पड़ोसन कुवारी लड़की की जबरदस्त चुदाई

padosan kuwari ladki ki jabardast chudaiस्वीटी मेरे प्यारे दोंस्तो आप सब का हिंदी कहानिया वेबसाइट में स्वागत है। ये कहानी तब की है जब मैं 19 साल का था। हमारे पड़ोसी के यहां एक लड़की आई हुई थी। उसका नाम स्वीटी था और वो 18 साल की थी। दिखने में बहोत सुंदर थी और उसका रंग गोरा था और छोटे छोटे नींबू के आकर के बूब्स थे। हम दोनों एक दूसरे से काफी मज़ाक-मस्ती किया करते थे। पर उस टाइम तक ना उसको और ना मुझको सेक्स के बारे में ज्यादा पता था। मैं अक्सर उसका हाथ बीच देता या उसकी कमर में या चूतड़ पर ज़ोर से हाथ मर देता था। वो कुछ नहीं बोलती थी और मुझ से खूब मस्ती करती थी।
इसी तरह कभी हम छुपा छिपी खेलते तो वो हमेशा मेरे साथ ही छिपा करती थी। मैं उसके चूतड़ पर हाथ फेयर देता था पर वो कभी भी विरोध नहीं करती थी। कुछ दीनों के बाद वो अपने घर लौट गयी और करीब 2 साल बाद वापस रहने आई। तब तक मैं 18 का हो चुका था और मेरे स्वभाव में काफी फ़र्क़ आ गया था और मुझे सेक्स के बारे में काफी जानकारी भी हो गयी थी। उसके बूब्स भी 32 के हो गये थे और फिगर तो बस पूछो ही मत…। क्या लग रही थी वो। वो मुझसे मिलने मेरे घर आई थी। जब मैंने उसे देखा तो देखता ही रही गया। मेरा लंड जो की 7″ लंबा और 3″ मोटा था एकदम टन कर खड़ा हो गया था बड़ी मुश्किल से मैंने अपने लंड को छिपाया। उसके चूतड़ भी तरफ गये थे। मेरी तो उस पर से नज़र ही नहीं हाथ रही थी और सोच रहा था की इसको तो मैं कैसे भी करके चोद कर रहूँगा।
हमारे घर पर सेकेंड स्टोरी पर मकान बन रहे थे तो वहां कन्स्ट्रक्षन का काम चल रहा था। वो शाम को मुझसे मिलने आती थी और हम बैठ कर बातें करते थे। बताओ बताओ में मैंने उसके चूतड़ पर हाथ फिराया तो वो सिहर गयी और मुझे घूरने लगी मैंने कहा क्या हुआ तो वो कुछ नहीं बोली और बातें करने लगी। मैंने उससे कहा के तू तो बहुत सुंदर हो गयी है तो उसने भी कहा के तुम भी अब मस्त दिखते हो। फिर शाम को हम छुपा छिपी का गेम खेल रहे थे तो वो मेरे साथ ही छिपी हुई थी चूंकि वहां जगह कम थी तो मुझसे बिलकुल सत्कार खड़ी थी और मेरा लंड जो की पूरा ताना हुआ था उसकी गान्ड की दरार में धासा हुआ था। मैं अपने हाथ उसकी कमर पर ले गया और उसकी कमर को पकड़ लिया। मैंने अपना हाथ जैसे ही उसके बूब्स की तरफ ले जाने लगा तो उसने रोक दिया और कहने लगी की कोई आ जाएगा।
अगले दिन वो मेरे घर आई तो मैं टीवी देख रहा था वो भी मेरे बराबर में बैठ गयी और टीवी देखने लगी। मेरी आंटी नहाने चली गयी तो मैंने उसे पकड़ लिया और अपनी तरफ खींच लिया। वो मेरी बाँहों में गिर गयी में उसके बूब्स पकड़ कर दबाने लगा। उसकी सांसें तेज हो गयी मैंने उसके होठों पर होंठ रखकर चूसने लगा। तभी किसी के आने की आहट हुई तो हम अलग हो गये फिर वो चली गयी और जाते जाते मुझे बहुत ही कातिल मुस्कान देकर चली गयी। थोड़ी देर में मैं उसके घर गया वो घर पर अकेली थी और लेती हुई थी मैं उसके पास गया और उसे किस करने लगा फिर मैंने उसके बूब्स दबाने लगा। अब मैंने उसके सूट को थोड़ा ऊपर करके बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबाने लगा वो गरम हो चुकी थी मैंने उसके बूब्स ब्रा से निकल लिए। वाउ क्या बूब्स थे एकदम वाइट और ब्राउन निप्पल। मैं उन्हें चूसने लगा और दाँतों से काटने लगा।
फिर मैं अपना हाथ नीचे ले गया और सलवार के ऊपर से उसकी चुत को सहलाने लगा। जैसे ही मेरा हाथ उसकी चुत पर गया तो वो काँप गयी। उसका बदन अकड़ गया और वो एकदम झाड़ गयी। ये उसका पहला एक्सपीरियेन्स था और वो काफी खुश दिख रही थी। वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगी मैंने उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर ले गया जो की लोहे की तरह सख्त हो चुका था। वो मेरे लंड को सहलाने लगी और मैं उसके बूब्स को चूसने में लगा हुआ था। मैंने अपना लंड बाहर निकल कर उसके हाथ में दे दिया वो लंड सहलाने लगी और मेरे कान में बोलने लगी की ये तो बहुत मोटा है और गरम भी हो रहा है। मैंने उसे लंड चूसने को बोला तो वो मना करने लगी। मैंने ज्यादा जिद नहीं की और उसकी सलवार का नाडा खोल दिया और उसकी चुत को पैंटी के ऊपर से सहलाने लगा। उसकी पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी मैंने उसकी पैंटी और सलवार को निकल लिया।
अभी तक दरवाजा खुला हुआ था तो वो मेरे कान में बोलने लगी की दरवाजा बंद करदो। मैंने उठकर दरवाजा बंद कर दिया और मैंने उसकी कमीज़ और ब्रा को भी उतार दिया। अब वो मेरे सामने नंगी थी …। क्या लग रही थी साली …। मेरा लंड तो फड़कने लगा। मैंने उसे कहा की देख मेरा लंड तेरी चुत में जाने के लिए कैसे फुदक रहा है तो उसने कहा की रोका किसने है और मेरी चुत भी तेरे लंड को लेने के लिए तैयार है। मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए अब हम दोनों बिलकुल नंगे थे मैंने उसे पीठ के बाल लेटाया और उसकी गान्ड के नीचे एक तकिया लगाया और लंड उसकी चुत पर ले जाकर रगड़ने लगा वो तड़पने लगी और बोलने लगी के विक्की अब मुझे और मत तड़पा और मुझे अपनी बना लो। मैंने भी ज्यादा देर ना करते हुए स्वीटी की चुत पर लंड रखकर ज़ोर से दबाया तो लंड का सूपड़ा उसकी चुत में दाखिल हो गया और वो चिल्लाने लगी।
वो मुझे पीछे को धकेलने लगी तो मैंने दूसरा धक्का लगा दिया। मेरा लंड उसकी चुत को फाड़ता हुआ आधा उसकी चुत में जाकर ड्गाज़ गया। अब वो तड़पने लगी और उसकी आंखों से आँसू बहने लगे मैंने आगे बढ़कर उसके होठों को चूमने लगा तो वो कहने लगी के विक्की बहुत दर्द हो रहा है प्लीज़ निकल लो। मैंने कहा मेरी स्वीटी रानी थोड़ा सब्र करो सब ठीक हो जाएगा फिर तू ही मुझे और चोदने को बोलॉगी। मैं नहीं मना मैंने थोड़ी देर सेट रखा अपने को ओर उसकी चुत में लंड को घुसाए रखा। लंड अभी आधा बाहर ही था तो मैंने एक और धक्के के साथ बाकी लंड भी अंदर घुसा दिया। मैंने उसके होठों पर होंठ चिपका दिया और उसके बूब्स को हाथों से दबाने लगा वो दर्द से कराह रही थी। मैंने नीचे देखा तो लंड चुत में पूरी तरह फँसा हुआ था और चुत की दीवारों से खून निकल रहा था क्योंकि वो भी मेरी तरह ही वर्जिन थी।
