मोसेरी बहेन की जवानी का मज़ा

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम विराल है., मैं गुजरात मे राजकोट की घटना बताने जा रहा हू., जो मेरे साथ घटी थी. इंडियन सेक्स स्टोरी

ये स्टोरी मेरी मौसी की बेटी चारमी की है, अगर कोई भी उसको एक बार देख ले., तो उसका मन उसको चोदने को आवसी करेगा.

उसका रंग बहुत गोरा है, उसकी एज 18 साल है और चुचियो का साइज़ शायद 34 है, उसकी चुचिया मस्त गोल और उभरी हुई है., ऐसा लगता है की सूट मे से बाहर आजाएगी, उसकी कमर तो इतनी सेक्सी है की क्या बोलू.

मेरी बहन ज़्यादातर सलवार सूट और जींस-टॉप दोनो ही पहनती है.

कहानी उस टाइम की है जब मैं मेरी मौसी के वाहा मेरी छुट्टियों मे गया था, मेरी मौसी और पूरा परिवार गाओ मे रहता है, मौसी की बेटी शहर के होस्टेल मे रह कर स्टडी कर रही थी.

पहले मेरे मन मे चारमी के बारे मे कभी ऐसा ख़याल नही आया., पर एकदिन हुआ यू की मेरी बहन कपड़े धो रही थी.

उसने बोला की- भाई, मेरे रूम मे से कपड़े लाकर देदो.

मैने कहा- चल मैं भी साथ मे कपड़े धो देता हू..

उसने कहा- ठीक है..

मैं जब चारमी के कपड़े लेने गया., तो उसके सब कपड़े नीचे उसकी ब्रा और पेंटी पड़ी थी, मेरा तो उनको देख कर ही खड़ा हो गया.

मैं चारमी के कपड़े उसको बातरूम मे देने चला गया, जब मैं कपड़े धो रहा था., तो मुझे उसको देख कर अजीब सा लग रहा था.

उस वक्त चारमी ने ब्लॅक रंग का टॉप पहन रखा था और ब्रा भी नही पहनी थी, उसका कुर्ता पानी से भीगा हुआ था और चुचे साफ दिख रहे थे.

उस्दीन चारमी बहुत थक चुकी थी, उसने अपनी थकान के बारे मे मुझे बताया की उसके पैरो मे बहुत दर्द है.

तो मैने पुछा- मैं कोई हेल्प कर सकता हूँ?

उसने मुझे बोला की प्लीज़ मेरी हेल्प करदो..

मिने कहा- क्या करू?

उसने कहा- मेरे पैरो मे मालिश कर दो.

More Sexy Stories  Sexy Aunty ki Chudai Dekhi

मैं तैयार हो गया, उसके नंगे बदन को देखने का यह तो बहुत ही बढ़िया मौका था.

हम दोनो कमरे मे गये मैं बैठ कर उनकी मालिश करने लगा., मैं जब उनकी मालिश कर रहा था., तो हिलने के कारण उसकी चुचिया बाहर निकलने को मचलती,

मेरा दिल कर रहा था की उसको अभी चोद लू.

मैं बोला- और मालिश करू?

चारमी ने कुछ नही कहा, मुझे लगा की उसको मालिश करना अच्छा लग रहा है..

मैने उसकी मालिश करते-करते उपर तक हाथो को ले जाना चाहा., लेकिन मुझे कुछ डर लग रहा था.

अब ये रोज़ का रवईया हो गया, वो मुझसे रोज़ मालिश करवाने लगी और मैं उसकी मालिश करने के बहाने उसके जिस्म को टच के सच लेने लगा.

अब मैं मालिश करता., तो उसकी चुचिया साफ-साफ मेरी नज़ारो के सामने होती.उसका रंग साफ होने के कारण उसके चुचक पिंक रंग के थे., जो उसके पतले कुर्ते से साफ टाइट होकर दिखने लगते थे, मेरा दिल करता था की अभी उसे चूस लू.

