पदाई के साथ चुदाई – हिन्दी सेक्स कहानियाँ

पदाई के साथ चुदाई

Padai ki Sath Chudai – Hindi Sex Kahaniya

Padai ki Sath Chudai - Hindi Sex Kahaniyaकेय सभि पथक और पथिकओ अपकि सेवा मेन विक्की मित्तल एक बर फिर सेय अपनेय चुदयि केय तज़ुरबेय केय सथ हज़िर हैन और अप सभि को अपना पयर भरा नमसकर करता हैन। लगता हैन कि मेरि कहनि “दीपलि कि चुदयि” कफ़ि पथको नेय पधि हैन कयोनकि मेरेय पस्स बहुत सेय पथक और पथिकओ केय जवब अये हैन जिनमेय लिखा है कि उनहेय मेरि कहनि बहुत हि पसनद अयि है और मैन अपनि दुसरि कहनिया भि बहुत जलदि भेजु, इसकेय लिये अपका बहुत बहुत हि धनयवद। लगता है कि कहनि को पधनेय वलोन मेन लदकियोन या औरतो कि सनखया अधिक हैन कयोन कि मुझेय लिखनेय वलोन मेन फ़ेमलेस कि सनखया बहुत अधिक हैन। कुछ लदकियोन नेय तो यहन तक लिखा है कि मैन अपनि नयि कहनिया उनको लेकर लिखु यनि कि मैन कहनि कि नयिका उनहेय मन कर कहनि लिखु। यहन पर मैन बतना चहुनगा कि “दीपलि कि चुदयि” मेरि कोइ कलपना मत्रा नहि है, बलकि येह मेरा वसतविक मेन पहला तज़ुरबा हैन और इस नाम कि लदकि अज भि है। अब अनतेर बस इतना हैन कि उसकि शदि हो चुकि हैन और अज कल वोह अपनि ससुरल मैन पति और बस्सहो केय सथ खुश हल जिनदगि गुजर रहि हैन। अगेय भि मैन जो कहनि भेजुनगा वोह भि कोइ कलपना नहि होगि बलकि वसतविक घतना होगि जो कि मेरेय सथ घत चुकि हैन। हा, मैन अपनि पथिकओ का दिल तोदना नहि चहता इस लिये मैन उनसेय पररथना करुनगा कि जो येह चहति हैन कि मैन उनकेय उपेर कहनि लिखु वोह मुझेय अपनेय शरिर का समपूरन विवरन अवशया भेजे जिस सेय मुझ को कहनि लिखनेय मैन सहुलियत रहेय। समपूरन विवरन सेय मतलब है कि वेय अपनि बोदी कि बनवत, कद कथि, हिपस भरि है या हलकेय है, चूचियोन का सिज़े, सोलौर, चूत सलेअन शवेद है या झनतो वलि हैन और अपकि कया खस अदत और पसनद है। जब अप इतना सब कुछ लिख केय मुझेय भेजेनगेय तो अवशया हि मैन अपकेय लिये एक बहुत हि सेक्सी और बहुत अछि सतोरी लिख पौनगा।

हा तो अज मैन अपको अपना दुसरा तज़ुरबा कहनि केय रूप मेन लिख कर भेज रहा हून। कुछ लदकेय, लदकियन और महिलये ऐसि भि होनगि जिनहोनेय मेरी पहलि कहनि ना पधि हो या इस सिते मैन अभि सम्मिलित हुये हो तो उनहेय मैन अपना परिचया देना जरूरि समझता हून। मैन विक्की मित्तल हून, मेरि उमरा लगभग 29 वरश, रनग एक दुम गोरा, हेघत 5फ़त 10 इनचेस कि हैन। हलन कि मेरि बोदी हलकि सि भरि है परनतु लुमबयि अधिक होनेय केय करन मैन मोता नहि लगता हून। मेरि पेरसोनलिती बहुत हि चरमिनग है और लदकियन मेरि तरफ़ असनि सेय अकरशित हो जति है। बचपन सेय लेकर अब तक कफ़ि लदकियन मेरि दोसत बन चुकि हैन। मैनेय ईत रूरकी सेय एनगिनीरिनग करनेय केय बद ईम अहमेदबद सेय मबा किया है और अज कल देलहि मेन हि अपनि एक परिवरिक ओरगनिसतिओन मेन कम करता हून। यहन सेय मुझ को 7-8 लख रुपये परति वरश सलरी केय रूप मेन मिलतेय हैन और मैन देलहि केय सौथ एक्स मेन रहता हून। हन तो दोसतो लगता हैन कि अप बोर होनेय लगेय हैन इस लिये अब मैन अपनि कहनि सतरत करता हून।

