बीवी ने कराई बहन की चुदाई 3

Indian Behen ki Chudai : सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार।  के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।
हेलो दोस्तो केसे हो आप सब! मेरी कहानी के पिछले पार्ट “मेरी सूपरस्टार बीवी – पार्ट 2” तो अपने पढ़ लिया होगा इसलिए अब मैं इसके आगे की कहानी आपको बताने जा रा हूँ. वैसे अब तो मुझे अपने बारे मे भी आपको बताने की ज़रूरत न्ही है इसलिए अब मैं आपको अपनी सीधा कहानी पर ही ले कर चलता हूँ.

तो मैं अब दरवाजे के पास आ कर सुषमा अपनी बीवी और अपनी बेहन काजल की बाते सुनने लग गया.

सुषमा – और फिर केसा लगा अपने भाई से चूत चटवा कर.

काजल- भाभी मैं तो बहुत खुश हुई और मुझे मज़ा भी बहुत आया. मैं तो आपका धन्यवाद करती हूँ की आपने मेरी इस ख्वाहिश को पूरा किया.

सुषमा – अरे पगली ये तो कुछ भी न्ही है असली मज़ा तो आगे है.

काजल – केसा मज़ा मैं कुछ समझी नही.

सुषमा – अरे ये मज़े के इलावा लंड को चूत की गहराइयों मे लेने का भी अलग ही मज़ा है और जब वो मज़ा मिलता है तो औरत पागल हो कर सब भूल जाती है और उस मज़े मे खो जाती है.

काजल – सच मे ऐसा ही होता है क्या!

सुषमा – हाँ सच मे ऐसा ही होता है.

काजल – भाभी मेरा मन भी अब लंड को चूत मे लेने का कर रा है.

सुषमा – लेना तो लेले पर बाहर किसी लड़के के चक्कर मे मत पड़ना क्योकि तुम्हे जो मज़ा लेना है वो मैं तुम्हारे भैया से दिलवा दूँगी और उन्हे पता भी न्ही चलेगा.

More Sexy Stories  चुड़क्कड़ बहने की कामुकता कहानी 2

काजल – वो केसे!

सुषमा – मेरे पास एक प्लान है.

काजल – तो बताओ ना भाभी की क्या प्लान है.

सुषमा – अरे काजल इतनी भी जल्दी क्या है ज़रा सॅबर रखो फिर सब पता चल जाएगा.

अब ऐसे ही वो दोनो चुप हो गये और फिर कुछ दीनो बाद राखी का त्योहार आ गया. मेरी बीवी और मेरी बेहन दोनो ही बहुत अच्छे से तैयार हुई और उनको ऐसे सजे हुए देख कर मेरा मन उनको देख कर काफ़ी खुश भी हुआ.

अब उधर से मेरा साला तरुण भी घर पर आ गया. और फिर हमने राखी का त्योहार मनाया और पहले काजल ने मुझे टीका लगा कर मेरी आरती उतार कर मुझे राखी बाँध दी और फिर उसके बाद मेरी बीवी ने तरुण को टीका लगा कर आरती उतार कर राखी बाँध दी. और जेसे ही रखी बँधी तो मेरे साले ने सुषमा के गालो पर किस कर डाली.

वैसे मैं आपको बता दू की मैं काफ़ी शक्की किसम का इनसान हूँ. मैं अब उनको देखने लग गया तो मैने देखा की मेरा साला अपनी सग़ी बेहन के बूब क्प दबा रा था और उसने उसकी गान्ड पर भी हाथ रख दिया था. ये देख कर मैं सोचने लग गया की एक भाई अपनी सग़ी बेहन का इतना बड़ा आशिक़ है या मेरी बीवी उसे इतना पागल कर रही है. उधर मैने देखा की तरुण का लंड अंदर खड़ा हो गया था और फिर वो दोनो भाई बेहन कमरे मे चले गये.

उधर ये सब सोच कर मेरे चेहरे के तोते उड़ गये थे और मैं वही पर बैठ गया था. और फिर मेरे पास काजल आई और मुझसे बोली -भैया क्या हुआ आप उदास क्यो बैठे हो, भाभी अपने भाई के साथ ही तो है. चलो इतना मैं आपके पास बैठ जाती हूँ.

More Sexy Stories  दीदी की चुदाई की घर पर 3

काजल इतना बोलते ही मेरी गर्दन पर बाजू डाल कर मेरी गोद मे आ कर बैठ गयी. उसके ऐसे बैठते ही पता न्ही मुझे क्या हो गया और फिर मैने उसके होंठो पर अपने होंठ रख डाले और उसके होंठो को चूसने लग गया. वो भी मेरा साथ देने लग गयी पर जब मैने उसके बूब्स को हाथो मे ले कर दबाया तो वो खूद के चिल्लाते हूए बाहर भाग गयी. तब मुझे लगा की वो शर्मा गयी है और जो मैं चाहता हूँ वो भी जान गयी है.

उधर अब तोड़ी देर बाद वो अंदर आई और मुझे खींच कर बाहर ले गयी और सुषमा की खिड़की के पास जा कर देखने लग गयी और मुझे भी देखने को कहने लग गयी. तब उसके कहने पर मैने नीचे झुक कर देखा तो मेरा लंड काजल की चूत पर जा लगा और मेरा गाल उसके गाल से जा टकराया और फिर उसके बाद मैने देखा की अंदर दोनो भाई बेहन नंगे एक दूसरे से चिपके हुए थे और दोनो के बीच प्यार हो रा था.

ये देख कर मेरा लंड अब काजल की गान्ड मे गड़ता गया और उधर काजल का भी बुरा हाल हो रा था. अंदर अब तरुण सुषमा की टाँगे उठा कर लंड को चूत मे डाल कर चोद रा था और उधर दोनो साली ननंद के मूह से सिसकारी निकल पड़ी और फिर तरुण ने अपनी बेहन की चूत मे ही निकाल दिया.

उधर अब काजल मेरी और मूड कर मुझे नशीली निगाहों से देखने लग गयी और फिर उसने मेरे हाथ पर बँधी हुई रखी को पकड़ा और बड़ी ही धीरे से आवाज़ मे बोली की भैया मेरा गिफ्ट कहा है. तो उसकी ये बात सुन कर मैने काजल को गोध मे उठाया और उसे अपने दूसरे कमरे मे ले गया.

Pages: 1 2