यह सब देख कर तो मेरा लॅंड खड़ा हो गया और मैने अंडरवेर नही पहना था, इसलिए चारमी की नज़र मेरे लॅंड पर पड़ गयी, वो उसे देख कर धीरे से ह्स पड़ी और बोली- अगर तुम थकगये हो तो जा सकते हो.

पर मेरा मन जाने को नही कर रहा था, मैने बोला- नही मैं यही रहूँगा.

तभी मुझे पता नही क्या हुआ और मैने चारमी को बोला चारमी तुम्हे पता है की तुम बहुत ब्यूटिफुल और सेक्सी हो.

मैं बहुत डर भी रहा था., पर चारमी ने बोला- एक लड़की को ब्यूटिफुल और सेक्सी होना बहुत ज़रूरी है.

यह कह कर वो ह्स पड़ी.

फिर मुझे लगा की वो मुझसे खेल खेल रही है.

मैने भी बोल दिया- तुम्हारी हर चीज़ बहुत सेक्सी है.

चारमी ने मेरी तरफ घूर कर देखा ., मैं डर गया.

वो फिर से ह्स पड़ी और बोली- क्या खास बात है मुज़मे?

मुझे लगा की उसके मन मे भी वासना है, मैने हिमत करके कुछ करने की सोची.

More Sexy Stories  Pehli Chudai Ka Maja

अब वो बाते करते-करते सोने का नाटक करने लगी., तभी मैं अपने हाथ उसकी पीठ पर ले गया., उसने कुछ नही कहा., वो चुपचाप मज़े ले रही थी.

फिर मैने उसकी चुचियो पर हाथ रख दिया.

वो एकदम से जाग गयी और ह्स पड़ी, उसने कहा-नही ये ठीक नही है..उसने मुझे सोने को कहा.

मैने कहा- तुम मुझसे ऐसी बात क्यों कर रही हो?

तो बोली- तू मुजसे बात कुछ भी करले., पर और कुछ नही.

अब मामला साफ हो गया था.

मैने कहा -प्लीज़ एक बार कार्लो..

उसने कहा- तुम मेरे जिस्म को बिना कपड़ो के भी देख सकते हो., पर वो सब नही..

मैं चुप रहा., तो उसने अपने कपड़े उतार दिए., बिना कपड़ो मे वो बहुत सेक्सी लग रही थी.

मैं अपने आप को नही रोक पाया और मैं उस पर चढ़ गया और लॅंड को जाँघ के बीच सेट करके उसे देखता रहा..

उसने थोड़ा विरोध तो किया पर मैने उसे नही छोड़ा, थोड़ा विरोध के बाद वो भी मेरा साथ देने लगी.,
फिर मैने उनके कोमल होंठो पर मेरे हॉट रख दिए और उसके होटो का रास्पान करने लगा, अब वो भी गरम होने लगी थी और मेरा साथ देने लगी थी.

वो तो पहलेसे नगी ही थी फिर मैने भी मेरे सारे कपड़े उतारे और उसे बेड पर पटक दिया, अब वो भी कुछ कामुक आवाज़ निकाल रही थी., पूरे कमरे मे उसकी आहह, उहह, आवाज़ गूँजने लगी अब वो बुरी तरह से गरम हो चुकी थी,

फिर मैने देर ना करते हुए मेरा 7” बड़ा और 3” मोटा लॅंड उसकी चुत पर रख कर रगड़ने लगा, फिर मैने एक ज़ोर से धक्का मारा और मेरा सुपॉरा उसकी चूत मे चला गया और वो चीख पड़ी ओययी, माआ, मार दियाअ, रीए, हरेया, मैं कहिकी, मुझे कही काअ, नही छ्चोडा, फिर मैने एक और जटका मारा और मेरा आधा लॅंड उसकी सील तोड़ते हुए उसकी चूत मे चला गया.

Pages: 1 2