More Sexy Stories  मेरी गर्लफ्रेंड की बेस्ट फ्रेंड ने चूत चुदवाई

बत उन दिनो कि है जब मैन एलेवेनथ सलस्स मेन पधता था और उस समया मेरि उमरा लगभग 16 वरश कि होगि परनतु मेरि कद कथि का उत्तहन अस्सह्हा था जिस वजहा सेय कोइ भि मुझ को 18-20 वरश सेय कम नहि समझता था। हमरि सोलोनेय मैन हि एक लदका और रेहता था जो कि बचपन सेय हि मेरा पक्का दोसत था और हुम दोनो लगभग हर समया एक सथ हि रहतेय थेय। उसकेय पितजि एक सरकरि अफ़सर थेय और परिवर मेन उसकि मता जि के अलवा एक बदि बहिन और तीन छोतेय भै थेय। मेरेय दोसत का नम सुधिर और उसकि बहिन का नम पूनम था और वोह बसस परत फ़िरसत मेन पध रहि थि। पूनम बहुत हि खूबसूरत थि। उसका रनग एक दुम गोरा चित्ता था और उसकि हेघत होगि लग भग 5फ़त 4इनचेस, अनखेन एक दुम कलि और बदि बदि मनो हर समया उसकि अनखेन कुछ कहना चहति हो। जब वोह अनखोन मेन कजल लगा कर कजल कि लिने को अनखोन सेय बहर नकलति थि गज़ब हि धा देति थि। शरिर 36-24-38 केय सिज़े मेन था और देखनेय मेय सेक्सी लगता था। उसकि चूचियन कफ़ि बदि थि सिज़े रहा होगा लग भग 36/38 लेकिन एक दुम कसि हुयि और चूतद तो बुस कया कहनेय एक दुम भरेय भरेय और गोल-गोल। जब चलति थि तो ऐसा मलूम होता था कि दो बदि-बदि गेनद या फ़ूतबल्ल अपस मेन रगद खा रहि हो। वोह आम तोर सेय तिघत सलवर कमिज़ या चूरि दर पज़मा और कुरति पहनति थि जिसमेय उसका योवन देखनेय केय लयक होता था खस तौर पर उसकेय उभरेय हुये चूतद तो एक दुम मसत थेय। कभि कभि वोह सकिरत और तोप भि पहिन लेति थि अयर उसमेय उसकि उमरा का पता नहि चलता था। मैन शुरु सेय हि पधनेय मेन बहुत हि होशियर था सपेसिअल्ली इन मथेमतिसस और सुधिर मथेमतिसस मेन कमजोर था तो वोह मेरेय सथ हि सतुदी करता था और उसकेय सथ हि पूनम भि हमरेय सथ हि सतुदी करति थि। जयदा तर सतुदी रत को हमरेय घर पर हि होति थि कयोन कि उनकेय परिवार मेन कफ़ि सदसया थेय इस लिये सुधिर और पूनम रत को मेरेय घर पर हि अ जया करतेय थेय और कफ़ि देर तक सतुदी करतेय रहतेय थे। इस तरह सतुदी करनेय कि वजहा सेय मैन और पूनम अपस मेन कफ़ि घूल मिल गये थे और एक दूसरेय केय सथ एक दुम फ़री थेय।

More Sexy Stories  हिंदी सेक्स स्टोरी कैसे मैं बाप से जानवर बना

वैसेय भि पदोस मेन रहनेय के करन हमरा और उनकेय परिवार मेन कफ़ि अना जना था। चूनकि मैन कफ़ि सुनदेर और समरत था लदकियन मेरि तरफ़ कफ़ि अकरशित होति थि और मेरेय सथ दोसति करनेय कि इछा रखति थि। पूनम भि मेरि तरफ़ कफ़ि अकरशित थि और कै बर मुम्मी सेय मज़क मेन कहा करति थि कि मेरा दुलहा तो विक्की हैन। मैन तो विक्की सेय हि शदि करूनगि और मुम्मी हनस कर तल जति।वोह कयि बर मुझ सेय भि कहति थि कि विक्की अज तो तु कफ़ि समरत और सुनदेर लगरहा हैन बिलकुल दुलहेय रजा जैसा। अजा मेरेय सथ शदि करलेय और मैन हनस पदता। मैन भि उसको पसनद करता था और कयि बर उसको धयन मेन रख कर मूथ भि मरता था। मैन मन हि मन उसको चोदना चहता था पर कहनेय सेय दरता था कि कहि वोह बुरा ना मान जये और रत को पधना बनद करदेय। ऐसेय हि दिन कत रहे थेय।दुशेहरा अनेय वला था और दुशरेय कि छुत्तियन चल रहि थि। ऐसेय हि मेन एक दिन मेरि सुधिर के सथ कुछ कहा सुनि हो गयि और बत यहा तक बद गयि कि उसकि मेरि बोलचल बनद हो गयि। लदयि केय बद सुधिर रत को पधनेय भि नहि अया केवल पूनम हि अयि और उसनेय पूनम को येह तो कहा नहि कि मेरा और उसका झगरा हो गया है बलकि येह कहा दिया कि उसकि तबियत थिक नहि है इस लिये वोह अज रत को पधनेय नहि जयेगा। पूनम उस रोज तो कुछ समझ नहि पयि लेकिन सुधिर नेय जब अगलेय रोज भि जनेय सेय मना कर दिया और उसको भि रोकनेय लगा तो उसका मथा थनका और कहा कि तु जये या ना जये पर वोह तो वहि विक्की केय यहन हि सतुदी करेगि और येह कह कर हमरेय यहन अ गयि।

Pages: 1 2 3 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *