हाथ से चूत को सहलाता रहता.ऐसा करने पर वो गरम हो जाती थी और अपनी आँखे बंद करके मजे लेती रहती थी, हम दोनो की तड़प बढ़ती जा रही थी लेकिन कोई मौका नही मिल रहा था, बट कहते हैं ना भगवान के घर देर हैं अंधेर नही.

1 दिन की बात हैं मैं हॉलीडीस मे घर गया हुआ था भाई अपनी कंपनी मे थे उनके बच्चे स्कूल मे थे( उनके 2 बच्चे हैं) उनके घर मे कोई नही था मैं उनसे मिलने गया तो पता चला की वो घर मे अकेली हैं क्योको ताइजी बाहर गई हुई थी जोकि 30 मिनट बाद आने वाली थी.

More Sexy Stories  सगे मामा की बेटी को चोदा

ये सुनकर मैने उनको अपनी बहो मे ले लिया और किस करने लगा कभी माथे पर कभी इयरलॉबी को कभी गालो पर तो कभी नेक पर, वो धीरे धीरे मुझे अपनी बहो मे टाइट हग करने लगी.

फिर मैने उनको लिपकिसस करना स्टार्ट किया और उनके होंठो को चूसने लगा लेकिन वो अपनी आँखे बंद करके चुपचाप खड़ी, मैं उनके पीछे खड़ा होकर धीरे धीरे उनकी चुचियो को दबाने लगा और चुत को सहलाने लगा.

मैं खड़ा लंड उनकी गॅंड मे घुसाने की कोशिश कर रहा था कपड़े के उपर से, उसने ब्लाउस पेटिकोट पहना था.मैने उनका हाथ पकड़ कर पैंट के उपर से ही लंड पर रगड़ दिया, उस टाइम हम किचन मे थे, जैसे ही मैने पेटिकोट उठाना शुरू किया तो उन्होने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली यहा नही.

हम सीढ़ियो पर चले गये, मैने फिर से उनकी चुत सहलाना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से पेटिकोट को उपर करने लगा, जैसे ही मेरा हाथ पैंटी पर पहुचा तो खींचकर नीचे कर दी जिसे उन्होने टाँगे उठाकर निकाल दिया.

मैं उनका पेटिकोट उठाकर उनकी गुलाबी चुत को 1 मिनट तक निहारता रहा मैं उसे चूसना चाहता था लेकिन टाइम कम होने की वजह से 1 बार चाटकर छोड़ दी.

मैं नीचे सीढ़ी पर खड़ा था और वो उपर वाली पर, मैं उपर होकर उनके दूध दबाने और चूसने लगा.वो सिसकारिया लेने लगी और कहने लगी जो भी करना हैं जल्दी करले, ये सब करते हुए 15 मिनट से ज़्यादा हो चुके थे.

मैने अपनी पैंट और अंडरवेर नीचे करके लंड उनके हाथ मे दे दिया और उन्हे चूसने को बोला तो उसने मना कर दिया , मैने मौके की नज़ाकत को समझते हुए फोर्स नही किया.

Pages: 1 2