बहन की चुदाई मूवी की बदौलत

behen ki chudai movie ke karan दोस्तो, मैं दिलभग आज से आप के दिलो को बाग बाग करने वाली कहानी ले कर आया तो चलिए अब ज़्यादा टाइम खराब ना करते हुए मैं सीधा अपनी इंडियन देसी टेल्स बेहन की चुदाई पर आता हूँ.

दोस्तो ये बात तब की है जब मैं सिर्फ़ 18 साल का था आप लोगो को पता ही है की इस उमर मे सेक्स सिर पर चढ़ कर बोलता है. मेरे घर मे मेरी बेहन रूपा और मम्मी दादी है. मेरी एक छोटीसी फॅमिली है इस लिए हम सारे खुश रहते है. मेरी बेहन की उमर उस टाइम ** साल थी वो मुझसे सिर्फ़ एक साल छोटी थी. उसे उस टाइम कपड़े डालने का कुछ नही पता था. वो मेरे सामने ऐसे खुले कपड़े पहनती थी जैसे मुझे उसके गोरे गोरे मख्खन जैसे बूब्स सॉफ सॉफ दिखते थे.

उसके मख्खान जैसे बूब्स देख कर तो मेरा लंड झट से खड़ा हो जाता और मेरा मूड खराब हो जाता. हम दोनो भाई बेहन आपस मे काफ़ी मस्ती करते थे. मैं मस्ती करते करते जान कर उसके बूब्स और चूत को छेड़ देता था. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मैं ज़्यादातर उसके बूब्स को निशाना बनाता था. मैं हर बार उसके मुलायम बूब्स दबा देता था और फिर बाथरूम मे जा कर अपनी बेहन रूपा के नाम की मूठ मारता था. एक दिन मैं रात को टी.वी देख रहा था मैने उस रात इमरान हाशमी की मूवी देख ली और मैं उस टाइम पूरा गरम हो गया. मुझसे अब रहा नही गया मैं झट से अपनी बेहन के कमरे मे गया और मैने देखा की वो टॉप और स्कर्ट पहन कर सो रही है.

मैं उसके पास गया तो उसकी स्कर्ट उसके पैरो तक उठी हुई थी उसके चिकने गोरे गोरे पट देख कर तो मेरा लंड और भी ज़्यादा खड़ा हो गया. मैने हिम्मत करके उसकी स्कर्ट और उपर उठा दी. अब मेरे सामने मेरी बेहन की पिंक कलर की पैंटी आ गई थी. मैं हिम्मत करके पैंटी पर हाथ रखा और देखा की अभी दीदी नींद मे है मैने फिर अपना हाथ उसकी पैंटी पर फेरना शुरू कर दिया और उसके पैरो पर जीब फेरना शुरू कर दिया.

More Sexy Stories  मैं कैसे एक चुड़दकड़ बन गयी

जैसे ही मैने उसे चूमा तो मेरी बेहन झट से जाग गई और बोली – ये तुम क्या कर रहे हो तुम्हे ज़रा भी शरम नही आती है मैं तुम्हारी बेहन हूँ अगर मम्मी दादी को पता चल गया ना तो तुम्हे पता चलेगा.

मैं – दीदी क्या हुआ देखो आप मेरी बेहन होने से पहले से एक लड़की हो और मैं एक लड़का हूँ तो इसमे घबराने वाली क्या बात है ये तो एक नॉर्मल है आज कल ये सब चलता है.

दीदी बहोत गुस्से मे बोली – मेरा दिमाग़ मत खराब कर तू अब दफ़ा हो जा यहा से इससे पहले मैं मम्मी दादी को बुला कर तेरी क्लास लगवा दू.

अगले दिन सुबह सब नॉर्मल था. मुझे डर था की कहीं वो मम्मी दादी को ना बता दे पर सब ठीक था. ऐसा कुछ नही हुआ जिसका मैने सोचा था. ऐसे ही कुछ दिन बीत गये एक दिन मेरा मूड मूठ मारने का हो रहा था इस लिए मैं मार्केट से एक सेक्सी मूवी की डीवीडी ले कर आया और अपने कमरे मे बैठ कर देखने लग गया. उसमे 6 मूवीस थी मैने एक मूवी देखी और बाथरूम मे मूठ मारने चला गया. मैं टी.वी बंद करना भूल गया था.

मेरे पीछे से मेरी बेहन कुछ समान ढूड़ने मेरे कमरे मे आई और फिर वो मूवी देखने लग गई. जब मैं वापिस आया तो मैं हैरान था की मेरी बेहन आराम से बेड पर बैठ कर मूवी को एंजॉय कर रही है. मैं चुप रहा और कुछ नही बोला. मैं खुश था की अब मेरी बेहन भी ऐसी मूवीस मेरे साथ बैठ कर देखेगी और फिर मेरे साथ एंजॉय करेगी.

तभी मम्मी ने लंच के लिए हमे बुला लिया मैने और बेहन ने जल्दी से लंच किया और फिर वो मेरे कमरे मे आ गई. मैने बोला – दीदी फिर कैसी लगी आज की मूवी मज़ा आया एक और मूवी दिखाओ.

More Sexy Stories  देसी सेक्स स्टोरीस दीदी को सॅटिस्फाइड किया

मेरी बात सुन कर मेरी बेहन शर्मा गई और हान मे अपना सिर हिला दिया. फिर हम दोनो टीवी के सामने उल्टे लेट गये और कमरा बंद करके मूवी देखने लग गये. सेक्सी मूवीस तो होती ही बहोत हॉट है और जैसेही मूवी मे आदमी ने अपना लंड लड़की की चूत मे डाला तभी मैं अपना एक हाथ दीदी की स्कर्ट के उपर रख दिया और उसे सहलाने लग गया.

तभी वो बोली – नही भैया तुम फिर से शुरू हो गये.

मैं बोला – क्या हुआ यार बस एक बार कपड़ो के उपर से तो करने दो.

वो मान गई और मैं उसकी स्कर्ट के उपर से ही उसकी गॅंड को मसलने लग गया. कुछ देर बाद मैने उसकी स्कर्ट उपर कर दी और अब पैंटी के उपर से चुत्तरो को दबाने लग गया. दीदी गरम होना शुरू हो गई और तभी वो होश मे आ गई और बोली – ये क्या है रहने दो बस तुम अपना हाथ दूर करो तुम्हे तो एक बार मे समझ ही नही आता.

फिर मैं भी थोड़ा गुस्से मे बोला – अब क्या हुआ पैंटी के उपर से ही कर रहा हूँ अब वो भी तो कपड़ा ही है.

मेरी बात सुन कर वो शांत हो गई और मूवी देखने लग गई मैं लगातार उसके चुत्तरो को गॅंड को मसलता रहा. अब दीदी के मूह से सिसीकरयियँ निकलनी शुरू हो गई,मैने अपना हाथ थोड़ासा नीचे किया और उपर से चूत को सहलाने लग गया. इससे दीदी और भी पागल हो गई. फिर मैने देर ना करते हुए उनकी पैंटी उतार दी.
और फिर दीदी को झट से सीधा कर दिया और अपना मूह उसकी चूत के उपर रख कर ज़ोर ज़ोर से उनकी चूत को चाटने लग गया. मेरी जीब दीदी की चूत के अंदर तक जा रही थी दीदी भी अब पूरी मस्त हो चुकी थी.

Pages: 1 2