मतलब उसकी सील अब टूट चुकी थी वो। थोड़ा पेन कम होने के बाद मैं उसे धीरे धीरे चोदने लगा। अब उसको भी मजा आ रहा था ओर वो भी साथ देने लगी। उसके मुंह से बस फक में फक में निकल रहा था ओर उसके दर्द से भारी चीखें। पहन मैंने उससे लिटा के बहुत चोदा। उसकी टाँगे उठा उठा के चोद रहा था। मैंने उसके बूब्स भी दबा दबा के लाल कर दिए। पूरे कमरे में पाँच पाँच के आवाज़ आने लगी थी। पर करीब 15 मिनट तक चोदने के बाद मेरा झड़ने वाला था ओर स्वीटी का भी उसी टाइम झाड़ गया था। मैंने अपना कम स्वीटी की चुत में निकल दिया।
फिर हम दोनों थके हुए थोड़ी देर लेट रहे। फिर करीब 20 मिनट बाद मैंने उससे घोड़ी बनने को बोला पर वो मना करने लगी उसने कहा दर्द बहुत हो रहा है। पर मैंने उसे समझाया ओर काफी फोर्स करने पर वो तैयार हो गयी। अब मैंने उससे घोड़ी बनाया ओर पीछे से अपना लंड उसकी चुत में डाल दिया। ओर ज़ोर ज़ोर से झटके मरने लगा उससे भी बहुत मजा आ रहा था। वो चीख रही थी आआअहहाा फुट गाइिईईईई क्य्ाआआ तो मैं धीरे धीरे शॉट मरने लगा थोड़ी देर बाद उसे और मजा आने लगा तो बोली विक्की ज़ोर से चोदो अब और मजा आ रहा है……..आआअहहााअ उूुउउइईईईई इतने दीनों से क्यों मुझको तरपा रहे थे……… आजज्ज मोकक्क्का हाईईईईई खुउूऊब चूओडूओ अपनी टिनाआअ कूऊऊऊऊ मेरे राज्ज्जज्ज्ज्जाआाआआअ……..मैं भी तेज – तेज शॉट पे शॉट मरने लगा और उसको कई तरीके से चोदा फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसे लेटने को बोला ओर लेट के उसकी चुदाई की। करीब 25 मिनट तक उसको खूब चोदा फिर….हम एक साथ झरने को आए तो स्वीटी बोली…. विक्की……मैं…..झरने को हूँ…..तो मैं बोला मैं भी…… तो स्वीटी बोली की अंदर ही ……… गिरना…..बाआरा मजाआा आएगाआअ ऐसा मैंने अपीनीई सहेलीयूऊ से सुनाा है…. ओर फिर मेरा कम निकालने लगा उसका तो पहले ही निकल गया था। फिर में उसके ऊपर ही गिर गया और काश के उसको अपनी बांहों में ले लिया।
2 बार चुदाई करके मैं तक गया था क्योंकि मैंने सेक्स पहली बार किया था और स्वीटी भी बहुत तक गयी थी और उसका बुरा हाल हो चुका था। उसके घरवालों के आने का भी डर था तो हम दोनों से अपने अपने कपड़े पहन लिए और बेडशीट भी चेंज करदी। हमने बाथरूम जाकर एक दूसरे को साफ किया और उसने बेडशीट को धो डाला फिर वो मेरी बाँहों में आकर लेट आ गयी और कहने लगी के विक्की तुमने तो आज मुझे अपना बना लिया है तुम जब चाहे तब मुझे चोदना तुम जहां कहोगे मैं वहां चली आऊंगी। मैं बहुत खुश हुआ और उसे किस करने लगा। 5 मिनट किस करके मैं अपने घर चला आया।
उसके बाद मैंने ओर उसने कई बार सेक्स का मजा लिया। वो करीब एक महीना यहां और हम रोजाना चुदाई करते थे।

More Sexy Stories  बेशर्म माँ की चुदाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *