सुप्रिया की चुदाई की दास्तान हिंदी में

सुप्रिया की चुदाई की दास्तान

हेल्लो दोंस्तो सुप्रिया नाम सुप्रिया हे में 18 सालकी हूँ, बहुत रफ टफ ओर लड़का ब्रांड लड़की हू। ओर देखने मे सुन्दर से ज्यादा सेक्सी लगती हू कालेज के दुसरे साल मे हू। को एड कालेज होने के बाद भी कोई लड़का मुझे पटा नहीं पाया था एसा नहीं हे की लड़के मुझ पे मरते नहीं थे। पर सब के सब मुझ से डरते थे और मुझे उन्हें सताने में बहुत मज़ा आता था लेकिन फिर एक दिन ऐसा हुआ जो मेने सोचा नहीं
था। हमारे कोलेज में इंटर कोलेज कोम्पीटीशन था उसमे दुसरे कोलेज से एथलीट कोम्पीटीशन में एक लड़का आया था उसका नाम रोहित था और सच में क्या लगता था वो मेने पहली बार अपने दिल में कोई हलचल महसूस की फिर भी वो अपोजिशन टीम से था तो में अपनी टीम को चीयर्स कर रही थी लेकिन वो हर बार विनर रहा मेरी हूटिंग से वो परेशान भी हो रहा था। लेकिन जीता आखिर में वो ही और ना जाने क्यों उसके जीतने से मुझे ख़ुशी भी हुयी न जाने क्यों में उस पे फ़िदा हुए जा रही थी। और उस दिन पहली बार मेने अपने स्वभाव से उलट जाते हुए
उसे मुबारक बाद देने की ठानी लेकिन मुझे अपनी दोस्तों से अपनी ये कमजोरी छुपानी भी थी। इस लिए जब वो ड्रेसिंग रुम में गया तो में उसके पिच्छे चली गयी और उसे ये पता नही था उसने वह जाके अपनी पसीने से भीगी बनियान उतारी और सुप्रिया उसे कोंगरेचुलेशन बोलना हुआ वो और में दोनों हक्के बक्के रह गए क्योकि वो उस समय सिर्फ एक शॉर्ट्स में ही था और उसका कसा हुआ फोलादी बदन और उस पे उसके पसीने की मादक गंध ने मेरे होश उड़ा दिए।
पर उसने तेज़ी से मुझ से हाथ मिलाया और बोला तुम सुप्रिया होना?अब में चकरा गयी।
उसके कठोर हाथ में सुप्रिया मुलायम हाथ था वो बोला तुम्हारे चर्चे हमारे कोलेज तक है मिस काऊ बॉय और हंसने लगाकिस तरह के चर्चे ? क्या मेरी बुराई ? अरे नहीं (वो सुप्रिया हाथ अभी भी पकडे हुए था ) यही की एक स्मार्ट लड़की जो लडको को भाव नहीं देती।
लेकिन में लकी हूँ , की तुम खुद मेरे पास आई हो तुम हो इस लायक मेने उसकी तारीफ करते हुए कहा उसकी मौजूदगी और उसके हाथो में सुप्रिया हाथ मुझे उत्तेजित कर रहे थे ,,, मेने कहा हा तो आज के चैम्पियन कहा है। मेरी पार्टी वो बोल हाँ हाँ क्यों नहीं ,अभी आता हूँ , और तुम्हारे साथ अकेले पार्टी सुप्रिया सबसे बड़ा प्राइज़ होगा। फिर वो अपने कपडे पहनने चेंजिंग रूम में चलगया एथलीट कोम्पीटीशनखत्म हो चूका था। सब अपने अपने घर जा रहे थे मे भी ड्रेसिंग रुम से बहार आ गई और घर जाने लगी तो वो अपनी बाइक लेकर मेरे पास आया और मुझ से कहा की सुप्रिया मेरे साथ कोफी पीने चलोगी मेने कही की सिर्फ कोफी और पार्टी का क्या, तो उसने कहा की जो तुम बोलोगी वही कर कर लेंगे में उस के साथ बाइक पर बैठ गई। रोहित मुझे एक अच्छे से होटल में ले गया वहाँ हमने कोफी पी और कुछ इधर उधर की बाते की कोफ़ी खत्म होने के बाद मेने कही की अब मुझे चलना चाहिए तो रोहित ने कहा की सुप्रिया अब कब मिलोगी तो मेने कही की जब तो बोलो और मेने उसे अपना मोबाइल नम्बर दिया और उस ने मुझे अपना नम्बर दिया और फिर मेने रोहित को कहा की क्या तुम मुझे घर तक छोड़ सकते हो रोहित ने कहा की हाँ क्यू नही फिर उस ने मुझे घर छोड़ दिया।
कुछ दिनों तक हमारी फ़ोन पर बात होते रही और हम मिले भी फिर एक दिन रोहित का फ़ोन आया और उस ने मुझ से कहा की सुप्रिया क्या तुम मेरे साथ मूवी देखने चलोगी मुझे रोहित से बाते करना और उस के साथ घूमना अच्छा लगने लगा था तो मेने हा कर दी की में चलूंगी मूवी देखने रोहित ने मुझ से पूछ की सुप्रिया तुम्हे केसी मूवी पसंद है मेने कही की जो तुम को पसंद होगी वही मूवी देखेंगे तो उस ने कहा की हॉलीवुड मूवी देखने चले क्या तो मेने हाँ कर दी की थी है फिर रोहित ने कहा सुप्रिया पहले हम मोल घूमेंगे फिर लंच करने के बाद मूवी देखेंगे।
फिर रोहित ने कहा की सुप्रिया आज तुम ब्लैक कलर की ड्रेस पहनना मेने उस से पूछी की ब्लैक कलर हिकी ही क्यू तो उस ने कहा की सुप्रिया तुम ब्लैक कलर में जादा सेक्सी लगती हो में हँसने लगी तो रोहित ने कहा की प्लीज़ सुप्रिया आज मेरे लिए तुम ब्लैक कलर की ही ड्रेस पेहेना मेने कही की ठीक है। फिर उस ने कहा की में तुम्हे किस टाइम और कहा से पिकप करू तो मेने कही की तुम 12 बजे मुझे मेरे घर के पास की चोराहे से पिकप करना उस ने कहा की ठीक है फिर में नाहा कर जब आई तो मेने सोची की क्यू न आज में ब्रा पेंटी भी ब्लैक कलर की ही पहनू तो मेने ब्रा पेंटी भी ब्लैक कलर की पहन ली और फिर ब्लैक टी-शर्ट और जिन्स पहनी और तैयार हो कर 12 बजे घर के पास वाले चोराहे पर रोहित का वेट करने लगी।
कुछ ही देर बाद वो अपनी बाइक लेकर आया उसने ग्रीन टी-सट और ब्लू जिन्स पहनी थी आज तो वो कुछ जादा ही हेंडसम दिख रहा था में उस के साथ बाइक पर बैठ गई फिर हम घुमे के लिए मोल गये रोहित मुझ से कहने लगा सुप्रिया मेने कहा था न की तुम ब्लैक कलर में बहुत सेक्सी लगती आज तुम बहो ही सेक्सी लग रही हो, में हँसी और कहा की तुम भी कुछ कम नही लग रहे हो फिर से उस ने सुप्रिया हाथ पकड़ कर चूम लिया और कहा की सुप्रिया में तुम से प्यार करने लगा हु उस के चूमने से तो मेरे तन बदन में जैसे आग लग गई।
मेने कुछ नही कही बस मुस्कुराते रही फिर मेने उस से कही की चलो मुझे बहुत भूख लग रही है चल कर लंच कर लेते है फिर हम एक होटल में गये और लंच क्या उस के बाद हम मूवी देखने गए शो चालू हो चूका था वो हॉलीवुड की एक होरर मूवी थी, हम दोनों मूवी देख रहे थी की उस में एक डरावना सीन आया में दर के रोहित से चिपक गई मेने अपना सिर उस की छोड़ी छाती पर रख दी और दोनों हाथो से उस को पकड़ ली उस ने भी मुझे सहारा देते हुए अपने आगोश में ले लिया।
अब मूवी में कुछ सेक्सी सीन अपने लगा थे में अभी भी रोहित से लिपटी हुई थी फिर मूवी में एक सेक्स का सीन आया उसे देख कर नजाने मुझे क्या हो गया में रोहित की छाती पर हाथ फिरने लगी और रोहित नि मेरी जांघ पर अपना हाथरख दिया और जांघ को सहलाने लगा उस का यू सहलाना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। अब उसका दूसरा हाथ मेरे कंधे से होता हुआ मेरे बूब्स पर आ गया और वो उन्हे दाबने लगा फिर सुप्रिया हाथ उस की छाती से घूमता हुआ नीचे जाने लगा।
मेने महसूस किया की रोहित का लंड खड़ा हो चूका है ओह अचानक रोहित ने अपने होठो को मेरे होठो पर रख दिया और उन्हें चूमने लगा होल में तो काफी अँधेरा था तो किसी को कुछ नही दिख सकता था रोहित मेरे होठो को चूम रहा था में चाह कर भी कुछ न कर सकी, मे भी ये ही चाहती थी। अब उस ने अपने एक हाथो से मेरी जींस का बटन खोल दिया और अन्दर हाथ डाल कर वो मेरी पेंटी के ऊपर से ही चूत को सहलाने लगा और मेरे होठो को चूमे जा रह था। मुझे अब मजा आने लगा था और में गरम हो चुकी थी फिर उसने सुप्रिया हाथ पकड़ कर मुझे उठाया और कहा चले सुप्रिया यहाँ से मेने कहा की पर कहाँ चलना है उस ने कहा तुम चलो तो में बताता हु फिर हम आधी मूवी छोड़ कर वहां से निकल गये। रोहित ने मुझे बाइक पर बैठाया मेने उस से पूछा की हम कहाँ जा रहे है। तो उसने कहा की मेरे घर, मेने कहा की नही, तुम मुझे मेरे घर छोड़ दो मुझे डर लग रहा है। रोहित नही माना और वो मुझे अपने घर ले गया फिर उस ने दरवाजे का लोक खोल और मुझे कहा की अन्दर आ जोओ सुप्रिया में जाकर सोफे पर बैठ गई। रोहित ने दरवाजे को अन्दर से लोक कर दिया और मेरे पास आकार फिर से मेरे होठो को चूमने लगा।
मुझे उसका चूमना अच्छा लग रहा था। तो में उस का साथ देने लगी फिर रोहित ने मेरी टीशर्ट उतार दी और मुझे वही सोफे पर लिटा दिया और मेरे होटो को चूमने लगा ओर मेरे बूब्स दबाने लगा। काफी देर तक हम दोनों एक दुसरे को चूमते रहे मुझे बहुत मजा आ रहा था। फिर रोहित उठ और मेरी जींस का बटन खोलकर मेरी जींस उतर दी और कहने लगा की सुप्रिया आज तो तुमने ब्रा पेंटी भी ब्लैक कलर की पहनी है। तुम इस ब्रा और पेंटी में बहुत खुबसूरत लग रही हो फिर रोहित ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और अपने रूम में लगये और मुझे बेड पर बिठा दिया।
फिर उस ने अपनी टीशर्ट जींस उतर दी अब वो सिर्फ अंडरवेयर में था और में ब्रा पेंटी में और फिर उस ने अपनी अंडरवेयर को थोडा नीचे सरका कर अपना लंड निकल कर मेरे होटो से लगा दिया और कहने लगा लो सुप्रिया चुसो इसे में तो उस का लंड देख कर हेरन रह गयी इतना बड़ा और मोटा था वो इतना अच्छा लंड देख कर मेने तो उनके लंड को अपने मुह में ले लीया और चूसने लगी मुझे उसके लंड को चुसना बहुत अच्छा लग रहा था दस मिनट तक में रोहित के लंड को चूसती रही
