भाभी के साथ चुदाई का सिलसिला

हेलो फ्रेंड्स माइ नेम ईज़ शॉनू आइ’एम जस्ट 22 ईयर ओल्ड मैं कानपुर से हू कोई भी गर्ल या भाभी मुझसे चुदवाना चाहे तो मैल कर सकती है ये सेक्सी स्टोरयस मेरे दोस्त की भाभी की है, जिनका नाम मैं आपको नही बताऊंगा ब्कोज़ ऑफ प्राइवसी.

दोस्तो अब मैं स्टोरी पर आता हू बात आज से कुछ 6 दिन पहले की है जब मैं अपने एक फ्रेंड के घर गया ब्कोज़ वो बाहर रहकर पढ़ाई करता है, वो अपने घर वापस चुट्टीओ मे आया, तो मैं जब उसके घर पहुचा तो सब से मिला लाइक अंकल आंटी, माइ फ्रेंड एंड उसकी भाभी.

जैसे ही मैने भाभी को देखा देखता ही रह गया वो बला की खूबसूरत थी, भगवान ने उन्हे फ़ुर्सत से बनाया था, मैं नज़र ही नही हटा पा रहा था.

अचानक आंटी की आवाज़ से मेरा ध्यान टूटा, फिर सब के साथ मैं डिनर किया फिर मैं वापस निकला घर के लिए जैसे ही घर आया मैं सीधा बाथरूम मे गया एंड मूठ मारे भाभी के नाम की..

फिर मैं सो गया फिर कुछ दिन यू ही भाभी के नाम की मूठ मारने का प्रोग्राम चलता रहा फिर एक दिन घर पे बैठा था तभी अंकल का कॉल आया उन्होने मुझे तुरंत ही उनके घर आने को बोला.. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

जैसे ही मैं घर पहुचा तो अंकल बोले बेटा हमे स्टेशन छोड़ दो…हमे एक शादी अटेंड करने जाना है मैने ओके बोला, जैसे ही मैं बाहर निकाला तभी आंटी बोली बेटा तुम तो जानते हो हमारे जाने के बाद भाभी बिल्कुल अकेले हो जाएगे तो अगर उन्हे कोई भी काम पडे तो तुम कर देना मैने ओके बोला.

स्टेशन के लिए आंटी की कार लेकर निकल पड़ा जल्दी से स्टेशन छोड़ आया मैं कार की कीस देने वापस आंटी के घर गया डोर बेल बजाई भाभी ने डोर ओपन किया जैसे ही गेट खुला मैं भाभी को देखता ही रह गया, उन्हे गेट पर ही कार की कीस दी..

More Sexy Stories  बड़ी बेहन ने मूठ मरते हुए पकड़ा

तभी भाभी अपनी प्यारी आवाज़ मे बोली आप अंदर आ जाइए मैने चाय बनाई है आप चाय पीके जाना, मैं ओके भाभी बोल कर उनके पीछे पीछे घर के अंदर चल पड़ा जैसे ही वो पीछे मूडी अंदर जाने के लिए तो मैं एकदम उनके गांड को ही देखता रह गया कसम से बहोत बड़ी और मस्त गांड थी भाभी की..

जब तक वो किचन मैं नही पहुचि मैं बस एंड तक उनकी गांड निहारता रहा जिससे मेरे 7 इंच का लोडा एकदम तन कर खड़ा हो गया फिर मैं सोफे पर बैठ कर भाभी का वेट करने लगा.

बस कुछ 1,2मिंट्स मे ही भाभी चाय ले कर आ गई मैने जल्दी से चाय पी क्यू की अब मुझसे कंट्रोल नही हो रहा था जैसे ही मेरी चाय ख़तम हुई मैं बोला भाभी मैं चलता हू अगर आप को कोई काम हो तो आप मुझे बुला लेना.

तभी भाभी बोली मैं कैसे बुला पाऊँगी आप को, तो मैं बोला जैसे अंकल ने बुलाया तो भाभी बोली पापा जी ने तो आप को कॉल कर के बुलाया था पर मेरे पास तो आप का नंबर ही नही है तभी मैने भाभी को मेरे नंबर दिया एंड बाइ बोलकर घर आया फिर मैं बाथरूम जाके मूठ मारी..

फिर कुछ देर आराम किया फिर दोस्तो से मिलने निकल गया, रात को घर आया डिनर किया एंड सो गया सूभ जैसे ही उठा भाभी को याद करके मूठ मारी फिर ऐसे ही दो दिन बीत गये, 3डे सुबह 7 बजे ही भाभी का कॉल आया जैसे ही कॉल उठाया तो भाभी बोली गुड मॉर्निंग मैं भी यू 2 बोला फिर भाभी बोली आप फ्री है तो घर आ जाइए थोड़ा सा काम है.

मैं भाभी को बोला थोड़े देर मे आता हू, फिर मैं लगभग 2 घंटे बाद भाभी के घर पहुचा..बेल बजाई तो भाभी ने लगभग 15 मिंट के बाद गेट खोला जैसे ही मैने भाभी को देखा बस देखता ही रह गया वो अभी अभी नहाकर आई थी मैं भाभी को देखने मे बिज़ी था तभी भाभी बोली देखते ही रहोगे या अंदर भी आओगे.

More Sexy Stories  प्रीति की चुदाई खेत मे

फिर मैं अंदर गया तो भाभी बोली शॉनू घर मे खाने का समान एंड सब्जिया ख़तम हो गये है आप प्लीज़ ला दीजिए जल्दी से, मुझे बहोत भूख लगी है, मैने जल्दी से पैसे एंड बेग लिया और निकल गया मार्केट के लिए, मैने सब समान ले लिए और भाभी के ब्रेकफास्ट के लिए मैं छोले भतूरे पैक करवा लिए, जल्दी से मैं वापस आ गया.

घर पहुचते ही मैने भाभी को बोला आप एक प्लेट एंड कटोरे ले आओ जल्दी से फिर मैने भाभी को सब समान दे दिया भाभी ने मुझे थैंक यू बोला एंड नास्ता करने लगी.

नास्ता करते हुए मैं उनके बूब्स देख रहा था तभी मेरे लंड उनके सामने ही खड़ा हो गया जैसे तैसे मैने उसको उनसे छिपाया फिर मैं वही पास मे बैठ गया तो भाभी बोली आप यही रुक जाओ दोपहर को खा कर जाना और वो घर के कामो मे बिज़ी हो गई और मैं वही सो गया.

फिर खाना बन जाने के बाद वो मुझे जगाने आई मैं जैसे ही उठा मुझे भाभी के गोरे गोरे बूब्स देखाई दिए जो शायद उनके झुकने की वजा से, मैं बूब्स मे ही खो गया जब भाभी को ये एहसास हुआ की मैं उनके बूब्स देख रहा हू..

तो उन्होने अपने आप को सभाला एंड फिर हम दोनो खाना खाने बैठ गये तभी अचानक बाहर बहोत जोरो की बारिश होने लगी, हमने जल्दी ही खाना खा लिए एंड मैं घर जाने के लिए बारिश रुकने का वेट करने लगा बारिश भी जैसे आज रुकने का नाम नही ले रही थी.

Pages: 1 2