फिर रोहित ने अपना लंड मेरे मुह से निकाला और मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ कर मेरे बूब्स दबाने लगा मेरे मुह से सिसकियाँ निकलने लगी फिर उस ने मेरी ब्रा का हुक खोल कर ब्रा को उतर दिया और बूब्स को चूसने लगा और एक हाथ से मेरी चूत को सहलाने लगा मे आआआआआअ ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अह अह अह उइ उइ उइ कर के सिसकियलेने लगी फिर वो बूब्स को चुमते हुए नीचे आने लगा और पेंटी के ऊपर से मेरी चूत को चूमने लगा और अपने दोनों हाथो से मेरे बूब्स दबाने लगा। में कहने लगी की रोहित थोडा धीरे धीरे फिर रोहित ने मेरी पेंटी भी उतर दी और मेरी चूत को पागलो की तरह चूसने लगा और मेरी सिसकियसे सारा कमरा गूंजने लगा।
कुछ देर चूत चूसने के बाद रोहित ने कहा की सुप्रिया क्या अब में अपना लंड तुम्हारी चूत में डाल दू में कहने लगी की हा डाल दो अब मुझ से राहा नही जा रहा तो उसने लंड को मेरी चूत पर रखा और लंड से मेरी चूत को सहलाने लगा फिर धक्का लगाया पर लंड अन्दर नही गया तो उस ने एक और जोर का धक्का मारातो उस का आधा लंड मेरी चूत के अन्दर चला गया और मेरी चीख निकल गयी मेंकहने लगी की रोहित निकालो अपने लंड को बहार मुझे बहुत दर्द हो रहा है तो वो कहने लगा थोडा तो दर्द होगा सुप्रिया और वो मेरे ऊपर लेट कर मेरे होटो को चूमने लगा।
फिर रोहित ने एक और जोर का धक्का मेरे तो उसका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया और वो अपने लंड को चूत के अन्दर आगे पीछे करते हुए मुझे चोदने लगा। और दोनों हाथों से मेरे बूब्स को भी दबाने लगा मेने मुह से आआआआआ ऊऊऊऊईईईईईईइ आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह के आवाजे निकलना और तेज हो गई मुझे और मजा आने लगा में कहने लगी की रोहित ओर जोर जोर से चोदो मुझे बहुत मजा आ रहा है ये सुनते ही उस ने अपनी स्पीड ओर बड़ा दी इतने मे मे झड गई पर रोहित अभी भी पुरे जोश में था और मुझे चोदे जा रहा था। फिर वो कहने लगा सुप्रिया में भी झड़ने वाला हु मेने कही की मेरी चूत में मत निकलना नही तो प्रोब्लम हो जाएगी तो रोहित ने लंड को चूत से बहार निकल और उन का फव्वारा छूट गया जो मेरे बदन पर आकार गिरा में बेड पर ही लेटी थी और बहुत थक चुकी थी सुप्रिया सारा बदन दर्द कर रहा था रोहित भी मेरे पास ही लेट गया फिर रोहित ने कहा केसा लगा सुप्रिया तुम को मजा तो आया न मेने कही की है पर सारा बदन दर्द कर रहा है।
कुछ देर हम दोनों वेसे ही लेते रहे फिर में उठ कर बाथरूम में चली गई और अपने आप को साफ करने लगी तभी रोहित फिर पीछे से आ कर मेरे बूब्स दबाने लगा और अपने लंड को मेरी गांड से लगा दिया उस के इसे मेरे बूब्स दबाने से में फिर गरम हो गई फिर में निचे बैठ कर रोहित के लंड को चूसने लगी जिससे रोहित का लंड फिर से खड़ा हो गया कुछ देर की चुसी के बाद रोहित ने मुझे वही बाथरूम के फर्श पर लिटा दिया और मेरी चूत को चूसने लगा में फिर सिसकिय लेने लगी।
फिर रोहित ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और बाथरूम से बहार लाकर बेड पर लिटा दिया और अपने लंड को मेरी चूत पर रखा और एक ज़ोर का सॉर्ट मारा उसका लंड मेरी चूत से टकराया सुप्रिया रोम रोम खुशी से झूम रहा था। रोहित ने आहिस्ता आहिस्ता अपने लंड को मेरी चूत मे अंदर बाहर करने लगा जब वो लंड बाहर करते मेरी चूत की पंखुडियां उसके लंड के साथ चिपक कर बाहर की तरफ खिचने लगती ऐसा लग रहा था मेरी चूत उनके लंड को छोड़ने को तैयार नही।
अब रोहित ने अपनी स्पीड बढ़ा दी उसका लंड जो अब तक मुश्किल से घुस रहा था। अब आसानी से आ जा रहा था। उसने मेरी चूत मैं लंड डाले हुए मुझ को अपनी गोद मैं उठा लिया मैं फूल की तरह से उसकी गोद मैं आ गई ऐसा लगता ही नही था की उस ने कोई जिस्म उठाया हो मैंने उनकी कमर की दोनो तरफ अपने पैर से पकड़ लिया ताकी गिर ना जाउ। मैं उस गोद मैं छोटी सी बच्ची लग रही थी
रोहित का खंभे जैसा लंड मेरी चूत मैं घुसा हुआ था मैं रोहित के निपल को अपने दाँतों से हल्के हल्के काट रही थी रोहित को मज़ा आ रहा था रोहित मुझ को उपर उठा के नीचे छोड़ते तो उनका लंड मेरी चूत की जड़ तक टकरा जाता। रोहित बोले मज़ा आ रहा हे। मैं बोली तुम्हारे जैसा तड़पाने वाला लंड जो पहली बार मेरी चूत में ले रही हु इस का मजा ही अलग है और ये मेरे लिए बड़ी बात हे।
फिर रोहित ने मुझे बेड पर पटक के मेरी दोनो टाँगों को अपने कंधे पर रख दी जिस से मेरी चूत उपर की तरफ उठ गई सुप्रिया बदन इतना लचीला था की मैं अपने दोनो पैर उसके कंधे पर आराम से रख पाई तो रोहित ये पोज़ देख कर बहुत खुश हुए और लंड ने मेरी चूत को धक्के देते हुए अन्दर बहार होने लगा इस दरमियाँ कई बार झड चुकी थी रोहित अलग अलग एंगल से मुझ को चोद रहा था मैं भी जोश मैं थी और रोहित अब पूरी स्पीड से चोद रहा था हम दोनो के मूह से अलग अलग आवाज़ निकल रही थी रोहित से भी अब नही रहा जा रहा था उस लंड को चूत से बहार निकल कर मेरे मुह में भर दिया और जोर से अकड़ते हुए सारा पानी मेरे मुह में भर दिया और वो मेरे ऊपर ही लेट गया कुछ देर ऐसे ही लेटे रहने के बाद हम दोनों ने साथ में नहाये और फ्रेश हो कर एक होटल में जा कर डिनर किया और फिर रोहित ने मुझे घर छोड़ दिया। तो ये था दोस्तों सुप्रिया लड़की होने का पहला अहसास उमीद करती हु की आप लोगो
को पसंद आई होगे आप लोगो को केसी लगी बताइएगा जरुर।

More Sexy Stories  मोबाइल लौटने पर लड़की ने चूत दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *